गूगल फार इंडिया 2018 (Google For India 2018) का चौथा संस्करण 28 अगस्त को दिल्ली में आयोजित किया गया. इसमें गूगल के कई प्रोडक्ट्स को लौन्च किया गया. इसके साथ ही इस इवेंट में गूगल मैप्स के भारत में 10वीं सालगिरह के मौके पर गूगल मैप्स के वाइस प्रेसिडेंट गायत्री रंजन ने कहा, ”गूगल मैप्स के लिए भारत एक तेजी से बढ़ रहा देश है. इस मौके पर गूगल मैप्स के नए फीचर्स के साथ ही कोलकाता के 25,000 घरों में प्लस कोड जारी किया गया, जिसकी मदद से गूगल मैप्स पर इन घरों की पहचान की जा सकेगी. ये प्लस कोड इन घरों का वर्चुअल एड्रेस होगा.”

गूगल मैप्स के नए फीचर्स

गूगल मैप्स के जरिए अब यूजर्स इंटर-सिटी बस के आगमन और प्रस्थान के बारे में भी पता लग सकेगा. इसके लिए गूगल ने औनलाइन बस बुकिंग प्लेटफार्म रेड बस के साथ साझेदारी की है. इतना ही नहीं, गूगल मैप्स के जरिए यूजर्स को अपने बुक किए हुए बस की जानकारी मिल सकेगी. गूगल की यह सेवा 20,000 से ज्यादा बस रूट पर मिलेगी.

गूगल मैप्स के लाइट वर्जन गूगल मैप्स Go के यूजर्स भी टर्न-बाय-टर्न वौयस नेविगेशन की सेवा हिंदी और अंग्रेजी भाषा में ले सकेंगे. आने वाले कुछ सप्ताह में इस सेवा को रोल आउट कर दिया जाएगा.

गूगल मैप्स गो में अब पब्लिक ट्रांसपोर्ट के बारे में भी यूजर्स को हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं में सूचना मिल सकेगी. इतना ही नहीं, बस के स्टॉप के साथ ही गंतव्य के लिए कितना पैदल चलना होगा, इसके बारे में भी जानकारी मिल सकेगी.

गूगल मैप्स गो के जरिए यूजर्स को यह भी पता चल सकेगा कि उन्होंने कितनी यात्रा पूरी की है और कितनी बांकी है. यह सुविधा भी हिंदी और अंग्रेजी दोनो ही भाषाओं में मिल सकेगी.

गूगल मैप्स गो के यूजर इंटरफेस में भी बदलाव किया गया है. गूगल मैप्स गो को अपग्रेड करते हुए इसमें एक नया होम स्क्रीन दिया गया है. साथ ही पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए शार्टकट भी दिया गया है.

गूगल मैप्स गो को यूजर्स 3G और 2G नेटवर्क में भी इस्तेमाल कर सकेंगे. यह ऐप सस्ते स्मार्टफोन्स में भी काम करेगा.

इसके अलावा गूगल ने दावा किया है कि 2018 में 50 मिलियन यूजर्स ने गूगल मैप्स का इस्तेमाल किया है. साथ ही, 20 मिलियन यूजर्स ने गूगल मैप्स के टू-व्हीलर मोड का इस्तेमाल किया है.