दुनिया की बेहतरीन टीमों में माने जाने वाली भारतीय क्रिकेट टीम का बंगलादेश जैसी टीम से शृंखला हार जाना, फिर 10 जुलाई से जिंबाब्वे के खिलाफ होने वाली एकदिवसीय और टी-20 शृंखला में महेंद्र सिंह धौनी, विराट कोहली को विश्राम दे कर आजिंक्य रहाणे के हाथों टीम की कमान सौंपना साबित करता है कि टीम इंडिया में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है.इस सीरीज में खिलाडि़यों में न तो जोश दिखा और न ही जज्बा. बल्कि टीम में गुटबाजी साफ दिखाई दे रही है. महेंद्र सिंह धौनी ब्रिगेड और दूसरे गुट में विराट कोहली ब्रिगेड खुल कर मैदानेजंग में आमनेसामने आ खड़ी हुई हैं. सीरीज के बीच में ही महेंद्र सिंह धौनी का एक चौंकाने वाला बयान भी आया कि अगर टीम का प्रदर्शन उन के बाहर होने से ठीक हो जाता है तो वे एकदिवसीय कप्तानी छोड़ने को तैयार हैं. भले ही पत्रकारों को धौनी ने मजाकिया अंदाज में जवाब दिया हो पर यह मसला कहीं न कहीं गंभीर है क्योंकि जो खिलाड़ी पहले धौनी का दिलोजान से समर्थन करते थे उन्हीं खिलाडि़यों को अब धौनी की बात रास नहीं आती. विराट कोहली ने धौनी के फैसलों पर ही सवाल उठा दिए और कोहली ने कहा कि एकदिवसीय सीरीज के दौरान जो फैसले लिए गए, उन से खिलाडि़यों के सामने स्पष्ट कुछ भी नहीं था.

COMMENT