सरिता विशेष

अमेरिका के लास वेगास में 6 जनवरी से कन्ज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स शो CES 2016 शुरू हो गया है. इसमें ऐप से कंट्रोल होने वाला स्मार्ट शू पेश किया गया. इसे दुनिया का पहला 'इंटेलिजेंट फुटवियर' भी कहा जा रहा है. ऐप की मदद से ये शू पैरों को गर्म और टाइट रखता है. सर्दियों के मौसम में ये काफी फायदेमंद साबित हो सकता है.

कैसे काम करेगा ये इंटेलिजेंट फुटवियर

– दुनिया के इस पहले इंटेलिजेंट फुटवियर को डिजीसोल (Digitsole) कंपनी ने बनाया है.

– इसके सोल में हीटर और सेंसर दिया गया है.

– हीटर पैर के तलवों को 30 डिग्री सेल्सियस तक गर्म रख सकता है.

– इसमें एक बैटरी और ब्लूटूथ सेंसर भी है. रेग्युलर यूसेज पर ये बैटरी 8 घंटे काम करती है.

– सेंसर यूजर के फुटस्टेप्स को काउंट करता है और ऐप में डाटा डिस्प्ले करता है.

– मोबाइल ऐप के जरिए इसके टेम्परेचर को बढ़ाया या घटाया जा सकता है. साथ ही इसे टाइट और लूज भी किया जा सकता है.

– दिखने में ये आम फुटवेयर से बड़ा है और इसमें ट्रेडिशनल शूज की तरह लेस भी नहीं हैं.

– इसे माइक्रो USB चार्जर की मदद से चार्ज किया जा सकता है.

– साथ ही शू यूजर को ये भी बताएगा कि कब इसके सोल बदलने का वक्त है.

कितनी है कीमत?

– इसकी कीमत 450 डॉलर (लगभग 30049 रुपए) है.

– इसे सबसे पहले सितंबर में अमेरिकी मार्केट में लॉन्च किया जाएगा.

– इसे बनाने में निओटेक (Neotech) का इस्तेमाल किया गया है. इस टेक्नोलॉजी में ऑर्थोलाइट का इस्तेमाल कर लाइटवेट मटेरियल्स बनाए जाते हैं.

हाइड्रोजन बम के पहले सफल परीक्षण की उत्तरी कोरिया की घोषणा की दुनियाभर में आलोचना हो रही है। किम जोंग-उन ने पिछले महीने संकेत दिए थे कि उनके परमाणु-संपन्न देश ने हाइड्रोजन बम भी विकसित कर लिया है। उत्तर कोरिया इससे पहले एटम बम के भी तीन परीक्षण कर चुका है। खास बात यह है कि एटम बम की तुलना में हाइड्रोजन बम ज़्यादा खतरनाक है।

सर क्या इस विषय पर एक त्वरित टिप्पणी या आलेख वेब के लिए मिल सकता है।