आज के समय में आधार कार्ड हर किसी के पास होता है. यह एक ऐसा पहचान पत्र है, जिसे सबसे ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है. आधार कार्ड के जरिए सिम लेना, ऑनलाइन पेमेंट करने जैसे कई काम किए जा सकते हैं. इस बायोमैट्रिक आधारित व्यवस्था को हर दूसरे स्कीम के लिए अनिवार्य किया जा रहा है. आधार कार्ड का इस्तेमाल वर्तमान समय में पासपोर्ट, वोटर आईडी, राशन कार्ड जैसे सेवाओं के लिए भी किया जाने लगा है.

लेकिन हाल ही में आ रही खबरों के मुताबिक, आधार कार्ड का डाटा चुराने की कोशिशें की जा रही हैं. हालांकि, यूआईडीएआई ने इन सभी बातों को महज एक अफवाह बताया है. यूआईडीएआई के पास लोगों का व्यक्तिगत डाटा बिल्कुल सुरक्षित है. लेकिन अब ऑनलाइन पेमेंट्स के लिए आधार कार्ड को आवश्यक किया जा रहा है. ऐसे में बायोमैट्रिक्स डाटा पर असामाजिक तत्वों की नजर हमेशा बनी रहने के आसार हैं. इसी के चलते आधार कार्ड का डाटा सुरक्षित रखने के कुछ तरीके-

1. बायोमैट्रिक डाटा को ऑनलाइन करें लॉक

कई लोग ऐसे हैं, जिन्होंने कई दिनों से अपना आधार कार्ड इस्तेमाल नहीं किया है. ऐसे लोगों को यूआईडीएआई से ईमेल के जरिए ये बताया गया है कि उनका डाटा बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन के जरिए एक्सेस किया गया है. इस स्थिति से बचने के लिए लोगों को यूआईडीएआई सर्वर पर जाकर अपना बायोमैट्रिक इंफॉर्मेशन लॉक करना होगा. इससे आपका डाटा सुरक्षित रहेगा.

2. किसी से साझा ना करें आधार से जुड़ी जानकारी   

ध्यान रखें कि कोई भी संस्थान और बैंक कभी-भी आपसे आपकी निजी जानकारी नहीं मांगता है. अगर आपके पास कभी आधार कार्ड से संबंधित जानकारी को साझा करने के लिए कोई फोन या ईमेल आए, तो आप कभी-भी अपने आधार का डाटा शेयर न करे.

3. आधार की फोटोकॉपी देने से बचें

आधार कार्ड की फोटोकॉपी हर किसी को देना आपको खतरें में डाल सकता है. कोई व्यक्ति आपके आधार की फोटोकॉपी का गलत इस्तेमाल कर सकता है. ऐसे में अगर आप किसी को फोटोकॉपी दे रहे हैं, तो उस पर अपने हस्ताक्षर कर ये लिख दें कि यह कॉपी किस काम के लिए दी जा रही है.

4. बायोमैट्रिक्स डाटा का इस्तेमाल सोच समझ कर

रिलायंस जियो सिम खरीदते समय ग्राहकों को स्कैनर पर अपने अंगूठे का निशान देना होता है. आने वाले समय में कई जगहों पर इस तरह की व्यवस्था का इस्तेमाल किया जाएगा. ऐसे में अगर आपको पूरी तरह से भरोसा न हो, तो अपने अंगूठे का निशान न दें.

5. आधार कार्ड खो जाने की स्थिती में

ऐसी परिस्थिति में पुलिस थाने जाकर एफआईआर दर्ज कराएं. और यूआईएडीआई की वेबसाइट पर जाकर नया आधार कार्ड प्राप्त किया जा सकता है. या फिर से किसी आधार सेंटर पर जाकर नया डुप्लिकेट आधार कार्ड बनवा सकते हैं.