तलाक के बाद जीवन सरल होने की जगह और कठिन हो गया था. उसे हर दिन पुरुषों की लोलुप नजरों, महिलाओं की शक्की नजरों तथा रिश्तेदारों की तिरछी नजरों का सामना करना पड़ता था. अपनी मां की सलाह पर इंदु ने प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठने का निर्णय लिया. उस ने अपनेआप को एक कमरे में सीमित कर लिया और लग गई परीक्षा की तैयारी में. लोगों की छींटाकशी उस तक पहुंच ही नहीं पाती थी. थोड़ीबहुत छींटाकशी उस तक पहुंचती भी थी तो इंदु उन्हें हंस कर टाल देती. बहुत अधिक कष्ट झेल लेने पर, इंसान को पीड़ा का एहसास भी कम हो जाता है, वही इंदु के साथ हो रहा था. 2 सालों के अथक परिश्रम के बाद, अपने दूसरे ही प्रयास में इंदु का चयन हो गया था. आज उस ने अपना आत्मसम्मान तथा अपनी आजादी दोनों पा लिए थे.

‘‘इंदु, बाहर आ जा बेटा.’’

‘‘दीदी, क्या कर रही हो?’’

मां और छोटी की आवाज से इंदु वर्तमान में लौट आई थी. बाहर रिश्तेदारों तथा जानने वालों की फौज बैठी हुई थी. भविष्य में कुछ पाने की आशा ले कर, कई गुमनाम रिश्तेदार ऐसे प्रकट हो रहे थे जैसे थोड़े से शहद को देख कर चीटियां न जाने कहां से प्रकट हो जाती हैं. ‘‘भाईसाहब, अब तो इंदु के लिए अच्छे रिश्तों की कमी न होगी,’’ कोई कह रहा था पापा से.

बात घूमफिर कर वहीं आ गई थी... शादी, जैसे स्त्रीजीवन का एकमात्र लक्ष्य तथा उस की पूर्णता शादी में ही है. ‘‘बेटा, पंडितजी आ गए हैं.’’ तभी चाचा टपके, ‘‘इन्हीं की कृपा से सबकुछ हुआ है.’’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT