सरिता विशेष

अभी तक आप ने ड्राइवरलैस ट्रेनों के बारे में सुना था, लेकिन क्या कभी आप ने सुना है कि ट्रेन पटरी पर दौड़ते हुए अदृश्य हो जाएगी. भविष्य में हमारा ड्रीम हकीकत में बदलने जा रहा है क्योंकि जापान ने ऐसी अदृश्य ट्रेन को 2018 तक पटरी पर उतारने की तैयारी कर ली है. इस की घोषणा सेबु रेलवे की 100वीं वर्षगांठ पर की गई. आर्किटेक्ट कजूयो सेजिया ने ऐसा डिजाइन बनाया है कि जैसे ही ट्रेन पटरी पर गति पकड़ेगी वह अदृश्य हो जाएगी क्योंकि उस की बाहरी और भीतरी सतह को इस तरह बनाया गया है कि वह गति पकड़ते ही बाहर की चीजों में मिल जाती है, जिस से ट्रेन पटरी पर दौड़ रही है कोई नहीं जान पाता. बाहरी सतह पर अर्द्धपरावर्तक प्रिंट की परत लगाई गई है. उस के कैबिंस ऐसे बनाए जा रहे हैं कि यात्री को उस में सफर करते हुए ऐसा एहसास ही नहीं होगा कि वह ट्रेन में ट्रेवल कर रहा है बल्कि उसे लगेग कि वह अपने कमरे में बैठ कर आराम फरमा रहा है. ट्रेन को पूरी तरह से मौडर्न टैक्नोलौजी से लैस करने की कोशिश की जा रही है. ऐसा सिर्फ और सिर्फ सेजिमा के कारण ही संभव हो पाया है. तभी तो सेजिमा की काबिलियत को देखते हुए सेबु रेलवे कंपनी ने रैड एरो कंप्यूटर ट्रेन को रीडिजाइन करने के लिए नियुक्त किया था, जो टोक्यो में चलती थी. फास्ट कंपनी रिपोर्ट्स के अनुसार, सेजिमा ऐसी ट्रेन डिजाइन करने वाले पहले व्यक्ति हैं. उन्हें आर्किटेक्चर के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार भी मिल चुका है.