बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का दूसरे राज्यों में जा कर सभाएं करना और भारतीय जनता पार्टी व नरेंद्र मोदी पर तंज कसना उन के सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल को हजम नहीं हो रहा है.

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव तो अपने ‘छोटे भाई’ की इस अदा पर चुप्पी साधे हुए हैं, पर उन के करीबी और पार्टी के थिंक टैंक कहे जाने वाले रघुवंश प्रसाद सिंह को नीतीश कुमार का यह रवैया ठीक नहीं लग रहा है. वे कहते हैं कि अपने सियासी फायदे के लिए नीतीश कुमार सहयोगी दलों की अनदेखी कर रहे हैं. उन्होंने उन से कुछ तल्ख सवाल पूछे हैं, जैसे आखिर उन्हें प्रधानमंत्री का उम्मीदवार किस ने बना दिया? किस हैसियत से वे मिशन-2019 की बात कर रहे हैं? क्या अकेले घूम कर नीतीश कुमार सैकुलर ताकतों को कमजोर नहीं कर रहे हैं? दूसरे राज्यों में सभा करने से पहले नीतीश कुमार को क्या सहयोगी दलों से बात नहीं करनी चाहिए? क्या उन्हें भरोसे में नहीं लेना चाहिए? वगैरह.

COMMENT