रूसी टैनिस स्टार मारिया शरापोवा 15 महीने के बाद अपने कैरियर की सब से मुश्किल चुनौती का सामना करने के लिए टैनिस कोर्ट में लौट आई हैं. मुश्किल चुनौती इसलिए है क्योंकि वर्ष 2016 में शरापोवा ने यह स्वीकार किया था कि उन्होंने साल के पहले ग्रैंड स्लैम टूर्नामैंट में प्रतिबंधित दवा का इस्तेमाल किया था. तब से उन पर 3 साल के लिए बैन लगा दिया गया लेकिन अपील में इसे कम कर के15 महीने कर दिया गया. शरापोवा के सामने सब से बड़ी चुनौती स्पौंसर्स की है. इतने महीने खेल के मैदान से बाहर रहने के बाद क्या वे अपने स्पौंसर्स से पहले की तरह कमाई कर पाएंगी? क्या टैनिस की दुनिया में वे दोबारा अपने रैकेट से सनसनी मचा पाएंगी? ऐसे अनेक सवाल हैं जो शरापोवा के लिए चुनौती हैं.

फिलहाल शरापोवा को पांव जमाने के लिए मौका अच्छा है क्योंकि उन की सब से बड़ी प्रतिद्वंद्वी सेरेना विलियम्स मां बनने वाली हैं और वे खेल से फिलहाल दूर हैं. शरापोवा की वापसी से टैनिस के कुछ खिलाडि़यों में नाराजगी है. स्वाभाविक है शरापोवा एक समय वरीयता में नंबर वन रैंक पर थीं और अपने खेल की बदौलत वे अच्छेअच्छे खिलाडि़यों को पछाड़ कर टैनिस जगत में नाम कमा चुकी हैं पर डोपिंग मामले में प्रतिबंध से टैनिस जगत का नाम तो खराब हुआ ही, साथ ही युवा खिलाडि़यों में भी इस का गलत मैसेज जाने की उम्मीद है. डोपिंग का डंक खेल जगत को खोखला बना रहा है. कड़े नियमों के बावजूद आएदिन खिलाड़ी डोपिंग मामले में फंस रहे हैं. यह देशदुनिया के खेलप्रेमियों के लिए चिंता का विषय है.

COMMENT