कालेज के गेट में ऐंटर करते ही मृणालिनी ने रोहित को देखा तो अचंभे से चिल्लाई, ‘‘हाय रोहित,’’ लेकिन रोहित का ध्यान कहीं और था. उस ने मृणालिनी की ओर देखा भी नहीं और डेजी के पास पहुंच कर बोला, ‘‘हाय डेजी, माई स्वीट हार्ट.’’

मृणालिनी ने देखा तो चौंकी. कितना बदल गया है रोहित. कहां तो स्कूल में मुझे कनखियों से देखता शर्माता था और कहां यह बदला रूप. मृणालिनी और रोहित दिल्ली के एक नामी कालेज में पढ़ते थे. स्कूल में मृणालिनी रोहित से एक क्लास पीछे थी. दोनों साइंस स्ट्रीम से पढ़ाई कर रहे थे. रोहित मृणालिनी के घर से थोड़ी दूरी पर ही रहता था सो कभीकभी नोट्स आदि लेने व पढ़ाई में हैल्प के लिए वह रोहित के घर चली जाती थी. रोहित शर्माता हुआ उस से बात करने में भी हिचकता था. लेकिन कभीकभी उन दिनों भी वह मृणालिनी की सुंदरता की तारीफ करता तो वह सिहर उठती. मन ही मन वह उसे चाहने लगी थी. कई सपने देख बैठी थी रोहित से मिलन के. लेकिन कालेज में ऐडमिशन के बाद से ही रोहित का उस से संपर्क कम होने लगा था. जब मृणालिनी ने भी 12वीं पास कर ली और उसी कालेज में ऐडमिशन लिया तो वह इस बात से अनजान  थी कि रोहित उसे यहीं मिल जाएगा. मृणालिनी ने कालेज में प्रवेश किया तो उसे किसी अन्य लड़की से बतियाते देख जैसे अपना सपना टूटता लगा.

रोहित जिस से बात कर रहा था वह गजब की थी. गोरा रंग, तीखे नयन, लंबे बाल तिस पर धूप का चश्मा और ड्रैस ऐसी कि कोई भी शरमा जाए. फंकी टीशर्ट के साथ निकर में से निकलती उस की सुडौल टांगें और टीशर्ट व निकर के बीच में झांकती आकर्षक नाभि उसे सैक्सुअली अट्रैक्शन दे रही थी. मृणालिनी मन मार कर उस के पास गई और रोहित को पुकारा. रोहित ने मुड़ कर देखा तो पूछने लगा, ‘‘अरी मृणालिनी तुम. इसी कालेज में ऐडमिशन लिया है क्या?’’

‘‘हां,’’ वह इतना ही कह पाई थी कि रोहित डेजी का हाथ पकड़ जाते हुए बोला, ‘‘यह है डेजी, मेरी क्लासमेट. अच्छा, मिलते हैं फिर,’’ और चला गया. ‘कहां तो रोहित उसे देख चमक जाता था और कहां अब इग्नोर करता उस सैक्सी बाला के साथ चला गया. ऐसा क्या जादू है इस में,’ वह सोचने लगी. तभी अमिता ने उसे पुकारा, ‘‘अरे मृणालिनी, क्लास में नहीं चलना क्या?’’

‘‘हां, चलो.’’ कह कर वह अमिता के साथ चल दी. रास्ते में अमिता ने पूछा, ‘‘तुम रोहित को जानती हो क्या?’’

‘‘हां…’’ कुछ रुकते हुए मृणालिनी ने अपनी स्कूली दोस्ती की बात उसे बता दी. अमिता बोली, ‘‘कहां तुम और कहां डेजी, देखा है उस के लुक को, उस की सैक्स अपील को. एक तुम हो मोटा नजर का चश्मा लगा कर सलवारकुरते में बहनजी बन कर आ जाती हो. मैं ने तो तुम्हें कभी जींस में भी नहीं देखा. आजकल पर्सनैलिटी बनाने के लिए सैक्सी लुक चाहिए. रोहित तो वैसे ही फ्लर्ट किस्म का लड़का है. सैक्सुअली अट्रैक्शन के पीछे भागने वाला.

‘‘उस के साथ जो लड़की थी, पता है मिस कालेज है वह. दोनों एक ही क्लास में हैं. पहले रोहित भी शर्मीला था पर धीरेधीरे इतना खुल गया कि फ्लर्ट करने लगा.’’ आज मृणालिनी का मन क्लास में न लगा. उस के मन में एक ही बात कौंध रही थी कि वह कैसे रोहित को पाए. कैसे रोहित के दिल में जगह बनाए. ‘‘चलो, सब चले गए,’’ अमिता ने कहा तो जैसे मृणालिनी नींद से जागी. उस की डबडबाई आंखें उस के दिल का हाल बयां कर रही थीं. अमिता को समझते देर न लगी. वह बोली, ‘‘अभी तक रोहित के बारे में सोच रही हो, छोड़ो उसे बिंदास जिओ.’’

‘‘नहीं अमिता मेरा मन नहीं मानता,’’ मृणालिनी रोंआसी हो गई.

‘‘मृणालिनी, अगर तुम रोहित को पाना चाहती हो तो मौडर्न बनो, खुद में अट्रैक्शन पैदा करो, तुम किसी भी तरह से डेजी से कम नहीं हो. विद्या बालन वाला बहनजीनुमा लुक छोड़ो, आज बिपाशा बनने में कोई हर्ज नहीं देखना, रोहित ही नहीं पूरा कालेज तुम्हारे पीछेपीछे भागेगा.’’ मृणालिनी उदास सी घर पहुंची. हाथमुंह धोते समय बाथरूम में लगे शीशे में खुद को निहारा तो अमित के शब्द उस के कानों में गूंजने लगे. ‘वाकई बहनजी ही तो लगती हूं मैं. ठीक कह रही थी अमिता. सैक्सुअली अट्रैक्शन तो जैसे मुझ में है ही नहीं. इस उम्र में देह आकर्षण ही तो विपरीतलिंगी को अट्रैक्ट करता है. मैं भी बदलूंगी अपने लुक को.’ लंच करते समय उस ने मम्मी से पूछा, ‘‘मम्मी, क्या मैं अपने लिए दोचार अच्छी ड्रैसेज खरीद लूं.’’ मां ने भी मना नहीं किया और शाम को खुद उस के साथ मार्केट गईं. मृणालिनी को सलवारकमीज, पाजामी, लैगिंग्स के बजाय जींसटौप, ट्यूब ड्रैस, शौर्ट्स, निकर जैसी स्टाइलिश ड्रैसेज खरीदते देख मम्मी हैरान हुईं. लेकिन मृणालिनी ने कह दिया, ‘‘आजकल यही सब चलता है. बोल्ड अंदाज न हो तो मम्मी कोई नहीं पूछता कालेज में.’’ मम्मी शांत हो गईं. घर आ कर मृणालिनी एकएक ड्रैस ट्राई करने लगी. शौर्ट ड्रैस ट्राई करते समय उस का ध्यान टांगों के बालों पर गया तो उसे खुद से ही घिन हुई. फिर उस ने कल के लिए जींस और टौप पहनना ही उचित समझा और निर्णय किया कि कल कालेज से आ कर ब्यूटी पार्लर भी जाएगी. मृणालिनी को जींस और टौप में देख उस की सहेलियां हतप्रभ रह गईं. अमिता ने भी देखा तो बोली, ‘‘वाउ, क्या फिगर है यार.’’

मृणालिनी तारीफ सुन फूली न समाई. जब उस ने कालेज के लड़कों को एकटक अपनी तरफ देखते हुए देखा तो उस का हौसला बढ़ा. वह बड़े चाव से रोहित के क्लासरूम के बाहर गई, लेकिन वह कुछ लड़कियों से बातचीत में मशगूल था. जब बहाने से बुलाया तो वह उसे एकटक देखता रह गया. फिर बहाना बनाती मृणालिनी बोली, ‘‘मुझे फर्स्ट ईयर के तुम्हारे नोट्स चाहिए. दोगे क्या?’’ ‘‘हां, ले लेना पर अभी जाओ,’’ उसे इग्नोर करता रोहित बोला तो मृणालिनी को बहुत बुरा लगा. उस ने आ कर अमिता को बताया तो वह भी नाराज हुई.

‘‘अरे, तुम्हें कालेज में भी नोट्स मांगने थे. उसे कौफी पीने चलने को कहती. कैंटीन में खाने चलने को कहती ताकि अपने दिल की बात कह सके,’’ अमिता ने समझाया. ‘‘ठीक है अगली बार देखूंगी,’’ कह वह वहां से चली गई. लेकिन उस ने सोच लिया था कि वह अपने लिए अट्रैक्शन पैदा कर के ही रहेगी. घर आ कर लंच किया और ब्यूटी पार्लर चल दी. टांगबांहों की वैक्सिंग और मैनीक्योरपैडिक्योर करवाया, साथ ही थ्रैडिंग भी. अगले दिन रैड ट्यूब ड्रैस के साथ सीधेसीधे बालों का हेयरस्टाइल बना, साथ में हाईहील सैंडिल पहन कर वह गजब ढाती दिखी. कालेज पहुंची तो दूर से ही उस की चाल, मखमली टांगें, सुंदर बांहें देख सभी दिल थाम बैठे. अमिता ने देखा तो टोक दिया, ‘‘यह क्या हुलिया बना लिया तुम ने,’’ फिर उस का चश्मा उतारती हुई बोली, ‘‘कम से कम इसे तो उतार लेती. ऐसे लगता है जैसे मखमली चादर में टाट का पैबंद लगा दिया हो.’’

‘‘क्या करूं अमिता. इस के बिना ब्लैकबोर्ड पर कुछ दिखेगा नहीं. मैं पढ़ूंगी कैसे? मुझे कालेज की पढ़ाई भी तो करनी है,’’ मृणालिनी बोली.

‘‘तो कौंटैक्ट लैंस लगा लो. जरूरी है मोटा चश्मा लगाना और हां, अगर लगाना ही है तो धूप का चश्मा लगाओ न ताकि देखते ही हर कोई बोले, ‘गोरे गोरे मुखड़े पे कालाकाला चश्मा…’’’ यह बात मृणालिनी की समझ में आ गई थी. अब मृणालिनी ने चश्मे को भी बाय कह दिया. रोज तरहतरह की अटै्रक्टिव ड्रैसेज पहन उस की इमेज भी सैक्सुअल अट्रैक्ट करने वाली बन गई थी. हर कोई उसे मुड़मुड़ कर देखता. उस दिन मृणालिनी रैड ड्रैस में थी. सभी उस की प्रशंसा कर रहे थे. वह खुशीखुशी रोहित के पास गई तो वह भी उसे देखता रह गया. फिर हायहैलो के बाद मृणालिनी बोली, ‘‘रोहित, आज शाम कौफी पीते हुए घर चलें. वहीं से तुम मुझे घर छोड़ देना.’’

रोहित कुछ कहता, इस से पहले ही पास खड़ी डेजी ने उस की बांहों में बांह डाल दी तो वह चुप रह गया. इस पर मृणालिनी को काफी ईर्ष्या हुई. रोहित के लिए उस के दिल में जो प्यार था वह धुंधला पड़ रहा था, अब वह सिर्फ रोहित को डेजी जैसा बन कर दिखाना चाहती थी. रोहित और डेजी को झुकाने का यह अवसर भी उसे जल्द ही मिल गया. दरअसल, मृणालिनी ने अपनी हर ड्रैस में सैल्फी खींचखींच कर कई बार अपनी डीपी चेंज की व फेसबुक पर अपना हर पोज अपलोड किया जिसे काफी लाइक भी मिले. उस दिन उस का फेसबुक पर लाइक के साथ एक कमैंट भी था. ‘तुम मिस कालेज के लिए ट्राई क्यों नहीं करतीं. छा जाओगी.’ मृणालिनी को यह बात जंच गई. उस ने झट से अमिता को फोन किया और मिस कालेज प्रतियोगिता में भाग लेने की इच्छा जताई. अमिता ने बताया, ‘‘इस प्रतियोगिता का सारा अरेंजमैंट तो रोहित ही देख रहा है. तुम उसी से बात करो. हां, अगर डांस में भाग लेना हो तो मैं तुम्हारी हैल्प कर सकती हूं क्योंकि इस बार डांस ग्रुप को कोरियोग्राफ करने वाली हूं मैं.’’

अगले दिन मृणालिनी रोहित से मिली और मिस कालेज कंपीटिशन में भाग लेने की इच्छा बताई. तभी वहां खड़ी डेजी बोल पड़ी, ‘‘अब कौए भी हंस की चाल चलेंगे,’’ और उस की सहेलियां हंस पड़ीं. मृणालिनी को बात चुभ गई. रोहित ने भी इस कंपीटिशन में भाग लेने से मना किया कि यह तुम्हारे बस का नहीं. लेकिन इरादे की पक्की मृणालिनी नाम लिखवा कर ही मानी. फिर वह अमिता के पास गई और डांस प्रोग्राम भी करना चाहा. अब मृणालिनी रोज 2 घंटे डांस की रिहर्सल करती. फिर रैंप पर चलने की प्रैक्टिस और रात को पढ़ाई. साथ ही अपने खानपान, व्यायाम का भी ध्यान रखती. कालेज फैस्टिवल का दिन था. पहले डांस प्रोग्राम था और मृणालिनी का ही पहला कार्यक्रम था. दिल पक्का कर वह स्टेज पर उतरी और डांस शुरू किया, ‘सैक्सी सैक्सी सैक्सी मुझे लोग बोलें, हाय सैक्सी, हैलो सैक्सी क्यों बोलें…’ गाने के साथ उस के स्टैप्स और ड्रैस ने ऐसा धमाल मचाया कि स्टेज से उतरते ही लोग उसे सैक्सी…सैक्सी कहने लगे.

उस के डांस पर पूरा हाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा. कालेज के फैस्टिवल में अंतिम कार्यक्रम ‘मिस कालेज’ का कंपीटिशन था. सो उसे थोड़ा आराम करने का समय भी मिल गया. उस ने रैंप पर आने के लिए वही रैड ट्यूब ड्रैस चुनी जिस पर सब से ज्यादा लाइक मिले थे. वह इस ड्रैस में गजब की सैक्सुअली अट्रैक्टिव लग रही थी. जब वह रैंप पर उतरी तो उस के गाने व नृत्य के कायल स्टूडैंट्स सैक्सी…सैक्सी… कह उठे. सारा वातावरण हाय सैक्सी… की धुन से सराबोर हो गया. जितनी तालियां मृणालिनी के अट्रैक्शन पर बजीं उतनी किसी अन्य पर नहीं. लिहाजा, उसे ही ‘मिस कालेज’ का ताज पहनाया गया. अगले ही पल जब उसे मिस कालेज की ट्रौफी दी गई तो डेजी देखदेख कर जलन के मारे गढ़ी जा रही थी और ट्रौफी व ताज के साथ अनूठे अंदाज में खड़ी मृणालिनी सब पर बिजलियां गिरा रही थी.

अगले दिन मृणालिनी ने कालेज गेट से ऐंटर किया ही था कि आवाज आई, ‘‘हाय सैक्सी…’’ जानीपहचानी आवाज सुन कर मृणालिनी रुकी तो देख दंग रह गई. उस के पीछे रोहित था.

‘‘अरे, रोहित तुम.’’

‘‘हां, आज तक मैं तुम्हें इग्नोर करता रहा पर तुम ने सिरमौर बन कालेज में नाम कमा मुझे बता दिया कि मैं गलत था. आज शाम कालेज के बाद मेरे साथ कौफी पीने चलोगी. वहीं से साथ घर चलेंगे.’’ ‘‘नहीं, मैं कोई दूध पीती बच्ची नहीं रोहित. कल तक जब तुम एक शर्मीले लड़के थे ठीक था. फिर तुम फ्लर्टी हो गए और कभी इस की बगल तो कभी उस की बगल. मेरी दोस्ती भी भूल गए. याद है सब से पहले तुम्हीं ने मुझे खूबसूरत कहा था लेकिन कालेज में आ कर तुम्हें सिर्फ सैक्सुअल अट्रैक्शन में रुचि रही सो मुझे इग्नोर करते रहे. मैं तुम्हारे पीछे भागती फिरती थी और तुम मेरी ओर देखते भी न थे…’’

अभी मृणालिनी ने अपनी बात पूरी भी नहीं की थी कि पीछे से आवाज आई, ‘‘हाय सैक्सी…’’

‘‘ओह, कपिल तुम,’’ फिर एक नजर रोहित पर डाल कपिल से बोली, ‘‘चलो, आज कौफी हाउस चलते हैं अमिता को भी बुला लेते हैं,’’ कहती हुई मृणालिनी कपिल के साथ चली गई अमिता का धन्यवाद करने जिस ने उसे इस मुकाम तक पहुंचाया था. रोहित ठगा सा दोनों को जाता हुआ देख रहा था.

VIDEO : प्री वेडिंग फोटोशूट मेकअप

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

COMMENT