उसने अपने सपनों को तो बचपन में ही पंख लगा लिए थे और जवानी की दहलीज पर कदम रखने के बाद अपने हौसलों और लगन से सपनों को हकीकत की जमीन पर उतार भी लिया. यह बताते हुए देश की पहली महिला फाइटर पायलट भावना कंठ के पिता तेजनारायण कंठ की आंखों में खुशी के आंसू छलछला उठते  हैं. वह फख्र के साथ कहते हैं कि उनकी बेटी की यह आदत है कि वह अपने लक्ष्य को पहले तय कर लेती है और उसके बाद उसे हासिल करने के लिए पूरी लगन और मेहनत के साथ जुट जाती है. हर युवा को ऐसा ही करना चाहिए.

COMMENT