बिहार में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों को मिलने वाली प्रीमैट्रिक स्कौलरशिप में जम कर लूटखसोट का खेल खेला गया और करोड़ों रुपए की लूट की गई. क्लास एक से 10वीं तक के बच्चों को स्कौलरशिप का पैसा दिया जाना था. दलितपिछड़े बच्चों के कैरियर को अंधेरे में ले जाते हुए घोटालेबाजों ने स्कौलरशिप की रकम की बंदरबांट के लिए न केवल फर्जी बैंक खाते खोले, बल्कि फर्जी स्कूल और गांव तक बना डाले.

COMMENT