आज मन क्यों उल्लास है
आज जमीं को आसमां से हुई बात है
फिजाओं ने भी छेड़ी राग है

आज मन क्यों उल्लास है
आज हवाओं को घटाओं से हुई बात है
बहारों ने भी बरसाए फूल हैं

आज मन क्यों उल्लास है
आज चांद की चांदनी से हुई बात है
तारों ने भी सजाया आसमां है

आज मन क्यों उल्लास है
आज मन की मीत से हुई बात है
धड़कन ने भी छेड़ा साज है.
रंजना वर्मा

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT