हजारों साल पहले मखाना चीन से चला और जापान को लांघते हुए पूर्वोत्तर भारत होते हुए बिहार के मिथिलांचल में आ कर रुक गया. मिथिलांचल में जहां पानी का भरपूर भंडार है, वहां की आबोहवा और मिट्टी भी मखाने की उम्दा खेती के लायक है. मिथिलांचल के दरभंगा, मधुबनी, सहरसा, पूर्णियां, कटिहार, सुपौल और सीतामढ़ी जिलों में मखाने की भरपूर खेती होती है. मिथिलांचल के जिलों में करीब 16 हजार तालाब हैं, जिन में मखाने का भरपूर उत्पादन होता था, पर पिछले कुछ सालों से ज्यादातर तालाबों का इस्तेमाल ही नहीं हो रहा?है. मखाने की खेती ठहरे हुए पानी के तालाब में ही होती है. डेढ़ से 2 मीटर गहराई वाले तालाब मखाने की खेती के लिए काफी मुफीद होते हैं. कृषि वैज्ञानिक ब्रजेंद्र मणि कहते?हैं कि मिथिलांचल में मखाने की अच्छी व कुदरती खेती होती है. समूचे भारत में मखाने का कारोबार 800 करोड़ रुपए का है और देश भर में करीब 15 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में मखाने की खेती होती है, जिस में से 80 फीसदी पैदावार बिहार में होती है. बिहार में भी 70 फीसदी पैदावार मिथिलांचल में होती है. तकरीबन 12.50 लाख टन मखाने की गुर्री पैदा होती है, जिस में से 45 हजार टन मखाने का लावा निकाला जाता है.

COMMENT