हिंदी फिल्मों में संगीत की मौजूदगी कितनी जरूरी है, यह बताने की जरूरत नहीं है. एक औसत फिल्म की लगभग एकचौथाई रील गानों व बैकग्राउंड म्यूजिक पर गुजर जाती है. बीते अरसों में तकनीक के आगमन ने संगीत को बड़ा सस्ता व हलका बना दिया है. कंप्यूटर पर गाने मिक्स हो जाते हैं, कोई भी बेसुरा अब गा लेता है. साउंड मिक्ंिसग से आवाज का स्तर ठीक हो जाता है. इस तरह संगीतकारों की जगह बौलीवुड में नए लोग ऐसे भी आ गए हैं जो खुद गाते हैं और कंपोज भी करते हैं. कुछ ऐसा ही ट्रैंड आज से लगभग 4 दशक पूर्व संगीतकार व गायक बप्पी लाहिड़ी ने भी शुरू किया था. हाल में उन्हें फ्रांस के ग्लोबल मूवी फैस्ट में लाइफटाइम अचीवमैंट अवार्ड मिलने की खबर है. 80 के दशक के डिस्को किंग के नाम से मशहूर संगीतकार और गायक बप्पी लाहिड़ी के बड़ेबड़े चश्मों के साथ गले में सोने के ढेरों जेवर ट्रैक सूट या कुरतापायजामा उन की शख्सीयत को अलग करते हैं. हालांकि उन पर कई बार विदेशी धुन चुराने का आरोप लगा है और कई दफा उन्होंने स्वीकार भी किया है. उन्होंने किशोर कुमार, आशा भोंसले, अलिशा चिनौय और उषा उत्थुप की आवाज को बखूबी इस्तेमाल किया. हंसमुख और नम्र स्वभाव के बप्पी लाहिड़ी इन दिनों फिल्मों से ज्यादा टीवी पर बिजी हैं.

Tags:
COMMENT