उस कौफी शाप में बैठी मैं बड़ी देर से दरवाजे के बाहर आते जाते कदमों को देख रही थी. कदमों को पढ़ना भी एक कला है. दिल्ली की बसों या मेट्रो में लोगों के चेहरों को पढ़ना भी मेरी आदत में शुमार है. मैं चेहरे देख कर व्यक्ति के व्यवहार, पीड़ा या खुशी का अंदाजा लगाते हुए आराम से अपना सफर तय करती हूं. उस रोज मन बड़ा उदास सा था, इसलिए दोपहर बाद कौफी हाउस में आकर बैठ गई थी. नजरें कौफी हाउस के दरवाजे पर अटक गईं. दरवाजे के पार एक जोड़ी कदम सफेद चूड़ीदार में चहकते हुए जा रहे थे. कदमों में आवारगी का पुट था. पंजों पर उछल-उछल कर चलने के क्रम से पता चलता था कि इन कदमों को धारण करने वाली युवती काफी प्रसन्नचित्त है. नई-नई जवानी की मदहोशी में मुब्तिला, भविष्य की चिंताओं से मुक्त कदम…. तभी साड़ी में लिपटे कुछ हल्के और थके कदम सामने से गुजरे.

पुरानी सी मटमैली बैली में फंसे कदम. सुस्त चाल गवाह थी कि जीवन का बोझ ढोते-ढोते इन कदमों की जिम्मेदारियां इस उम्र में भी कम नहीं हुई हैं. अपनी ख्वाहिशों को मार कर बच्चों के भविष्य और खुशियों के लिए जीवन अर्पण करने वाली शायद आज भी सुबह से शाम दफ्तर और घर के बीच खट रही है. इतने में एक जोड़ी कदम दूसरी जोड़ी के साथ नजर आए. ये कदम बहुत उल्लासित से थे. थिरकन का भाव लिए हुए. ये कदम दूसरे कदम से कुछ लिपट लिपट कर चल रहे थे. जरूर ये पति पत्नी हैं. एक दूसरे के प्यार में डूबे हुए. तभी एक जोड़ी कदम कौफी शाप के दरवाजे से भीतर आते नजर आए. गोरे गोरे, सलोने कदम… काले रंग की सैंडल में… बेहद खूबसूरत.

पास आते इन कदमों पर मेरी नजरें गड़ गईं. सलीके से कटे हुए नाखून, साफ और गुलाबी रंगत लिए हुए एड़ियां, पैरों का शेप देख कर ही अंदाजा हो गया कि व्यक्ति का कद छह फुट के करीब है. ये कदम मेरी ही ओर बढ़ते आ रहे हैं. आते-आते यह कुछ दूरी पर रुक गये और फिर सामने वाली टेबल पर थम गये. मेरी नजरें बड़ी देर तक इन कदमों से लिपटी रहीं. फिर दिल चाहा कि नजरें उठा कर इन खूबसूरत कदमों के स्वामी की शक्ल देखूं. मैंने नजरें उठायीं. सामने वाली टेबल पर वह बैठा था. सफेद कुर्ता और नीली जींस. गजब की पर्सनेलिटी. गोल खूबसूरत चेहरा, गोरी रंगत, भूरे बाल, तीखी मूछें और काली घनेरी पलकों वाली बड़ी-बड़ह आंखें. वह जरूर किसी सम्मानित और संस्कारी परिवार का व्यक्ति है, मेरी धारणा बनी. उसकी टेबल पर बेयरा कौफी का प्याला रख गया था. वह धीरे-धीरे कौफी सिप करने लगा. तभी उसने अपनी जेब से एक सफेद लिफाफा निकाल कर खोला.

अन्दर से एक कागज निकाला और पढ़ने लगा. मेरी नजरें उसके चेहरे से हटने को तैयार नहीं थीं. उसके होंठों पर मुस्कान तैर रही थी. यह जरूर इसका नियुक्ति पत्र होगा. ऐसी मुस्कान तो तभी चेहरे पर दिखती है. या फिर उसकी प्रेमिका का पत्र… जिसकी कल्पना ने उसके चेहरे की रंगत को और दमका दिया था. उसने पत्र वापस लपेट कर लिफाफे में डाला और टेबल पर रख कर कौफी सिप करने लगा. मैं अभी उसके बारे में अपनी धारणा को और विस्तार दे रही थी, कि अचानक वह उठ कर दरवाजे की ओर चल दिया.

अरे… उसका पत्र तो टेबल पर ही रह गया. मैं उसकी टेबल की तरफ झपटी कि उसका पत्र उठा कर उसे पकड़ा दूं. टेबल से पत्र उठाया, मगर एक क्षण में मेरे जहन में यह विचार कौंधा कि पत्र को खोल कर देखूं. आखिर इसमें ऐसा क्या था जिसको पढ़ कर वह इतना खुश था. मैं उसकी टेबल पर बैठ गई. लिफाफा खोल कर पत्र निकाला. वहां सफेद कागज पर अखबार की छोटी सी कटिंग चिपकी थी, उसकी फोटो के साथ, लिखा था – आतंकी संगठन हिजबुल के आतंकी उस्मान की तलाश में दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम कश्मीर रवाना…

Tags:
COMMENT