निकल ही आते हैं बहाने
आंसू बहाने के
दूर से भी तुम 
नहीं छोड़ते मौके रुलाने के
ऐसी भी क्या बेचैनी थी 
दामन छुड़ाने की
पहले ढूंढ़ तो लेते 
बहाने कुछ ठिकाने के
मैं दिल की बात करता हूं 
तुम करो दुनिया की
छोड़ कर भी मुझे तुम 
न हो सके जमाने के
मेरे गीत-ओ-गजल में 
ढूंढ़ते हैं सब तुम्हें
मगर कुछ फिक्र न करना 
हम नहीं बताने के
बड़ी मुद्दत के बाद सोया था
कल रात मैं
तसवीर नहीं थी तेरी,
नीचे मेरे सिरहाने के
दिल को यकीं है
तुम लौट तो आओगे मगर
आवाज दे कर ‘आलोक’
अब तुम्हें नहीं बुलाने के.
आलोक यादव
 

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT