‘‘जब देश में थी दीवाली,

वे खेल रहे थे होली.

जब हम बैठे थे घरों में,

वे झेल रहे थे गोली.’’

फौजियों के जीवन की सचाइयों को दर्शाती ये उपरोक्त पंक्तियां कितनी सटीक हैं.

फौजी किसी भी देश की सरहदों के ही नहीं बल्कि बर्फ की चोटियों पर, पहाड़ों, सागरों, नदियों, झरनों, घाटियों, चट्टानों, मरुभूमि जाने कहांकहां पर तैनात दिनरात के सजग प्रहरी हैं जिन की छत्रछाया में सभी झुग्गीझोपडि़यों से ले कर छोटेबड़े आशियानों में सुखचैन की नींद सोते हैं.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT