मध्य प्रदेश के छोटे से कसबे की इस लड़की को बचपन से ही फैशन से बहुत लगाव था. डाक्टर पापा चाहते थे कि लाडली भी डाक्टर बन कर उन का हौस्पिटल संभाले पर कृतिका का मन तो कहीं और रमा था. डाक्टरी की पढ़ाई पढ़ने के लिए कोटा भेजा गया, लेकिन पढ़ाई बीच में ही छोड़ कर फैशन डिजाइनर बनने दिल्ली आ गईं.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT