अयिरातिल ओरूवन 60 के दशक की एक कामयाब तमिल फिल्म थी. इस के नायक एमजीआर यानी एम.जी. रामचंद्रन थे, जिन पर तब के निर्माता आंखें बंद कर पैसा लगाते थे और कमाते भी खूब थे. इस फिल्म की नायिका एक नईनवेली किशोरी थी, जिस में अभिनेत्री होने के सारे गुण मौजूद थे. वह सुंदर और भरे बदन की लड़की थी. उस समय दक्षिण भारतीय फिल्मों में ऐसी लड़कियों को बहुत पसंद किया जाता था. फिल्मी सेटों का अपना एक अलग प्रोटोकाल होता है, जिस के तहत नामी स्टार का अलग ही रुतबा होता है. जब बड़ा स्टार आता है तो यूनिट के सारे लोग हाथ बांध कर सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाते हैं. उस जमाने में एम.जी. रामचंद्रन का जादू सिर चढ़ कर बोल रहा था.

COMMENT