कहा जाता है कि शादी के समय अग्नि के सात फेरे लेने के साथ ही एक लड़की की अग्निपरीक्षा शुरू हो जाती है, लेकिन सैनिकों की जीवनसंगिनी की अग्निपरीक्षा तो विवाहसूत्र में बंधने से पहले ही शुरू हो जाती है, क्योंकि उन्हें पहले से ही यह पता होता है कि शायद उन्हें अपनी आधी जिंदगी पति से दूर रह कर गुजारनी पड़े या न मालूम जिंदगी के किस मोड़ पर उन का हमसफर उन्हें तनहा छोड़ दे.

अंजना राजवंशी के पति भारतीय सेना में लैफ्टिनैंट कर्नल हैं. वे कहती हैं कि एक फौजी से शादी करने वाली लड़की पहले से ही ऐसे हालात से रूबरू होने के लिए तैयार रहती है. फिर भी शुरूशुरू में पति से दूर रहना पड़ता था. ऐसे में नए घरसंसार में रचनेबसने में जीवनसाथी के प्रेम और मदद की कमी कुछ हद तक खली.

वे आगे कहती हैं कि खासकर सिविल बैकग्राउंड से ब्याह कर आने वाली लड़कियों के लिए तो यह काफी मुश्किल भरा दौर होता है.

लेकिन अंजना दूर रह रहे अपने पति की गैरमौजूदगी में घर की जिम्मेदारी निभा कर देश के प्रति अपने फर्ज को बखूबी निभा रही हैं.

सैनिकों की पत्नियां घर से जुड़े तमाम काम और पारिवारिक जद्दोजेहद का बखूबी सामना करती हैं. घरपरिवार पर आने वाली मुसीबत से निबट कर वे दूर कहीं ड्यूटी दे रहे अपने पिया को बेफिक्र रखती हैं और उन्हें देश की हिफाजत करने का हौसला देती हैं.

पति का बनीं संबल

अनु माथुर एक सेना के अफसर की पत्नी हैं. वे कहती हैं कि चाहे बच्चों का स्कूल में दाखिला कराना हो या खुद को डाक्टर को दिखाना हो, पति की गैरमौजूदगी में हर छोटीबड़ी जिम्मेदारी उन्हें ही निभानी होती है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT