दीवाली हो और अपनों से उपहारों का लेनदेन न हो, ऐसा भला कैसे हो सकता है. इस बार अपनों को दीजिए अपने हाथों से बने उपहार और जीत लीजिए उन का मन ताकि पाएं त्योहार की असली खुशी.

दीवाली गिफ्ट्स की आसमान छूती कीमतों ने आम आदमी को जेब टटोलने पर मजबूर कर दिया है. कुछ लोग लिस्ट से अपने मित्रों और रिश्तेदारों की छंटनी कर रहे हैं तो कुछ लोगों ने मन मसोस कर इस बार गिफ्ट न देने का निर्णय कर लिया है. लेकिन ऐसा किसी किताब में तो नहीं लिखा कि तोहफे खरीद कर ही दिए जाएं. आप इस दीवाली अपने प्रियजनों को हैंडमेड तोहफे दे कर भी खुशियां बांट सकते हैं.

COMMENT