कोख में बेटी को मारने के लिए बदनाम हो रहे हरियाणा राज्य के जींद ज़िले में कुछ ऐसा हुआ कि हर बेटी के साथ साथ उस शख्स को भी फख्र महसूस होगा, जो बेटा बेटी में कोई फर्क नहीं करता है. जींद के जैजैवंती गांव में एक आदमी संदीप ने अपने घर में बेटी पैदा होने पर 5 गांवों के लोगों को भोज कराया. इतना ही नहीं, संदीप ने इस समारोह को शानदार बनाने के लिए ढोल नगाड़ों के साथ जो धूमधड़ाके वाली रस्म की, वो अमूमन बेटे के पैदा होने पर पर ही निभाई जाती है.

हरियाणा में आज भी ऐसे गांव मिल जाएंगे जहां पूरा एक साल निकल जाने पर भी किसी भी घर में कोई बेटी नहीं पैदा होती है. इस सिलसिले में इस गांव की सरपंच सविता ने बताया कि उन्हें बहुत ख़ुशी है कि हमारा पूरा गांव बेटी पैदा होने की ख़ुशी मनाता हैं.

यह गांव लिंगानुपात में ज़िले में पहले नंबर पर रह कर एक लाख रुपए का इनाम भी जीत चुका हैं.

 

COMMENT