न कोई आहट न कोई साया है
न जाने दिल में कौन आया है

जिस की चर्चा गलीगली में है
मेरी नसनस में वो समाया है

जो दिया जल उठा था सीने में
अश्के गम से उसे बुझाया है

खो गए रास्ते धुंधलकों में
जब से हम ने कदम उठाया है

उड़ने लगती है फूल से शबनम
धूप का जिस चमन में साया है

ये तो पत्थरों का देश है ‘शशि’
हम ने तेरा बुत कहां बनाया है.
डा. शशि श्रीवास्तव

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT