समाजवादी पार्टी का ‘फैमली ड्रामा’ महज दिखावा भर है. इसके जरीये सपा अखिलेश यादव की मासूम छवि को बचाते हुये वोट के लिये दूसरे समझौते कर रही है. फेमली ड्रामा देखकर जनता और पार्टी कार्यकर्ता दोनों को खामोश किया जा रहा है. समाजवादी पार्टी में 2 तरह के लोग हैं. एक वह लोग हैं जो अपने परिवार और करीबियों के लिये सपा को सबसे बेहतर पार्टी मानते हैं. दूसरी ओर वह लोग जो अखिलेश को बेहतर मुख्यमंत्री मानते हैं. समाजवादी पार्टी का थिंकटैंक मानता है कि अखिलेश की तारीफ करने वाले वोट देंगे या नहीं, इसमें शक है. ऐसे में पार्टी को अपने बेस वोटर को भी साथ रखना है जो दंबग किस्म का है.

COMMENT