बिना रंगों यानी गुलाल के होली का आंनद नहीं आता. लेकिन होली में कैमिकल रंगों के बढ़ते प्रभाव से लोगों में होली के प्रति आकर्षण खत्म होता जा रहा है. बाजार में बिकने वाले हर्बल कलर महंगे होने के कारण आम लोगों की पहुंच से दूर होते हैं. ऐसे में घर पर भी हर्बल कलर तैयार किए जा सकते हैं.

Tags:
COMMENT