आज की सुबह कुछ खास है

हवाओं में अनोखा एहसास है

सांसों में नई ताजगी लिए

लगता है वह आसपास है

 

यों तो कुछ खास नहीं है उस में

पर फिर भी शायद कुछ बात है

अधखुली सी, बोझिल कोमल पलकों में

मीठी सी मस्ती और बरसों की प्यास है

 

कोमल से चेहरे पर वो पानी की छपकी

गालों से जिस ने लट बालों की झटकी

अलसाया सा बदन भी खाए हिचकोले

तुम ही बताओ ये दिल क्यों न डोले

 

हर कोई सुबह सुकून की तलाश करता है

खिलते चेहरे के दर्शन की आस करता है

पर शायद ही कोई खुशनसीब होता है

दामन में जिस के तेरा दीदार लिखा होता है.

महेश कुमार

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT