साल, महीने, सप्ताह और तारीखों में कोई शुभअशुभ के ‘अनिवार्य संबंध’ की खोज करे तब क्या कहिएगा? हम ठहरे निपट मूर्ख, मोटी बुद्धि के. रफ ऐंड टफ सोच के धनी. भला हमें यह कैसे समझ आएगा कि आने वाली या पिछली तारीखों में कौन सी शुभ है या अशुभ? लेकिन अब लगता है हमारी धारणा गलत है. जब पूरी दुनिया कुछ खास तारीखों से जुड़ी शुभअशुभ की संभावना व आशंकाओं से त्रस्त दिखे तो भला हम सही कैसे हो सकते हैं.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT