आज की सुबह कुछ खास है

हवाओं में अनोखा एहसास है

सांसों में नई ताजगी लिए

लगता है वह आसपास है

 

यों तो कुछ खास नहीं है उस में

पर फिर भी शायद कुछ बात है

अधखुली सी, बोझिल कोमल पलकों में

मीठी सी मस्ती और बरसों की प्यास है

 

कोमल से चेहरे पर वो पानी की छपकी

गालों से जिस ने लट बालों की झटकी

COMMENT