चुनाव इसलिये होते हैं कि जनता विकास और तरक्की की बात करने वाले को वोट देकर सरकार बनाने में मदद करे. नेता बहुत होशियार होते हैं. वह ऐसा कोई वादा न करना पड़े इसके लिये बेकार की जुमले बाजी करते हैं. जिससे समाज की बदहाली, बेकारी और पिछड़ेपन पर बात न हो सके. उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में पूरी तरह से चुनावी जुमले उछाल कर वार पर वार हो रहे हैं. एक दल और नेता ऐसी जुमलेबाजी करता है तो दूसरा उसको आगे बढ़ाने का काम करता है. ऐसे में धीरे-धीरे सभी एक सा काम करने लगते हैं.

COMMENT