क्या वो पल केवल सपना था
या सच में, वो पल अपना था
जब तेरी सांसें मेरी सांसों से टकराई थीं
मेरे हाथों में, तेरे हाथों की गरमाई थी

दोनों के कंठ जब रुंधेरुंधे से थे
दोनों के नयन जब बंधेबंधे से थे
अधरों पर गहरी एक प्यास थी
और नजदीकियों की एक आस थी

न कुछ तुम बोल पाई थीं
न मैं ही कुछ कह पाया था
बस बरसों की चाह पूरी की थी
एकदूजे के साथ नजदीकी जी थी

बस पूर्ण व्यर्थ जीवन में, केवल
वह पल ही तो केवल जीना था
न जाने वह सपना था
या केवल वह पल ही अपना था.
वी के माहेश्वरी

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT