दुनिया में स्मार्टफोन उपभोक्ताओं की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, इस बढ़ते हुए तादाद और इंटरनेट के इस्तेमाल की वजह से फोन हैक या डाटा चोरी होने जैसी तमाम प्रकार की घटनाएं भी बढ़ती जा रही है. वक्त के साथ स्मार्टफोन वाकई में स्मार्ट होता चला जा रहा है और आज के युग में स्मार्टफोन का इस्तेमाल लोग केवल बात करने या फिर सोशल मीडिया पर चैट करने के लिए ही नहीं करते हैं, आजकल स्मार्टफोन लोगों की जरूरत बनती जा रही है. लोग अपने बैंकिग, औनलाइन पेमेंट, खरीदारी आदि भी स्मार्टफोन से करने लगे हैं. ऐसे में स्मार्टफोन का हैक होना या जानकारी लीक होना यूजर्स के लिए परेशानी पैदा कर सकती है.

आज हम अपने कुछ खास लोगों के द्वारा एकत्रित किये गए जानकारी के माध्यम से हम आपको बताएंगे की आखिर आप किस तरीके से अपने स्मार्टफोन को हैक होने से बचा सकते हैं. ”जब भी आप कोई ऐप अपने स्मार्टफोन में इंस्टौल करते हैं तो पहले चेक कर लें कि वो ऐप गूगल प्ले स्टोर पर वेरिफाइड हैं कि नहीं. इसके अलावा आप थर्ड पार्टी एप अपने स्मार्टफोन में भूल कर भी इंस्टौल करने से बचें. साथ ही किसी ऐप को गैर-जरूरी परमिशन न दें, क्योंकि अगर आप किसी ऐप को गैर-जरूरी परमिशन देते हैं तो ये आपके लोकेशन, कौन्टैक्ट्स, आपकी रूचि, फोटो आदि की जानकारी इकठ्ठा कर लेते हैं, जिससे आपकी निजी जानकारी हैकर्स के पास जाने का खतरा बना रहता है.” जिस प्रकार कुछ वक्त पहले अमेरिका में फेसबुक के मामले में देखने को मिला था तो किसी भी ऐप को अपने डाटा को एक्सेस करने की अनुमति देने से पहले 10 बार सोच विचार ले की क्या ये सही है या नहीं.

technology

गलती से भी ना करें थर्ड पार्टी ऐप को इंस्टौल

सबसे पहले आप अपने एंड्रौयड स्मार्टफोन में कभी भी किसी थर्ड पार्टी ऐप को इंस्टौल करने से बचें. थर्ड पार्टी ऐप के जरिए हैकर्स आसानी से आपके स्मार्टफोन का डाटा चुरा सकते हैं. इसलिए हमेंशा वेरिफाइड ऐप ही गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें, क्योंकि ये ऐप ज्यादातर सुरक्षित होते हैं और इनसे कोई खतरा आमतौर पर होता नहीं है.

किसी भी ऐप को परमिशन देने से पहले सोच विचार लें

आप किसी ऐप को इंस्टौल करते समय उसे अपने कौन्टैक्ट, फोटो, कैमरा आदि का एक्सेस न दें, किसी ऐप में अगर जरूरत हो तब ही उसमें एक्सेस दे. इसके अलावा अपने एंड्रौयड फोन में गूगल प्ले प्रोटेक्ट को इनेबल कर लें. अन्यथा आपका डाटा आपकी अनुमित देने की आदतो की वजह से गलत हाथों में भी लग सकता है जिसका कोई भी चाहे अपने इच्छानुसार गलत इस्तेमाल कर सकता है.

काम के ऐप तथा वेरिफाईड ऐप को अनुमित देने से काफी हद तक आपका स्मार्टफोन सुरक्षित रहेगा और हैक होने की संभावना नहीं के बराबर रहेगा. अगर आप चाहते हैं तो एंटी वायरस भी इंस्टौल कर सकते हैं.

स्मार्टफोन में गूगल प्ले प्रोटेक्ट सर्विस को कैसे करें इनेबल

  • सबसे पहले आप अपने स्मार्टफोन में सेटिंग्स के औप्शन पर टैप करें.
  • स्क्रौल करने के बाद यहां आपको मोर सेटिंग्स आइकन दिखाई देगा, उसपर टैप करें.
  • यहां आपको सिक्योरिटी औप्शन दिखाई देगा, अब आप यहां टैप करें.
  • सिक्योरिटी पर टैप करते हुए सबसे ऊपर आपको गूगल प्ले प्रोटेक्ट औप्शन दिखाई देगा, उसपर टैप करें.
  • यहां आपको स्कैन डिवाइस फौर सिक्योरिटी थ्रेट्स और इंप्रूव हार्मफुल एप डिटेक्शन औप्शन दिखाई देगा.
  • इसे इनेबल करते ही आपके डिवाइस की सिक्योरिटी बढ़ जाती है और इन वायरस के अटैक का खतरा कम हो जाता है.

आप अपने स्मार्टफोन को पूरी तरह से सिक्योर रखने के लिए अपने स्मार्टफोन में कभी भी थर्ड पार्टी ऐप इंस्टौल न करें.