2 में से तुम्हें क्या चाहिए, कलम या तलवार.. कविता की लाइनों में कवि ने सालों पहले जो सवाल  उठाया था, उसका जबाब बिहार के जहानाबाद जिले के सिकरिया पंचायत के युवाओं ने दे दिया है. नक्सलियों की बंदूकों से थर्राने वाले इस पंचायत में लड़के और लड़कियों ने बंदूक फेंक कर कलम और कंप्यूटर माउस थाम लिया है. उन्होंने फैसला कर लिया है कि उन्हें तलवार या बंदूक नहीं बल्कि कलम की ज्यादा दरकार है. नक्सली जिस बंदूक के जरिए गांवों में तरक्की लाने की बात करते हैं, वह कलम के जरिए ही आ सकती है.

COMMENT