सरिता विशेष

अब लैपटॉप और डेस्कटॉप का जमाना गया लोग अपना हर काम स्मार्टफोन की मदद से ही करते हैं. प्रोफेशनल लाइफ से लेकर पर्सनल लाइफ तक सबकुछ स्मार्टफोन से जुड़ गया है. चाहें बात बैंक पासवर्ड से जुड़ी हुई हो या किसी पार्टी की फोटोज से आपका स्मार्टफोन अगर किसी गलत हाथ में पड़ जाए तो काफी मुश्किल हो सकती है. अगर हम आपसे कहें की स्मार्टफोन से जुड़ी कुछ जानकारियां मात्र 30 सेकेंड में कोई भी आसानी से चुरा सकता है. जी हां, आज हम आपको बताने जा रहे किस तरह आपके स्मार्टफोन का उपयोग कर हैकर आपको चुना लगा सकते है

टिल्ट सेंसर

अगर आप ऑफिस कर्मचारी हैं तो स्मार्टफोन को अपनी डेस्क पर रखना आपकी आदत बन चुकी होगी. स्मार्टफोन में एक डिवाइस लगा होता है जिसका नाम टिल्ट सेंसर है. अगर किसी हैकर ने आपके स्मार्टफोन को शिकार बना लिया है तो इस डिवाइज की मदद से आसानी से कम्प्यूटर पर हो रही हर गतिविधी का पता लगाया जा सकता है. इसके जरिए सेव किए हुए पासवर्ड, बैंक अकाउंट, सिस्टम पर क्या टाइप हो रहा है, यहां तक की नॉन वेज चैट को भी आसानी से कॉपी किया जा सकता है.

स्मार्टफोन सेंसर

स्मार्टफोन के सेंसर की मदद से आसानी से क्रेडिट कार्ड के सारे राज खोले जा सकते हैं. इसके लिए बस स्मार्टफोन को क्रेडिट कार्ड के करीब लाने की जरूरत है. इसके लिए स्मार्टफोन से निकलने वाली वेव्स का सहारा लिया जाता है. बस किसी अनुभवी हैकर के सामने अपना क्रेडिट कार्ड रखिए और काम तमाम. इसके अलावा भी कई ऐसे तरीके हैं जो स्मार्टफोन का इस्तेमाल जरूरी जानकारी चुराने के लिए प्रयोग किए जाते हैं. फ्री चार्जिंग सर्विस स्टेशन और वायरलेस चार्जिंग से लेकर किसी अन्य सॉफ्टवेयर की मदद से स्मार्टफोन हैक किया जा सकता है.

हैकिंग सॉफ्टवेयर

इस तकनीक के माध्यम से हैकर उस फोन की तलाश में रहते हैं जिसमें ब्लूटूथ या वाई फाई का उपयोग हो रहा हो. इसके लिए हैकर किसी भीड़ वाली जगह में अपने लैपटॉप पर हैकिंग सॉफ्टवेयर को एक्टिवेट करता है. यह सॉफ्टवेयर एक एंटीने के जरिए उपयोग में आ रहे नजदीकी ब्लूटूथ के सिग्नल को पकड़ लेता है. फिर अपने लैपटॉप के जरिए वह आपके मोबाइल पर उपलब्ध सारी जानकारी हासिल कर उसका उपयोग कर सकता है.