एक फेयरनैस क्रीम के विज्ञापन में ऐक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा ऐक्टर और फैंस के रिलेशन में आए चेंज को अच्छी तरह डिफाइन करते हुए कहते हैं कि अब फैंस औटोग्राफ नहीं सैल्फी की डिमांड करते हैं. यह हलकीफुलकी लगने वाली बात दरअसल इशारा है युवाओं के तकनीकी मिजाज और मनोरंजन के संसार को ले कर उन की बदलती अप्रोच का, आज युवा किसी अभिनेता की तसवीर दीवार पर चिपकाने के बजाय उसे अपने अलबम में चस्पां रखते हैं, ताकि वे उसे औनलाइन प्लेटफौर्म पर पोस्ट कर सैल्फ पब्लिसिटी के साथ अपने ग्रुप में ट्रेडिंग टौपिक या वायरल फैक्टर बना सकें. दिल्लीमुंबई जैसे शहरों की मैट्रो ट्रेंस हों या छोटे कसबों के नुक्कड़ पर बैठे युवा, प्रत्येक कान में इयरफोन और हाथ में बड़ी स्क्रीन वाले आईफोन

या टैबलेट लिए फिल्में देखते आसानी से दिख जाते हैं. एक दौर में तो लोगों के लिए मनोरंजन का साधन सिनेमाघर मात्र हुआ करते थे. लेकिन आज युवाओं ने मनोरंजन को स्मार्टफोन, लैपटौप, आईपैड और डिजिटल वर्ल्ड में समेट लिया है. इन के इस तकनीकी कदमताल को समझते हुए मनोरंजन उद्योग ने भी इंटरनैट, सोशल मीडिया, डिजिटल वर्ल्ड में अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है ताकि युवाओं को वह अपना मनोरंजन बेच सके. फिल्म उद्योग अब सिर्फ सिनेमाघरों तक  ही सीमित नहीं है बल्कि इंटरनैट की विशाल दुनिया तक पहुंच गया है. यूट्यूब पर जहां फिल्मों के सब से पहले ट्रेलर रिलीज होते हैं, वहीं ट्विटर पर फर्स्ट लुक शेयर किया जाता है और फेसबुक पर पेज लाइक्स किए जाते हैं. ट्विटर पर सैलिब्रिटीज को फौलो करना क्रेज बन चुका है. अगर किसी नामी फिल्मी हस्ती ने एक ट्वीट कर दिया तो उसे फौलो करने वालों की लाइन लग जाती है. 

इंटरनैट क्रांति के इस दौर में फिल्मी हस्तियां व निर्मातानिर्देशक भी यह समझ चुके हैं कि यदि युवाओं को मनोरंजन के संसार से जोड़ना है तो उन के हाईटैक रास्ते पर चलना होगा. इसलिए सोशल मीडिया की लाइक और शेयर की ताकत के बूते फिल्मों का नया वर्चुअल वर्ल्ड युवाओं को अपनी जद में लाने के लिए कमर कस रहा है.

डिजिटल वर्ल्ड का युवा

देश में इस समय करीब 65त्न युवा हैं जो किसी अन्य देश में नहीं हैं और इन युवाओं को जोड़ने का काम सोशल मीडिया कर रहा है. युवावर्ग में सोशल नैटवर्किंग साइट्स का क्रेज दिनोदिन बढ़ रहा है. आजकल हर युवा स्मार्टफोन से लैस है और उस में फेसबुक, ट्विटर आदि साइट्स हैं. जैसे ही युवा किसी फिल्म को देख कर सिनेमाघर से बाहर निकलता है, उसे फिल्म कैसी लगी, तुरंत रिव्यू पोस्ट कर देता है. फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, व्हाट्सऐप, पिंटरेस्ट, टंब्लर, गूगल प्लस जैसे अनेक प्लेटफौर्म पूरी दुनिया के मनोरंजन का बड़ा माध्यम बन कर उभरे हैं. इन प्लेटफौर्म्स ने कई फिल्मों को जबरदस्त कामयाबी दी है.

लाइक्स, फौलो और शेयर का ट्रैंड

बैस्ट ऐक्टर के कई अवार्ड अपने नाम कर चुके बिग बी उस समय चौंक गए जब उन्हें पता चला कि ‘सोशल मीडिया पर्सन औफ द ईयर’ का अवार्ड उन्हें दिया जा रहा है. मुंबई में बाकायदा एक कार्यक्रम में जब उन्हें यह ट्रौफी मिली तब सोशल मीडिया की पर्सनल ब्रैंडिंग, पब्लिसिटी पोटैंशियल का अंदाजा उन्हें भी हो गया जो इसे महज टाइम पास टूल मानते हैं. व्यक्तिगत ब्रैंडिंग के लिए भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल अभिनेताओं द्वारा धड़ल्ले से किया जा रहा है.  बिग बी जहां अपने ट्विटर और ब्लौग्स के जरिए करोड़ों फैंस से बातें करते हैं, वहीं उन की देखादेखी बौलीवुड का हर कलाकार सोशल मीडिया पर अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करने को बेताब है.  महानायक अमिताभ बच्चन के ट्विटर पर 1 करोड़ 80 लाख से ज्यादा फौलोअर्स हैं, जबकि शाहरुख खान के 1 करोड़ 64 लाख फौलोअर्स हैं. दीपिका का फेसबुक पेज तो बिग बी के फेसबुक पेज से भी ज्यादा पौपुलर है. दीपिका के 2 करोड़ 30 लाख प्रशंसक हैं. ट्विटर पर उन्हें फौलो करने वालों की संख्या करीब 80 लाख और इंस्टाग्राम पर करीब 60 लाख है. दीपिका इंस्टाग्राम पर ऐक्टिव है. दीपिका के बाद सलमान खान, शाहरुख खान, प्रियंका चोपड़ा, रितिक रोशन, सोनाक्षी सिन्हा, आलिया भट्ट, जैकलिन फर्नांडीस, सोनम कपूर और श्रद्धा कपूर आते हैं.

विदेशी सैलिब्रिटीज की बात करें तो फुटबौलर क्रिस्टिआनो रोनाल्डो दुनिया के पहले एथलीट बन गए हैं, जिन्होंने सोशल मीडिया पर लोकप्रियता का चरम छुआ है. ट्विटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक पर उन के फौलोअर्स की संख्या बढ़ कर 20 करोड़ से भी अधिक हो गई है. उन के फौलोअर्स की संख्या ग्रेट फुटबौलर मेसी की तुलना में 64त्न से अधिक है. सोशल मीडिया पर एक और रिकौर्ड बनाया हौलीवुड अभिनेता लियोनार्डो डिकेप्रियो ने. इंस्टाग्राम पर प्रियंका चोपड़ा के औस्कर रैड कारपेट वाले फोटो लाखों की संख्या में लाइक किए गए. प्रियंका चोपड़ा इंस्टाग्राम पर भारत की सब से लोकप्रिय अभिनेत्री साबित हुई हैं.

ट्वीट से कमाई करते स्टार्स

ऐसा नहीं कि फिल्म स्टार्स सोशल मीडिया पर सिर्फ पब्लिसिटी के लिए ही अपना कीमती वक्त देते हैं, बल्कि वे यहां से मुफ्त में प्रचार करने के अलावा मोटी कमाई भी करते हैं. कुछ ही लोग जानते हैं कि बौलीवुड व हौलीवुड सैलिब्रिटीज अपने ट्विटर अकाउंट से ही लाखोंकरोड़ों रुपए की कमाई कर लेते हैं. असल में कमाई का मुख्य जरिया कुछ ब्रैंड प्रमोशन हैं, जिन्हें ये ट्विटर के जरिए प्रमोट करते हैं और बदले में हर क्लिक पर इन्हें पैसा मिलता है. दरअसल, यह पैसा उन्हें उन कंपनियों से मिलता है जिन के ब्रैंड्स वे अपने पेज पर फौलो और लाइक्स करवाते हैं. अगर बौलीवुड की बात करें तो यहां भी स्टार्स ट्विटर से कमाई में पीछे नहीं हैं. इन्हें भी एकएक ट्वीट पर लाखों रुपए मिलते हैं. सोनाक्षी सिन्हा के ट्विटर पेज पर इंडियन आइडल के लिए ट्वीट्स देखने को मिलते हैं. सोनाक्षी एक ट्वीट का कंपनियों से 4-5 लाख रुपए वसूलती हैं. वे अपने 52 लाख फौलोअर्स के जरिए भी करोड़ों रुपए कमाती हैं. इसी तरह शाहिद कपूर ने एक टीवी शो के प्रमोशन के लिए 12 लाख रुपए चार्ज किए थे. अनुमान बताते हैं कि शाहिद एक ब्रैंड के मैसेज को ट्वीट करने के 10 से 12 लाख रुपए चार्ज करते हैं. प्रियंका के ट्विटर पर 1 करोड़ से ज्यादा फौलोअर्स हैं. कपिल शर्मा एक ट्वीट का 1 से 5 लाख रुपए के बीच लेते हैं.

फ्री का पीआर : होर्डिंग से हैंगआउट्स तक

कभी फिल्मों का प्रचार दीवारों पर पोस्टर, होर्डिंग्स लगाने या फिर टीवीरेडियो पर प्रोमो के जरिए होता था, लेकिन अब फिल्म पब्लिसिटी दीवारों के होर्डिंग्स से निकल कर गूगल हैंगआउट्स तक जा पहुंची है. अब स्टार्स किसी फिल्म का ट्रेलर सोशल साइट पर अपलोड करते हैं और देखतेदेखते उसे करोड़ों हिट्स मिल जाते हैं यानी बिना पैसा खर्च किए बड़े स्तर पर पब्लिसिटी हो जाती है. फेसबुक पेज पर कई तरह के औफर्स शुरू कर के दर्शकों को जोड़ने का प्रयोग भी सफल हो रहा है. कभी ‘फ्री कपल टिकट’ तो कभी ‘मूवी मर्चेंटाइज’ युवाओं को फिल्मों के नजदीक ले आते हैं. फिल्म ऐक्सपर्ट मानते हैं कि युवा औनलाइन मंच पर फिल्म के बारे में चर्चा करना पसंद करते हैं. लिहाजा, फिल्म निर्माता कंपनियां अब यूट्यूब और फेसबुक जैसे मंचों का सहारा लेती हैं. सोशल मीडिया के जरिए प्रचार न केवल आसान है बल्कि दूसरे कई माध्यमों की अपेक्षा सस्ता भी है.

इन दिनों फिल्म से जुड़ी गेम्स, ऐप्लिकेशंस के जरिए युवाओं को लुभाया जा रहा है. जैसे यूटीवी मोशन पिक्चर्स ने ‘बर्फी’ फिल्म के लिए एक खास ऐप बनाया था. जिसे महज 2 हफ्ते में ही ढाई लाख लोगों ने इसे इस्तेमाल किया, जिस के आधार पर गूगल इंडिया ने पिछले एकडेढ़ साल में इंटरनैट पर सब से बेहतरीन पहल करार दिया. इसी तरह का दावं ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ टीम ने भी खेला और जम कर पब्लिसिटी बटोरी.

कई स्टार्स नैगेटिव पब्लिसिटी के जरिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर सुर्खियों में रहते हैं. इस तरीके से कई सैलिब्रिटीज को काम भी मिलता है. मसलन, टीवी अभिनेता अभिनव शुक्ला ने अपनी न्यूड तस्वीरें पोस्ट कर सोशल मीडिया पर सनसनी फैला कर जम कर सुर्खियां बटोरीं.

 इंडिपैंडैंट सिनेमा का प्रोमोटर

सोशल मीडिया ने इंडिपैंडैंट सिनेमा को नई औक्सीजन देने में अहम रोल निभाया है, जो फिल्में कभी रिलीज होने की राह ताकती थीं, बजट संकट या प्रचार की कमी का शिकार हो कर डब्बाबंद हो जाती थीं, वे अब सोशल मीडिया की ताकत से सिनेमाघरों तक पहुंचने लगी हैं. इस संबंध में फिल्म समीक्षक मिहिर का एक छोटा सा उदाहरण सामने है, निर्देशक पवन कुमार जब अपनी फिल्म के लिए बजट जुटाने में असफल रहे तो उन्होंने ‘मेकिंग एनीमीज’ शीर्षक से जो ब्लौग लिखा, उसे पढ़ कर लोगों ने आगे बढ़ कर उन्हें पैसा देना शुरू किया और यहीं से थ्रिलर फिल्म ‘लूसिया’ की असल शुरुआत हुई, जिसे इंटरनैट पर क्राउडफंडिंग से जुटाए 52 लाख रुपए में बनाया गया. आज इसे कन्नड़ सिनेमा की सब से बड़ी स्वतंत्र सफलताओं में गिना जा रहा है.  इसी तर्ज पर यूट्यूब ने फिल्मों के प्रदर्शन के लिए बौक्स औफिस चैनल की शुरुआत की है, जहां जल्द छोटे बजट की कई फिल्में दिखेंगी. याहू ने भी भारतीय फिल्मों के लिए नैट पर अपना एक अलग चैनल शुरू किया है.

अब युवाओं को लुभाने के लिए एक कदम आगे बढ़ कर यशराज जैसा बड़ा बैनर ‘मांस वर्ल्ड’ और ‘बैंड बाजा बारात’ जैसी वैब सीरीज बना रहा है. वैब रिएलिटी शो का ट्रैंड भी जोर पकड़ रहा है. सोशल नैटवर्किंग साइट आईबीबो पर वैब सीरियल ‘द हंट’ प्रसारित हुआ. इस सस्पैंस थ्रिलर में काम करने वाले कलाकारों से ले कर पटकथा लेखक और निर्देशक तक सभी सोशल नैटवर्किंग साइट पर औनलाइन औडिशन के जरिए चुने गए हैं.

ट्रोल के मारे सितारे

डिजिटल वर्ल्ड की अपनी खामियां हैं जिन में कई बार युवा बह कर सीमा लांघ जाते हैं और फिल्म स्टार्स के साथ बदतमीजी पर उतर आते हैं. जैसा कि पिछले दिनों शाहरुख खान, अभिषेक बच्चन, नील नितिन मुकेश और आलोक नाथ के साथ हुआ. इन सैलिब्रिटीज को ट्रोलिंग का शिकार होना पड़ा. ट्रोलिंग वह स्थिति है जब कलाकारों को डिजिटल दुनिया में निजी अकाउंट्स पर नफरत भरे कमैंट्स, पिक्स, आपत्तिजनक पोस्ट व तसवीरों से दोचार होना पड़ता है. जिस तरह आजकल अभिनेता अभिषेक बच्चन जम कर कोसे जा रहे हैं. कोई उन्हें सब से कम प्रसिद्ध सितारा बता रहा है तो कोई बेरोजगार. पिछले दिनों जब अभिषेक बच्चन भारतपाक क्रिकेट मैच देखने कोलकाता पहुंचे तो उन की उपस्थिति को ले कर ट्विटर पर जम कर मजाक उड़ाया गया कि इतनी बेरोजगारी भी ठीक नहीं कि हर मैच देखने पहुंच जाओ. हालांकि अभिषेक बच्चन अपने सैलिब्रेटी स्टेटस का मजाक उड़ते देख चुप नहीं रहे और अपने चिरपरिचित अंदाज में ट्विटर पर खुद पर कसे जा रहे तानों का जवाब दिया.

अधिकतर कलाकार सोशल मीडिया पर बढ़ रही ट्रोलिंग से तंग आ कर इस से दूरी बना रहे हैं. किंग खान ने भी कुछ अरसा पहले अपने फैंस को भी ट्विटर व फेसबुक पर गाली देने और ट्रोलिंग से परहेज करने को कहा है. उन्होंने तो ट्विटर छोड़ने की भी बात की और लिखा कि मैं इसलिए ट्विटर पर नहीं आया कि लोग मुझे गाली दें. यहां कई इडियट हैं जो गंदी बातें करते हैं, मैं नहीं चाहता कि उन्हें पढ़ूं. कई और ऐक्टर्स सोशल मीडिया पर गालीगलौज करने वाले फैंस को झाड़ लगा चुके हैं. इस तरह जहां शाहरुख ने फैंस से गुजारिश की थी कि उन्हें ट्रोल न करें, सलमान खान भी कुछ महीने पहले अपने फैंस को इसे ले कर वार्निंग दे चुके हैं. इस के अलावा नेहा धूपिया, दिया मिर्जा, श्रुति सेठ भी ट्विटर पर ट्रोलिंग का शिकार हो चुकी हैं. इंटरनैट ऐंड मोबाइल एसोसिएशन औफ इंडिया द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक 35 प्रमुख शहरों के सर्वे बताते हैं कि 77त्न उपयोगकर्ता सोशल मीडिया का इस्तेमाल मोबाइल से करते हैं और इस में भी युवाओं की भूमिका प्रमुख है. आंकड़े यह भी बताते हैं कि देश में सोशल मीडिया पर अधिकतम कालेज जाने वाले युवा विद्यार्थी अधिक से अधिक समय बिताते हैं. जाहिर है इतनी बड़ी तादाद में तकनीक का इस्तेमाल करता युवा बड़ा उपभोक्ता है और इस के लिए सोशल मीडिया जैसे प्लेटफौर्म के जरिए ऐंटरटैनमैंट वर्ल्ड न सिर्फ उन के इंटरैस्ट का कंटैंट मुहैया करा रहा है बल्कि उन्हें अपने करीब भी ला रहा है.   

ऐसे बढ़ाएं फौलोअर्स

– अपने ट्विटर, ब्लौग या वैबसाइट का भी लिंक साझा करते रहें.

– कोई आप को ट्वीट करे तो उस का  जवाब दें, देख लें कि कोई स्पैम तो नहीं.

– जो आप का ट्वीट शेयर करते हैं, उन्हें थैंक्स करें.

– हर लिंक या शेयर में कोई न कोई जानकारी का स्रोत दें.

– अपने ट्वीट में हैशटैग का इस्तेमाल जरूर करें.

– रीट्वीट ट्विटर का बहुत जरूरी है.

– ट्रैंडिंग टौपिक को समझें.

– ट्विटर के जरिए लोगों को कुछ बेचने की जरूरत नहीं है.

COMMENT