3 वर्ष की अल्पायु में ही क्रिकेट का बल्ला थामने वाले ईशान की क्रिकेट के प्रति दीवानगी उम्र के साथसाथ बढ़ती गई और अपनी मेहनत व लगन के बल पर उस ने न केवल अंडर-19 क्रिकेट टीम में जगह बनाई बल्कि कप्तान बन बैठा. अब ईशान का लक्ष्य नैशनल टीम में शामिल होना है. उस के मातापिता को पूरा यकीन था कि उन का लाड़ला अवश्य एक दिन उन का नाम रोशन करेगा. हर मातापिता की तरह ईशान के पेरैंट्स भी चाहते थे कि उन का बेटा पहले पढ़ाई पूरी करे, उस के बाद ही अपने खेल के शौक को पूरा करे, लेकिन उस के साथ ऐसा नहीं हो सका. पढ़ाई से ज्यादा ईशान को क्रिकेट से लगाव था और क्रिकेट को ही वह जिंदगी का लक्ष्य मान चुका था. बचपन से ही प्लास्टिक के छोटे से बैट से उस की ऐसी यारी हुई कि बस उस के साथ ही सोना और जागना होता था. ईशान की दीवानगी आखिर रंग लाई और आज वह भारतीय क्रिकेट की अंडर-19 टीम का कप्तान बन गया. क्रिकेट का दीवाना ईशान किशन कहता है कि नैशनल क्रिकेट टीम में शामिल होना उस का लक्ष्य है.

COMMENT