केशव बाबू सठिया गए हैं. क्या सचमुच…वे तो अभी पचास के भी नहीं हुए, फिर भी उन की बीवी ऐसा क्यों कहती है कि वे सठिया गए हैं. उन्होंने तो ऐसा कोई कार्य नहीं किया. बस, बीवी की बात का हलका सा विरोध किया था. सच तो यह है कि वे जीवनभर अपनी पत्नी का विरोध नहीं कर पाए. उस के खिलाफ कभी कुछ कह नहीं पाए और बीवी अपनी मनमानी करती रही. दरअसल, उन की बीवी नीता उन पत्नियों में से थी जो धार्मिक होती हैं. रातदिन पूजापाठ में व्यस्त रहती हैं, पति को सबकुछ मानती हैं, परंतु पति का कहना कभी नहीं मानतीं. ऐसी पत्नियां मनमाने ढंग से अपने पतियों से हर काम करवा लेती हैं.

केशव बाबू उन व्यक्तियों में से थे जो हर बात को सरल और सहज तरीके से लेते हैं. किसी बात का पुरजोर तरीके से विरोध नहीं कर पाते. कई बार वे दूसरों के जोर देने पर गलत बात को भी सही मान लेते हैं. वे बावजह और बेवजह दोनों परिस्थितियों में झगड़ों से बचते रहते हैं. उन की इसी कमजोरी का फायदा उठा कर नीता हमेशा उन के ऊपर हावी रहती है. आज भी कोई बहुत बड़ी बात नहीं हुई थी. बेटे विप्लव की पढ़ाई और भविष्य को ले कर पतिपत्नी के बीच चर्चा हो रही थी. उन का बेटा एमसीए कर के घर में बैठा हुआ था. 3 साल हो गए थे. अभी तक उस का कहीं प्लेसमैंट नहीं हुआ था. दरअसल, केशव बाबू उस के एमसीए करने के पक्ष में नहीं थे. वह पढ़ाई में बहुत साधारण था. बीसीए के लिए भी कई लाख रुपए दे कर मैनेजमैंट कोटे से उस का ऐडमिशन करवाया था. इस के पक्ष में भी वे नहीं थे क्योंकि वे जानते थे कि बीसीए करने के बाद भी वह अच्छी पोजीशन नहीं ला पाएगा. इस स्थिति में उस का कैंपस सेलैक्शन असंभव था और हुआ भी यही, बीसीए में उस के बहुत कम मार्क्स आए थे. फिर भी जिद कर के उस ने एमसीए में ऐडमिशन ले लिया था. इस पूरे मामले में मांबेटे एकसाथ थे और केशव बाबू अकेले.

केशव बाबू ने केवल इतना कहा था, ‘‘इतनी कम मैरिट में किसी अच्छी कंपनी में तुम्हारे लिए नौकरी मिलना असंभव है. क्यों न तुम कंपीटिशन की तैयारी करो और छोटीमोटी नौकरी कर लो.’’इसी बात पर नीता भड़क गई थी. तीखे स्वर में बोली थी, ‘‘आप तो सठिया गए हैं. कैसी बेतुकी बात कर रहे हैं. एमसीए करने के बाद बेटा क्या छोटीमोटी सरकारी नौकरी करेगा? आप की अभी 10 साल की नौकरी बाकी है. बेटा कोई बूढ़ा नहीं हुआ जा रहा है और न हम भूखों मर रहे हैं. न हो तो बेटे को कोई और कोर्स करवा देते हैं. ज्यादा डिगरियां होंगी तो नौकरी मिलने में आसानी होगी.’’

केशव बाबू ने एक लाचार नजर नीता पर डाली और फिर बेटे की तरफ देखा. वह एक कोने में चुपचाप खड़ा इस तरह उन दोनों की बातें सुन रहा था, जैसे उस से संबंधित कोई बात नहीं हो रही थी. परंतु जब उन्होंने ध्यान से देखा तो बेटे के चेहरे पर एक कुटिल मुसकान विराजमान थी, जैसे कह रहा था, ‘आप लोग मेरे लिए लड़ते रहिए. पैसा बरबाद करते रहिए, परंतु करूंगा मैं वही जो मेरा मन करेगा.’ केशव बाबू को अपने बेटे की इस कुटिलता पर बड़ा गुस्सा आया. परंतु वे अच्छी तरह जानते थे कि उन के गुस्से की आग पर नीता के तर्कहीन पानी के छींटे पड़ते ही वे बर्फ की तरह ठंडे पड़ जाएंगे. तब उन्हें प्यार की गरमी देने वाला कोई नहीं होगा. वे रातभर इस तरह करवटें बदलते रहेंगे जैसे किसी ने उन के बिस्तर पर तपती रेत के साथसाथ कांटे भी बिछा दिए हों.हारे हुए जुआरी की तरह अंतिम चाल चलते हुए केशव बाबू ने कहा, ‘‘नौकरी बुद्धि से मिलती है, बहुत सी डिगरियों से नहीं और उस के लिए एक ही डिगरी काफी होती है. सोच लो, हमारी एक बेटी भी है. वह इस से ज्यादा बुद्धिमान और पढ़ने में तेज है. अपने जीवन की सारी कमाई बुढ़ापे तक इस की पढ़ाई पर खर्च करते रहेंगे, तो बेटी के लिए क्या बचेगा? उस की शादी के लिए भी बचत करनी है.’’

केशव बाबू की इतनी सरल और सत्य बात भी नीता को नागवार गुजरी और वह फिर से भड़क उठी, ‘‘आप को समझाने से कोई फायदा नहीं. आप सचमुच सठिया गए हैं. बेटी की शादी में बहुत सारा दहेज दे कर क्या करेंगे? सादी सी शादी कर देंगे.’’

‘‘परंतु क्या उस की पढ़ाई पर खर्चा नहीं होगा?’’

नीता की बुद्धि बहुत ओछी थी, ‘‘उस को बहुत ज्यादा पढ़ालिखा कर अपना पैसा क्यों बरबाद करें. वह कौन सा हमारे घर में बैठी रहेगी और हमारे बुढ़ापे का सहारा बनेगी? लड़का हमारा वंश आगे बढ़ा कर हमारा नाम रोशन करेगा.’’ अपनी पत्नी की ओछी सोच पर केशव बाबू फिर तरस खा कर रह गए. इस के सिवा और कर भी क्या सकते थे. उन के सीधे स्वभाव का फायदा उठा कर नीता हमेशा उन पर हावी होती रही थी. अगर वे कभी अपनी आवाज ऊंची करते, तो उस की आवाज उन से भी ऊंची हो जाती. वह चीखनाचिल्लाना शुरू कर देती. इसी बात से वे डरते थे कि महल्ले वाले कहीं यह न समझ लें कि वे पत्नी के साथ मारपीट जैसा घटिया कृत्य करते हैं. सो, वे चुप हो जाते, फिर भी नीता का बड़बड़ाना जारी रहता. तब वे उठ कर बाहर चले जाते, सड़क पर टहलते या पार्क में जा कर बैठ जाते.केशव बाबू को बेटी की तरफ से कोई चिंता नहीं थी. वह पढ़ने में तेज थी. चिंता थी तो बस बेटे को ले कर, वह पढ़ने में न तो जहीन था, न बहुत ज्यादा अंक ही परीक्षा में ला पाता था. लेदे कर केवल डिगरी ही उस के हाथ में आती थी, परंतु केवल डिगरी से ही अच्छी नौकरी नहीं मिल सकती थी. पता नहीं, आगे चल कर क्या करेगा?

इस बार भी नीता के आगे केशव बाबू की नहीं चली और बेटे ने एमबीए में ऐडमिशन ले लिया. इस के लिए भी उन्हें कई लाख रुपए खर्च करने पड़े. अब कई साल तक बेटा निश्ंिचत हो कर बाप के पैसे को लुटाता हुआ ऐश कर सकता था. न उसे पढ़ाई की चिंता करनी थी, न नौकरी की. बटी ने इंटर कर लिया तो एक बार फिर घर में हंगामा हुआ. वह 90 प्रतिशत अंक ले कर उत्तीर्ण हुई थी और बीटैक करना चाहती थी. केशव बाबू उस के पक्ष में थे, परंतु नीता नहीं चाहती थी. बोली, ‘‘जरा दिमाग से काम लो. एक साल बाद बेटी 18 की हो जाएगी. फिर उस की शादी कर देंगे. बीटैक कराने में हम पैसा क्यों बरबाद करें. ज्यादा पढ़ेगी तो विवाह भी ज्यादा पढ़ेलिखे लड़के के साथ करना पड़ेगा. उसी हिसाब से विवाह में भी पैसा ज्यादा खर्च होगा. हम क्यों अपना पैसा बरबाद करें. उस का पति चाहेगा तो उसे आगे पढ़ाएगा, वरना घर में बैठेगी.’’ केशव बाबू हैरत से नीता की ओर देखते हुए बोले, ‘‘तुम खुद पढ़ीलिखी हो और बेटी के बारे में इस तरह की बातें कर रही हो. आज नारी के लिए शिक्षा का महत्त्व कितना बढ़ चुका है, यह तुम नहीं जानती?’’

‘‘जानती हूं, बीए कर के मुझे क्या मिला? कौनसी नौकरी कर रही हूं. बीटैक कर के बेटी भी क्या कर लेगी. शादी कर के बच्चे पैदा करेगी, उन्हें पालपोस कर बड़ा करेगी, घर संभालेगी और बैठीबैठी मोटी होगी, बस. इस के अलावा लड़कियां क्या करती हैं, बताओ?’’ ‘‘जो लड़कियां नौकरी कर रही हैं और ऊंचेऊंचे पदों पर बैठी हैं, वे भी किसी की बेटियां, पत्नियां और मां होंगी. उन के घर वाले अगर इसी तरह सोचते, तो आज कोई भी नारी घर के बाहर जा कर नौकरी नहीं कर रही होती. वे नौकरियां कर रही हैं और देश, समाज व परिवार के विकास में योगदान दे रही हैं,’’ केशव बाबू जोर दे कर बोले.

‘‘बस, रहने दो. 2-4 औरतों के नौकरी करने से देश का विकास नहीं होता, न समाज का भला होता. नौकरी करने वाली स्त्रियों के घर बिगड़ जाते हैं. वे अपनी संतानों की ठीक से देखभाल नहीं कर पातीं. परिवार, समाज और देश के विकास व उन्नति के लिए लड़कों का सक्षम होना परम आवश्यक है. हमें बेटे की शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए. वही हमारे बुढ़ापे का सहारा है.’’ केशव बाबू ने कटाक्ष किया, ‘‘तभी तो हमारे सुपुत्र पढ़ाई में कुछ ज्यादा ही ध्यान दे रहे हैं. 3-3 डिगरियां लिए बैठे हैं और नौकरी हाथ नहीं आ रही है. डिगरी ले कर चाटेगा?’’

‘‘आप तो पता नहीं क्यों बेटे के खिलाफ रहते हैं. देख लेना, एक दिन वही हमारा नाम रोशन करेगा. मुझे तो डर है, बेटी बाहर जा कर हमारी नाक न कटवा दे?’’

‘‘वह तो पता नहीं कब हमारा नाम रोशन करेगा, परंतु तुम्हारी घटिया सोच के चलते मैं बेटी के जीवन को अंधकारमय नहीं बना सकता. बेटे के लिए तुम हमेशा अपनी मनमानी करती रही, परंतु बेटी के संबंध में तुम्हारी एक भी नहीं चलने दूंगा. वह जहां तक पढ़ना चाहेगी, मैं पढ़ाऊंगा,’’ केशव बाबू उत्तेजना में उठ कर खड़े हो गए.

‘‘बेटी के ऊपर पैसा बरबाद कर के एक दिन पछताओगे.’’

‘‘बेटे के ऊपर खर्चा कर के मैं कौन सा सुख भोग रहा हूं.’’ केशव बाबू की बात पर नीता इस तरह चीखनेचिल्लाने लगी, जैसे पति से नहीं, किसी और से कह रही हो, ‘‘अरे देखो तो इस भले आदमी को, कैसी अनहोनी की बातें कर रहा है, बेटे से ज्यादा इस को बेटी की पड़ी है. अपने घर में आग लगा कर कोई हाथ सेंकता है. मैं तो हार गई इस आदमी से. पता नहीं कैसे इतने दिनों तक झेलती रही. देख लेना, यह घर को बरबाद कर के रहेगा.’’ और वह झूठमूठ के आंसू बहाने लगी. ऊंची आवाज में चीखनाचिल्लाना और रोनाधोना, यही उस के सशक्त हथियार थे. ऊंची आवाज से वह अपने पति की आवाज को दबाती थी और आंसुओं से अपनी बात मनवाती थी. आज तक वह अपने इन्हीं 2 हथियारों का अनधिकृत प्रयोग करती आ रही थी. परंतु आज वे दोनों निरर्थक सिद्ध होने वाले थे.

इस बार केशव बाबू नीता की आवाज से थोड़ा दबे, परंतु उस के आंसुओं से पराजित नहीं हुए. उन्होंने ठान लिया कि इस बार नीता की बात नहीं मानेंगे. वे बाहर जाने के लिए मुड़े, तभी उन को नीता के अलावा किसी और की सिसकियों की आवाज सुनाई पड़ी. उन्होंने ध्यान नहीं दिया था, उन की बेटी अनिका वहीं पर खड़ी थी.

वे बेटी के पास गए, ‘‘तुम क्यों रो रही हो, बेटी?’’ उन्होंने पूछा.

अनिका की रुलाई और तेजी से फूट पड़ी. केशव बाबू ने किसी तरह उसे चुप कराया और बाहर के कमरे में ला कर पूछा, ‘‘अब बताओ, तुम्हें क्या दुख है?’’ ‘‘पापा, मेरी वजह से आप के और मम्मी के बीच झगड़ा हुआ, मैं आगे पढ़ाई नहीं करूंगी,’’ उस ने हताश स्वर में कहा. केशव बाबू एक पल के लिए हतप्रभ से खड़े रहे. फिर बेटी के सिर पर हाथ रख कर बोले, ‘‘बेटा, तुम पढ़ाई करोगी. यह तुम्हारे भविष्य का ही सवाल नहीं है, मेरे आत्मसम्मान का भी सवाल है. तुम समझ रही हो न, तुम्हें कुछ बन कर दिखाना है. तुम्हें कुछ बना कर मैं दिखाना चाहता हूं कि बेटियां किसी से कम नहीं होतीं. बेटे ही नहीं, बेटियां भी मांबाप का नाम रोशन करती हैं.’’ अनिका समझ गई. बहुत पहले ही समझ गई थी. वह एक अच्छेभले, सुसंस्कृत और आर्थिक रूप से संपन्न परिवार में पैदा हुई थी, परंतु इस छोटे से घर में उस की सगी मां की सोच दकियानूसी और पुरातनपंथी थी. जब उस का बचपन जवान होने लगा था, तभी उस की समझ में आ गया था कि मां की नजरों में वह एक बोझ के समान है. उस का बड़ा भाई मां की आंखों का तारा है. हर पल वह पक्षपात का शिकार होती थी. गलती न होने पर भी उसे झिड़कियां, डांट और कभीकभी मार भी पड़ती थी, परंतु दूसरी तरफ भाई की बड़ी से बड़ी गलती पर भी उसे माफ कर दिया जाता था. खानपान, कपड़ेलत्ते में भी भाई को वरीयता दी जाती थी. मां की हठधर्मी से इस घर का माहौल हर पल विषाक्त बना रहता था.

मां के अनुचित व्यवहार से न केवल वह दुखी रहती थी, बल्कि केशव बाबू भी उदास और थकेथके से रहते थे. वह पापा का दर्द समझती थी, परंतु कुछ कर नहीं सकती थी. सभी दुखों और कष्टों से नजात पाने के लिए वह किताबों की दुनिया में खो गई. वह अपना ज्यादातर समय पढ़ने में बिताती, ताकि मां की खिटखिट से छुटकारा मिल जाए और पिता का उदास व थका चेहरा देख कर उस की उदासी और ज्यादा न बढ़े. पढ़ाई में उस की एकाग्रता के कारण ही वह अच्छे नंबरों से पास होती रही. केशव बाबू के लिए बेटी को उच्च शिक्षा दिलाना एक प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया था. उन के प्रोत्साहन से अनिका ने लगन से तैयारी की और उस का एक अच्छे कालेज में दाखिला हो गया. केशव बाबू ने उसे होस्टल में डाल दिया, ताकि घर के माहौल से वह दूर रह कर मन से पढ़ाई कर सके. रोजरोज की बकझक और लड़ाईझगड़े से वह पढ़ाई में मन कैसे लगाती? इस बीच, पतिपत्नी के बीच कितने विवाद हुए, वाकयुद्ध हुए, कितने लिटर आंसू बहे, कितनी धमकियां दी गईं, इन सब का बयान करना बेमानी है. बस, इतना कहना पर्याप्त है कि दोनों तरफ से तलवारें खिंची थीं, परंतु कत्ल नहीं हो रहे थे. यही गनीमत थी. यह तनाव घर में काफी दिनों तक बना रहा, परंतु धीरेधीरे खत्म हो गया.

अनिका और उस के पापा के बीच रोज फोन पर बातें होती थीं. अनिका मां से भी बातें करती थी. पहले तो मां ऐंठी रहती थी, परंतु धीरेधीरे वह सामान्य हो गई. जिंदगी की ऊंचीनीची डगर पर सब लोग हिचकोले खाते हुए यों ही आगे बढ़ रहे थे. घर का माहौल कुछ दिनों से सहमासहमा और डरावना सा था. केशव बाबू ने इस तरफ ज्यादा ध्यान नहीं दिया. वे अपनी नित्य क्रियाओं में व्यस्त रहते. औफिस जाते और घर पर आ कर पढ़ने में व्यस्त रहते. नीता वैसे भी उन से खिचींखिचीं रहती थी, इसलिए वे उस के किसी प्रसंग में दखल नहीं देते थे. दफ्तर से आ कर वे ड्राइंगरूम में बैठे ही थे कि नीता अपना तमतमाया हुआ चेहरा ले कर उन के सामने खड़ी हो गई. लगभग चीखते हुए बोली, ‘‘आप को पता है, इस घर में क्या हो रहा है?’’

केशव बाबू ने इस तरह सिर उठा कर नीता को देखा, जैसे कह रहे हों, ‘मुझे कैसे पता चलेगा. घर में तो तुम रहती हो,’ फिर उपेक्षित भाव से बोले, ‘‘बताओ?’’

‘‘विप्लव एक सप्ताह से घर नहीं आया है.’’

‘‘अच्छा, मुझे तो वह कभी घर में नहीं दिखता. तुम्हें पता होगा, वह कहां होगा? न पता हो, फोन कर के पूछ लो.’’

‘‘पूछा है, कहता है कि अपनी गर्लफ्रैंड के साथ रहने लगा है, लिवइन रिलेशनशिप में.’’ केशव बाबू एक पल के लिए हतप्रभ रह गए. फिर एक व्यंग्यात्मक मुसकान उन के चेहरे पर दौड़ गई, ‘‘खुशी की बात है, उस ने मांबाप को शादी के झंझट से बचा लिया. सोचो, लाखों रुपए की बचत हो गई. तुम बेटी की शादी का खर्च बचाना चाहती थी. तुम्हारे बेटे ने स्वयं की शादी का खर्च बचा दिया.’’ नीता धम्म से सोफे के दूसरे किनारे पर गिर सी पड़ी. वह केशव बाबू के पैरों की तरफ झुकती हुई बोली, ‘‘आप को मजाक सूझ रहा है और मेरी जान निकली जा रही है. वह न तो कोई नौकरी कर रहा है, न उस का एमबीए पूरा हुआ है. ऐसे में वह बरबाद हो जाएगा. वह लड़की उसे बरबाद कर देगी.’’

केशव बाबू गंभीर हो गए. पत्नी के प्रति घृणा करते हुए भी उन्होंने सहानुभूतिपूर्ण स्वयं में कहा, ‘‘तुम चिंता मत करो, लड़के के सिर पर अभी प्रेम का भूत सवार है. ऐसे प्रेम में गंभीरता और स्थायित्व नहीं होता. लिवइन रिलेशनशिप बंधनरहित होते हैं, इन में एक न एक दिन खटास अवश्य आती है, चाहे शादी को ले कर, चाहे बच्चों को ले कर या कमाई को ले कर या फिर उन के बीच में कोई तीसरा आ जाता है. जो रिश्ते शारीरिक आकर्षण पर आधारित होते हैं उन की नियति और परिणति यही होती है. जहां परिवार और समाज नहीं होता, वहां उच्छृंखलता और निरंकुशता होती है. देख लेना, एक दिन विप्लव और उस लड़की का रिश्ता टूट जाएगा.’’

‘‘परंतु वह कुछ करताधरता नहीं है. उस का भविष्य चौपट हो जाएगा.’’

‘‘वह तो होना ही है, जिस तरह की परवरिश और संस्कार तुम ने उस को दिए हैं, उस में उस का बिगड़ना आश्चर्यजनक नहीं है. न बिगड़ता तो आश्चर्य होता. अब हम कुछ नहीं कर सकते. ठोकर खा कर अगर वह सुधर गया, तो समझो सुबह का भूला शाम को घर वापस आ गया. वरना…’’

‘‘परंतु उस का खर्चा कहां से चलेगा?’’

‘‘मुझे लगता है, वह लड़की कहीं न कहीं नौकरी अवश्य करती होगी. जब तक उस के मन में विप्लव के लिए प्रेम रहेगा, वह उस का खर्चा उठाती रहेगी. जिस दिन उसे लगा कि विप्लव उस के लिए बोझ है या कोई अन्य लड़का उस के जीवन में आ गया, वह विप्लव को ठोकर मार देगी.’’ नीता रोने लगी. केशव बाबू ने उसे चुप नहीं कराया. कोई फायदा नहीं था. यह नीता की नासमझी का परिणाम था, परंतु विप्लव के पतन के लिए वह अकेली दोषी नहीं थी. इस में विप्लव का भी बहुत बड़ा हाथ था. कोई भी युवक नासमझ नहीं होता कि उसे अपने कर्मों के परिणामों का पता नहीं होता. प्यार उस ने अपनी बुद्धि और विवेक से किया था और उस ने कुछ सोचसमझ कर अपनी प्रेमिका के साथ रहना स्वीकार किया होगा. पढ़ने में वह कमजोर था, तो इस में उस की नालायकी और कामचोरी थी. हम जो कर्म करते हैं, उन के लिए स्वयं जिम्मेदार होते हैं. हम अपनी गलतियों के लिए किसी और को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते.

केशव बाबू के लिए यह चिंता का विषय था कि बेटा बिगड़ गया था, परंतु वे बहुत अधिक परेशान नहीं थे. पत्नी की हठधर्मी और मनमानी में उन का कोई हाथ नहीं था. उन्होंने तो हर कदम पर उसे रोकने और समझाने की कोशिश की, परंतु वह उलटी खोपड़ी की औरत थी. हर सही बात उसे गलत लगती और हर गलत काम अच्छा. उस का दुष्परिणाम एक न एक दिन सब के सामने आना ही था. कहां तो नीता को चिंता थी कि ज्यादा पढ़ाने से बेटी बिगड़ जाएगी, कहां बेटा बिगड़ गया. जिसे वंश आगे बढ़ाना था, खानदान का नाम रोशन करना था, वही घर के सारे चिराग बुझा कर खुद अंधेरे में गुम हो गया था. अनिका के बीटैक का यह अंतिम वर्ष था. एक दिन उस ने पापा को फोन किया, ‘‘पापा, एक खुशखबरी है.’’

‘‘क्या बेटा, बोलो?’’ केशव बाबू ने उल्लास से पूछा.

‘‘पापा, मेरा सेलैक्शन हो गया है,’’ अनिका खुशी से चहक रही थी. केशव बाबू का हृदय खुशी से झूम उठा. शरीर में एक झुरझुरी सी उठी. उन्हें लगा, जैसे तपती दोपहरी में पसीने से तरबतर शरीर के ऊपर किसी ने वर्षा की ठंडी बूंदें टपका दी हों. वे हर्षित होते हुए बोले, ‘‘मुबारक हो बेटा, कहां हुआ है सेलैक्शन? ले किन अभी तो तुम्हारी फाइनल की परीक्षाएं बाकी हैं.’’

‘‘हां, वो तो है, परंतु ये कैंपस सेलैक्शन है. पिछले अंकों के आधार पर हुआ है. परीक्षा के बाद ही नियुक्तिपत्र मिलेगा. परंतु अभी एक शर्त है कि पहली पोस्ंिटग मुंबई में होगी.’’

‘‘तो इस में परेशानी क्या है? तुम होस्टल में रह चुकी हो. मुंबई में भी तुम्हें कोई परेशानी नहीं होगी.’’

‘‘हां, वह तो सही है. बस, मैं यह सोच रही थी कि आप अकेले हो जाएंगे.’’

‘‘नहीं, बेटा, पहले तुम अपने भविष्य की चिंता करो. वैसे भी शादी के बाद तुम हम सब को छोड़ कर चली जाओगी.’’

‘‘नहीं पापा, मैं आप को छोड़ कर कभी नहीं जाऊंगी.’’ केशव बाबू मन ही मन मुसकराए, परंतु आंतरिक खुशी के बावजूद उन की आंखों में आंसू छा गए. अपने को संभाल कर बोले, ‘‘अच्छा ठीक है. तुम अपना खयाल रखना.’’

‘‘ओके पापा.’’

‘‘मम्मी को बताया?’’

‘‘बता दूं, क्या?’’ अनिका ने पूछा.

‘‘बता दे तो अच्छा रहेगा, तुम्हारी मम्मी हैं, अच्छी हैं या बुरी, सदा तुम्हारी मां रहेंगी. वैसे भी आजकल उन के व्यवहार में आश्चर्यजनक परिवर्तन हुआ है. मेरे साथ मीठा व्यवहार करती हैं. बेटे ने उन की आशाओं और अपेक्षाओं पर जो चोट की है, उस से उन का विश्वास डगमगा गया है. उन को अब कहीं कोई सहारा दिखाई नहीं देता.’’

‘‘ठीक है, मैं अभी फोन करती हूं.’’

शाम को जब केशव बाबू घर पहुंचे, तो नीता ने मुसकराते हुए उन का स्वागत किया. यह एक अच्छा संकेत था. केशव बाबू को अच्छा लगा. नीता ने कहा, ‘‘आप को मालूम है न?’’

‘‘क्या?’’ उन्होंने मन की खुशी को दबाते हुए पूछा.

‘‘अनिका की नौकरी लग गई है.’’

‘‘हैं,’’ वे आश्चर्य प्रकट करते हुए मुड़े, ‘‘मुझे तो नहीं मालूम. तुम्हें कैसे पता चला?’’

‘‘अनिका ने स्वयं फोन कर के बताया है. आप को नहीं बताया?’’

‘‘नहीं, चलो, कोई बात नहीं. तुम को बता दिया तो मुझे बता दिया,’’ वे सामान्य दिखने की चेष्टा करते हुए बोले. बहुत दिनों बाद उन के घर में खुशियों ने अपने पंख फैलाए थे. अनिका की परीक्षाएं समाप्त हो गईं. उसे होस्टल खाली करना था. केशव बाबू उसे कार से स्वयं लेने गए थे. नीता भी जाना चाहती थी, परंतु उन्होंने मना कर दिया. लौटते समय रास्ते में केशव बाबू ने अनिका की पसंद की कुछ चीजें खरीदीं, उसे उपहार जो देना था. जानपहचान वालों के लिए मिठाई के डब्बे खरीदे और जब वे घर पहुंचे तो नीता उन्हें दरवाजे पर ही खड़ी मिली. कार के रुकते ही वह बाहर की तरफ लपकी और अनिका के कार से उतरते ही उसे अपने गले से लगा लिया. अनिका भी मां के गले से इस तरह लिपट गई जैसे सालों से उन के ममत्व, प्रेम और स्नेह को तरस रही थी. ‘‘मेरी बेटी, मेरी बेटी.’’ इस के बाद नीता का गला भर आया. उस की आंखों में आंसू उमड़ आए. उसे लग रहा था, जैसे अपनी खोई हुई बेटी को पा लिया हो.

‘‘मम्मी,’’ अनिका के भर्राये हुए गले से निकला.

कई पलों तक मांबेटी एकदूसरे के गले लगी रहीं. केशव बाबू के टोकने पर वे दोनों अलग हुईं. ‘‘सारा प्यार बाहर ही उड़ेल दोगी, या घर के लिए भी बचा कर रखोगी तुम दोनों.’’ नीता ने खिसियानी हंसी के साथ कहा, ‘‘आप को क्या पता, बेटी को इतने दिनों बाद पा कर कैसा लगता है.’’

‘‘सच कह रही हो, मां के दिल को मैं कैसे समझ सकता हूं.’’ अनिका का हाथ पकड़ कर नीता अंदर ले आई, बोली, ‘‘बेटी, मैं ने सदा तेरे साथ बुरा बरताव किया. तुझे पराया समझती रही, आज मुझे अपनी गलती का एहसास हो रहा है. मेरी समझ में नहीं आता कि कैसे एक मां अपनी जायी बेटी के साथ दुर्व्यवहार कर सकती है, उसे एक बोझ समझ सकती है. लगता है, मेरे ही संस्कारों में कोई कमी रह गई थी.’’

‘‘मां, आप कैसी बातें कर रही हैं? मैं ने तो कभी ऐसा नहीं समझा. मां हमेशा अपने बच्चों का भला चाहती है.’’

भावातिरेक में नीता का गला भर आया. कुछ न कह कर उस ने अनिका को अपने अंक में समेट लिया. जिस दिन अनिका अपने प्रथम असाइनमैंट पर मुंबई जा रही थी, उस दिन फिर नीता की आंखों में आंसू भरे थे. उसे अपने अंक में समेटते हुए बोली, ‘‘बेटी, जातेजाते मैं एक बात स्वीकार करती हूं कि जिसे मैं घर का चिराग समझती थी वह जुगनू भी नहीं निकला और मैं जिसे कंकड़ समझ कर ठुकराती रही, वह हीरा निकला. बेटा, तुम्हीं मेरे घर का चिराग हो. आशा करती हूं कि अपने जीवन में कोई ऐसा कदम नहीं उठाओगी, जो हमें, बेटे की तरह दुख दे जाए.’’ अनिका मां का आशय समझ गई. दृढ़स्वर में बोली, ‘‘मम्मी, आप मेरी तरफ से निश्चिंत रहें. अव्वल तो ऐसा कुछ होगा नहीं, परंतु परिस्थितियों के अनुसार मनुष्य भी बदलता रहता है. अगर ऐसा कुछ हुआ तो आप की और पापा की सहमति व स्नेह से ही ऐसा होगा. मैं आप दोनों को कभी दुख नहीं दे सकती. आप पापा का खयाल रखना.’’ केशव बाबू स्वयं को बहुत दृढ़ समझते थे, परंतु बेटी से जुदा होते हुए उन की आंखों में आंसुओं का समंदर लहरा रहा था.    

COMMENT