उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में अभी समय है. विधानसभा के चुनाव 2017 में होने वाले है. भाजपा के लिये यह चुनाव जियो और मरो वाले होगे. उत्तर प्रदेश के विधनसभा चुनाव ही 2019 के लोकसभा चुनावों का भविष्य तय करेगे. 2014 के लोकसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश से भाजपा गठबंधन को 73 सांसद मिले थे. इस प्रदर्शन की उम्मीद 2019 में नहीं की जा रही है.

भाजपा चाहती है कि अगर 2017 के विधानसभा में उत्तर प्रदेश की सत्ता उसके हाथ आ जाये तो 2019 में केन्द्र सरकार बनाने का रास्ता सरल हो जायेगा. भाजपा ने इसके लिये जाति और धर्म दोनो का सहारा लेने की योजना बनाई है.

2016 में भाजपा राम मंदिर के एजेंडें पर आगे बढेगी. जातीय संतुलन में भाजपा पिछडे वर्ग को आगे लानाचाहती है.भाजपा नेता और राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के जन्मदिन पर उमडी भीड को देखकर यह लगता था कि कल्याण सिंह को उत्तर प्रदेश में बडी जिम्मेदारी मिल सकती है.अयोध्या मसले से जुडी उनकी पहचान और जाति से पिछडा होने का पफैक्टर काम दे सकता है.

जातीय संतुलन साधने के लिये भाजपा ने संगठन में पिछडों को आगे करने का काम शुरू किया है. भाजपा ने शुरूआत में 51 जिलों में जिलाअध्यक्ष के नामों की घोषणा की तो उसमें 22 अध्यक्ष पिछडी जाति के रखे. इनमें केवल यादव और कुर्मी ही नहीं है, बल्कि लोहार, कुशवाहा, मौर्या, कहार और नाई जाति के लोगों को भी मौका दिया जा रहा है. राजधनी लखनउ में भाजपा ने मुकेश वर्मा को अपना जिला अध्यक्ष बनाया है. मुकेश वर्मा पार्टी के लोगों के लिये पूरी तरह से नया चेहरा है. बिहार में हार के बाद भाजपा अपने जातीय समीकरण को खूब मजबूत करना चाह रही है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT