सरिता विशेष

मस्तिष्क का सुरक्षा कवच

आप अपनी लाइफस्टाइल में थोड़ेबहुत बदलाव कर अपने दिमाग को ज्यादा लंबे समय तक स्ट्रौंग बना सकते हैं. 5 बातें जान कर आप को शायद भूलने की बीमारी ही न हो या फिर ये आप को भूलने से बचाने में कारगर साबित होंगी. वे बातें हैं–आप धूम्रपान से दूरी बना लें, व्यायाम पर ज्यादा ध्यान दें, अपना वजन कम रखें, शराब का सेवन न करें और प्रोटीनयुक्त डाइट को खाने में प्राथमिकता दें. ब्रिटेन की एडिनबरा यूनिवर्सिटी में हुई रिसर्च के मुताबिक, डिमैंशिया से निबटने या उसे दूर भगाने के तरीके नहीं हैं. हां, इस के खतरे को कम जरूर किया जा सकता है. रिसर्च के अनुसार, याददाश्त को अच्छा रखने के लिए जो नुस्खे बताए गए हैं वे पहले से ही हमारे शरीर के लिए अच्छे समझे जाते रहे हैं यानी देखा जाए तो इन बातों को मान लेने से आप का फायदा ही होगा, कोई नुकसान नहीं. रिसर्च के दौरान सामने आया कि अगर आप का शरीर मेहनत करेगा तो आप की याददाश्त ज्यादा दिनों तक अच्छी हालत में बनी रहेगी, साथ ही, जो शुरुआत से ही मेहनत से पीछे नहीं भागते उन लोगों के बूढ़ा होने पर अल्जाइमर रोग होने का खतरा भी कम ही रहेगा.

प्रैग्नैंसी में गैजेट्स से बचें

अगर आप प्रैग्नैंट हैं तो आप को अपने मोबाइल फोन और माइक्रोवेव से खतरा हो सकता है. रिसर्च के मुताबिक, गर्भ में पल रहा बच्चा इन गैजेट्स से डरता है. फोन की रिंगटोन हो या उस में लगा वाइब्रेशन–ये दोनों ही बच्चे को डराते हैं और ऐसा होने से बारबार उस की नींद भी टूटती है. न्यूयौर्क के विकोफ हाइट्स मैडिकल सैंटर के शोध में यह बात सामने आई है. 6 से 9 माह का गर्भस्थ शिशु मोबाइल की रिंगटोन से एकदम चौंकता है. इस के लिए बेहतर है कि आप मोबाइल को अपने से दूर ही रखें और उस की आवाज को भी कम या साइलैंट मोड पर रखें. विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के अनुसार, भू्रण को माइक्रोवेव रेडिएशन का खतरा भी होता है क्योंकि शिशु की त्वचा की परत काफी पतली होती है. प्रैग्नैंसी के दौरान ऐसे उपकरणों से दूरी रखने से आप का बच्चा स्वस्थ बनेगा.

ग्रीन टी भगाएगी कैंसर

रोजाना एक कप ग्रीन टी न सिर्फ आप की सेहत के लिए अच्छी है बल्कि यह मुंह के कैंसर से लड़ने में भी कारगर होती है. पेनसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में पाया कि ग्रीन टी में पाया जाने वाला एक तत्त्व ऐसी प्रक्रिया को शुरू करने में सक्षम है जो स्वस्थ कोशिकाओं को छोड़ कर कैंसरग्रस्त कोशिकाओं को मारती है. ग्रीन टी में पाया जाने वाला एपिगैलोकेटचिन-3- गैलेट में कैंसरग्रस्त कोशिकाओं को मारने की क्षमता होती है.

गंजे हैं तो नो प्रौब्लम

अगर आप गंजे हैं तो घबराने की या शर्मिंदा होने की जरूरत नहीं.  अमेरिका के सैनफोर्ड बर्नहम मैडिकल रिसर्च इंस्टिट्यूट में हुए शोध में पाया गया कि अब गंजे के सिर पर भी बाल उग सकेंगे. वैज्ञानिकों ने मानव स्टेम कोशिकाओं से बाल उगाने का एक नया तरीका ढूंढ़ निकाला है. बता दें कि यह उपाय आप के द्वारा अपनाए गए बाकी उपायों से कहीं ज्यादा बेहतर साबित हो सकेगा. अभी आप जो उपाय इस्तेमाल करते हैं, उस में हेयर फौलिकल को सिर पर एक जगह से दूसरी जगह प्रत्यारोपित किया जाता है. नए तरीके से आप अनगिनत संख्या में अपने सिर पर बाल उगा पाएंगे. स्टेम कोशिकाएं ही हैं जिन में शरीर के किसी भी अंग की कोशिका के रूप में विकसित होने की क्षमता होती है.