देवीदेवताओं की पेंटिंग्स को ले कर नग्नता और अश्लीलता का मुद्दा अकसर उठता रहता है. विश्वप्रसिद्ध आर्टिस्ट एम एफ हुसैन इस का बड़ा उदाहरण हैं. मूर्तियों और पेंटिंग की कला में कलाकार को सुंदरता दिखती है जबकि दूसरे लोगों को उन में अश्लीलता दिखती है. इतिहास में जाएं तो जाहिर होता है कि खजुराहो की मूर्तियों का जिक्र पूरे विश्व में होता है. मूर्तियों के चलते ही खजुराहो विश्व के पर्यटन स्थलों में शामिल है. पेंटिंग कला में तमाम ऐसी शैलियां हैं जिन में पेटिंग को बनाते समय कलाकार नारी अंगों को उभारता है. इन से प्रेरित हो कर फैशन और फिल्मी दुनिया में भी ऐसे तमाम प्रयोग होते रहते हैं जिन में नारी को पारदर्शी पोशाक पहने दिखाया जाता है. कई पेंटिंग्स में नारी को कपड़ों की जगह ज्वैलरी पहने दिखाया जाता है.

Tags:
COMMENT