पिछले कई महीनों से भारतीय मीडिया में यह चर्चा होती रही है कि रियो ओलिंपिक में भारतीय दल किसी भी दक्षिण एशियाई देश के मुकाबले सब से बड़ा दल है. इस से उम्मीद बढ़ गई थी कि इस बार बीजिंग और लंदन ओलिंपिक से भी ज्यादा मैडल भारत की झोली में आएंगे पर खिलाडि़यों के खराब प्रदर्शन से उम्मीदों पर पानी फिरता नजर आ रहा था लेकिन पिछले 11 दिनों से पदकों से खाली भारत की उम्मीद एक पल के लिए तब झूम उठी जब हरियाणा के रोहतक की साक्षी मलिक ने अंतिम राउंड में अपनी प्रतिद्वंद्वी किर्गिस्तान की पहलवान आइसुलू ताइने अबेकोवा को हरा कर कांस्य पदक हासिल कर लिया. यह देश के लिए गर्व की बात है पर साक्षी जहां पलीबढ़ीं यानी हरियाणा में, वहां पुरुष आबादी के मुकाबले महिला आबादी का अनुपात बेहद खराब है. यह समाज के लिए एक संदेश भी है. साक्षी के मातापिता बधाई के हकदार हैं कि घोर पुरुष वर्चस्व वाले क्षेत्र में वे अपनी बेटी को पहलवानी के क्षेत्र में उतारने के लिए हर कदम पर उस के साथ खड़े रहे.

COMMENT