‘‘आजकल काम मंदा है. 2-4 दिन ठहर कर आना,’’ लहना सिंह ने सादा वरदी में महीना लेने आए ट्रैफिक पुलिस के एक सिपाही से कहा.

‘‘यह नहीं हो सकता. इंचार्ज साहब ने बोला है कि पैसे ले कर ही आना. आज बड़े साहब के यहां पार्टी है. वहां शराब की एक पूरी पेटी पहुंचानी है,’’ सिपाही ने कोल्डड्रिंक की बोतल खाली कर उसे थमाते हुए कहा.

COMMENT