स्मार्टफोन हो या टैबलेट या अन्य गैजेट्स सभी की स्पेसिफिकेशन्स हर नए लौन्च के  साथ और पावरफुल नजर आती हैं. लेकिन इसके बाद भी इन सभी गैजेट्स का इस्तेमाल इतना बढ़ गया है की बैटरी के मामले में ये पीछे रह जाते हैं. इनका सही तरीके और सही समय पर इस्तेमाल किया जा सके इसके लिए पावर बैंक की जरुरत जरूर पड़ती है.

पावर बैंक्स यह सुनिश्चित करते हैं की आपके फोन की बैटरी ड्रेन न हो. इसकी वजह से आप जुड़े रह पाते हैं. इसी कारण पावर बैंक का बाजार भी दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. इसलिए पावर बैंक बनाने वाली कंपनियां भी इसके डिजाइन से लेकर कलर, साइज, क्वालिटी सभी पर ध्यान दे रही हैं. हालांकि, इतनी बड़ी रेंज में उपलब्ध पावर बैंक्स में से सही का चयन करना मुश्किल हो जाता है. ऐसे में आपकी मदद करने के लिए हम आपको कुछ टिप्स देने जा रहे हैं. पावर बैंक खरीदने से पहले इन बातों का ख्याल रखने पर आप अपने लिए बेहतर पावर बैंक का चयन कर पाएंगे.

कैपेसिटी: ऐसे पावर बैंक का चयन करें जो आपके फोन की बैटरी से दोगुनी बैटरी का हो. यह कुछ सबसे महत्वपूर्ण बिंदुओं में से एक है. इसी के साथ इस बात का भी ध्यान रखें की आपके पावर बैंक का आउटपुट वोल्टेज आपकी डिवाइस से मैच करता हो. अगर चार्जर का आउटपुट वोल्टेज कम है तो वो आपकी डिवाइस के साथ काम नहीं करेगा.

technology

क्वालिटी और सेफ्टी विकल्प: पावर बैंक लेने से पहले उसकी बिल्ड क्वालिटी का भी ध्यान रखें. पावर बैंक की ओवरऔल क्वालिटी उसकी परफौरमेंस के साथ-साथ उसकी स्पीड और एनर्जी ट्रांसफर भी निर्धारित करती है. लो क्वालिटी का पावर बैंक आपके डिवाइस का गलत तरीके से चार्ज करने के साथ-साथ उसको खराब भी कर सकता है.

कनेक्टिविटी विकल्प और यूएसबी चार्जिंग: किसी भी पावर बैंक का मुख्य फीचर उसकी फ्लेक्सिबिलिटी है. फ्लेक्सिबिलिटी से यहां मतलब है की आपका पावर बैंक एक समय में कितनी डिवाइसेज चार्ज कर सकता है. बाजार में ऐसे कई पावर बैंक उपलब्ध हैं जो अलग-अलग तरह के कनेक्टर्स के साथ आते हैं. ये पावर बैंक को मल्टीपल मोबाइल गैजेट्स से कनेक्ट करने का काम करते हैं, जैसे की स्मार्टफोन्स, टैबलेट्स और कैमरा आदि.

कनेक्टमल्टीपलर होने से आप एक समय में एक से ज्यादा गैजेट को चार्ज कर सकते हैं. मल्टीपल प्लग्स के अलावा कुछ पावर बैंक्स में बिल्ट-इन यूएसबी चार्जिंग केबल्स भी आती हैं. इन्हें पावर बैंक में ही फोल्ड कर के स्टोर किया जा सकता है. इससे आपको चार्जिंग केबल भूल जाने या गुम हो जाने की भी चिंता नहीं रहेगी.

एलईडी इंडीकेटर्स: पावर बैंक में एलईडी इंडिकेटर लाइट्स काफी चीजों के काम आ सकती हैं, जैसे की बैटरी लेवल चेक करने के लिए और चार्जिंग स्टेटस का पता लगाने के लिए आदि. इसलिए संभव हो तो आपको एलईडी इंडिकेटर लाइट्स वाला पावरबैंक लेना चाहिए.

सुरक्षा: हाई ग्रेड लिथियम पौलीमर बैटरी वाला पावर बन ही लें, सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण बिंदुओं में से एक है. कई यूजर्स अपने फोन को रात को सोते समय चार्ज करते हैं. इससे कई परेशानियां जुडी होती हैं. पावर बैंक में लगे लो क्वालिटी के पावर सेल्स ओवरचार्जिंग के कारण फट भी सकते हैं. इससे आपकी डिवाइस डैमेज होने के साथ-साथ कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं.

इसलिए यही सुझाव दिया जाता है की ऐसा पावर बैंक लें, जिसमें हाई ग्रेड लिथियम पौलीमर बैटरी हो. एक अच्छा पावर बैंक डिवाइस को हमेशा सुरक्षित रखता है. कई पावर बैंक्स शार्ट सर्किट के विरुद्ध बिल्ट-इन प्रोटेक्शन के साथ आते हैं. ऐसे पावर बैंक्स थोड़े महंगे जरूर हो सकते हैं, लेकिन यह इन्वेस्टमेंट आपके अच्छे के लिए ही होगी.

Tags:
COMMENT