ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया को पांच वनडे मैचों की सीरीज खेलनी है. नए साल की पहली सीरीज में टीम इंडिया के कई दिग्गजों पर फैन्स से लेकर चयनकर्ताओं की नजर होगी. हम आपको टीम इंडिया के ऐसे पांच खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो पिछले साल छोटे फॉर्मेट में अच्छा कर पाए, और नए साल में धूम मचाने को बेकरार हैं.

कप्तान धोनी का इम्तिहान
साल 2015 कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के लिए अच्छा साबित नहीं हुआ. धोनी की कप्तानी में पिछले साल टीम इंडिया ने एक भी वनडे सीरीज़ नहीं जीती. इस बीच खिलाड़ी के तौर पर भी फिनिशर धोनी के ऊपर सवाल उठे. उन्होंने पिछले साल खेले 20 वनडे मैचों में 45.71 की औसत से 640 रन बनाए, जिसमें कोई शतक शामिल नहीं था. अर्धशतक भी सिर्फ़ चार निकले. धोनी बैटिंग ऑर्डर में ऊपर आने पर भी अड़े रहे. अब यह देखना भी दिलचस्प होगा कि नए साल में वो किस नंबर पर बल्लेबाजी करते हैं. हालांकि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए रवाना होने से पहले कहा था कि टेस्ट से संन्यास लेने का उन्हें फायदा हुआ है और इससे वे वनडे में बेहतर कर पाएंगे. 

विराट की फ़ॉर्म पर नज़र
टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने बड़े फॉर्मेट में पिछले साल खूब नाम कमाया, बल्ले से रन भी निकले, लेकिन वनडे में पिछले साल नाम के मुताबिक काम नहीं कर पाए… पिछले साल 20 वनडे मैचों में विराट ने सिर्फ़ 36.64 की औसत से 623 रन बनाए, जिसमें सिर्फ़ दो शतक शामिल रहे. बैटिंग ऑर्डर की जान विराट नए साल में वनडे में बेहतर प्रदर्शन करना चाहेंगे. उनके प्रदर्शन पर टीम इंडिया बहुत निर्भर करती है.

धवन करेंगे धमाका?
शिखर धवन के सितारे गर्दिश में नज़र आ रहे हैं. कप्तान और चयनकर्ताओं का भरोसा उन पर बना हुआ है, लेकिन उनका बल्ला है जो बोलने का नाम नहीं ले रहा. पिछले साल 20 वनडे मैचों में शिखर ने सिर्फ़ 37.25 की औसत से 745 रन बनाए, जिसमें दो शतक ही शामिल रहे. विजय हजारे ट्रॉफी में भी दिल्ली के लिए शिखर कुछ खास नहीं कर पाए. नए साल में उनके प्रदर्शन पर चयनकर्ताओं की नज़र होगी.

विदेशी पिच पर अश्विन का टेस्ट
पिछले साल अश्विन ने टेस्ट मैचों में कमाल का प्रदर्शन किया, लेकिन वनडे में वो बहुत प्रभावी नहीं रहे. रैंकिंग में नंबर वन टेस्ट गेंदबाज और नंबर वन टेस्ट ऑलराउंडर अश्विन के सामने छोटे फॉर्मेट में विदेशी पिच की चुनौती है. अश्विन ने पिछले साल 13 वनडे मैच खेले और 21 विकेट लिए. टी-20 से नाम कमाकर अंतराष्ट्रीय स्तर पर आने वाले अश्विन नए साल में वनडे में अगर कमाल करते हैं तो टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया को पटखनी दे सकती है.

वापसी की राह पर शमी
मोहम्मद शमी ने पिछले साल वर्ल्ड कप के बाद से कोई भी अंतराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है. चोट के बाद वापसी करने वाले शमी नए साल में उसी धरती से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट शुरू करेंगे, जहां पर उन्होंने छोड़ा था. शमी वर्ल्ड कप वाली लय पाने की कोशिश करेंगे. शमी अगर उसी तेज़ी से निशाना लगा पाए जैसा उन्होंने वर्ल्ड कप में किया था, तो टीम इंडिया के पास नए साल में जीत से शुरुआत करने का मौका होगा.

Tags:
COMMENT