समाजवादी पार्टी में परिवार के अंदर चल रही रार अब खुलकर बाहर आ गई है. अखिलेश यादव ने प्रदेश के मुख्यमंत्री की हैसियत से जब शिवपाल यादव को मंत्रिमंडल से बाहर किया, तो सपा प्रमुख मुलायम सिह यादव ने रामगोपाल यादव को पार्टी से बाहर कर दिया. यही नहीं, शिवपाल यादव ने रामगोपाल यादव को भाजपा के साथ मिला हुआ बता कर पार्टी तोड़ने का आरोप लगाया और तर्क दिया कि वह अपने पुत्र और बहू को सीबीआई जांच से बचाने के लिये भाजपा से मिलकर मुख्यमंत्री अखिलेश को गुमराह कर रहे हैं. रामगोपाल भी ऐसे आरोप शिवपाल पर लगाते अपने पत्र में लिखते हैं कि मुलायम सिंह यादव इस समय ‘आसुरी शक्तियों’ से घिरे हुये हैं. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शिवपाल और उनके समर्थक मंत्रियों को यह कहते बाहर किया कि यह लोग अमर सिंह के कहने पर काम कर रहे हैं.

COMMENT