- सरोज गोयल

मेरी निगाह कलैंडर की ओर गई तो मैं एकदम चौंक पड़ी...तो आज 10 तारीख है. उर्मिल से मिले पूरा एक महीना हो गया है. कहां तो हफ्ते में जब तक चार बार एकदूसरे से नहीं मिल लेती थीं, चैन ही नहीं पड़ता था, कहां इस बार पूरा एक महीना बीत गया.

Tags:
COMMENT