सरिता विशेष

मैं 50 वर्षों बाद पटियाला आया हूं. भाषा विभाग, पंजाब यदि मेरे कहानी संग्रह को सुदर्शन पुरस्कार से न नवाजता तो मैं इस शहर में शायद न आ पाता. पर कहते हैं, जहाज का पंछी जब एक बार जहाज छोड़ कर जाता है तो अपने जीवनकाल में एक बार फिर जहाज पर आता है. मेरी स्थिति भी वैसी ही थी. इतने वर्षों बाद इस शहर में आना मुझे रोमांचित कर रहा था.

पुरस्कार समारोह 2 बजे ही समाप्त हो गया था. मैं उन स्थानों को देखना चाहता था जो मेरे मानस पटल पर सदा छाए रहे. 65 की लड़ाई के बाद हमारी यूनिट यहीं आ गई थी. यह मेरी पहली यूनिट थी. मैं मैट्रिक पास कर के 15-16 साल की आयु के बाद सेना में भरती हुआ था. मैं ने यहीं से अपनी आगे की पढ़ाई शुरू की थी. यहीं के न्यू एरा कालेज में सांध्य कक्षाओं में पढ़ा करता था. मेरे उस समय के कमांडिंग अफसर मेजर पी एम मेनन ने इस की इजाजत दे दी थी.

मैं ने सेना में रहते एमए हिंदी पास कर लिया था. मैं वह कालेज देखना चाहता था. बाहर निकल कर इसी सड़क पर वह कालेज होना चाहिए. मैं ने ड्राइवर से उसी सड़क पर चलने के लिए कहा. थोड़ी दूर चलने पर मुझे कालेज की बिल्ंिडग दिखाई दे गई. मैं ने कार को एक तरफ पार्क करने को कहा. नीचे उतरा और कालेज को ध्यान से देखा. पहले बिल्ंिडग पुरानी थी. अब उस को नया लुक दे दिया गया था. खुशी हुई, कालेज ने काफी तरक्की कर ली है.

मैं जल्दी से कालेज की सीढि़यां चढ़ गया. जहां हमारी कक्षाएं लगा करती थीं, वहां पर अब पिं्रसिपल का औफिस बन गया था. पिं्रसिपल के कमरे में एक सुंदर महिला ने मेरा स्वागत किया. मैं ने उन को अपने बारे में बताया कि किस प्रकार 50 वर्षों बाद मैं यहां आया हूं. जान कर उन्होंने खुशी जाहिर की. मैं ने उस समय के पिं्रसिपल पाठक साहब के बारे में पूछा. उन्होंने कहा, वे उन के पिता थे. पाठक साहब अब नहीं रहे. यह जान कर दुख हुआ. वे बहुत अच्छे शिक्षक थे. परीक्षाओं के दिनों में वे बहुत मेहनत करते और करवाते थे. उन महिला ने चाय औफर की. पाठक साहब की मौत के बारे में सुन कर चाय पीने का मन नहीं किया. कालेज की तरक्की की शुभकामनाएं दे कर मैं नीचे आ गया.

ड्राइवर से कार को मालरोड पर ले जाने के लिए कहा. उसी रोड पर आगे चल कर राजिंद्रा अस्पताल आता है. मालरोड पर काफी भीड़ हो गई है, वरना दिन में अकसर यह रोड खाली रहती थी. राजिंद्रा अस्पताल के सामने कार रुकी. मैं नीचे उतरा. अस्पताल के सामने डाक्टरी करने वाले लड़कों का होस्टल है. इतने वर्षों में वह भी काफी पुराना हो गया है.

मेरी मौसीजी के लड़के ने यहीं से डाक्टरी की थी जो बाद में डीजी मैडिकल, सीआरपीएफ से सेवानिवृत्त हुए. परीक्षा के दिनों में मैं उन के कमरे में आ कर रहा करता था. शाम को लड़के मैस में खाना न खा कर, होस्टल के गेट के सामने बने ढाबे से हलकाफुलका खाना खाया करते थे.

रात को नींद न आए और परीक्षा की तैयारी कर सकूं, इसलिए मैं भी केवल ब्रैडआमलेट खा लेता था. ढाबे का मालिक एक युवा सरदार था, गुरनाम सिंह. उस से अच्छी जानपहचान हो गई थी. परीक्षा के दिनों में वह कभी मुझ से पैसे नहीं लिया करता था. कहता था, ‘तुस्सी अपना इम्तिहान दो जी, पैसे आंदे रैनगे.’ गुरनाम सिंह का यह स्नेह मुझे हमेशा याद रहा.

ढाबा आज भी वहीं था. इतने वर्षों में केवल इतना बदलाव आया था कि बैंचों की  जगह अब टेबलकुरसियां लग गई थीं. स्टूडैंट आराम से बैठ कर खापी सकते थे. सड़क पार कर के मैं ढाबे पर पहुंचा. पर मुझे गुरनाम सिंह कहीं दिखाई नहीं दिया. समय का अंतराल भी तो बहुत था. मन में कई शंकाएं उठीं जिन्हें मैं ने जबरदस्ती दबा दिया. गल्ले पर बैठे सरदारजी से मैं ने पूछा, ‘‘यह ढाबा तो सरदार गुरनाम सिंह का है?’’

‘‘जी, हां, मैं उन का बेटा हूं. वे आजकल घर पर ही रहते हैं.’’

‘‘वैसे वे ठीक तो हैं?’’

‘‘जी, नहीं, कुछ ठीक नहीं रहते.’’

‘‘कैसी बीमारी है?’’

‘‘जी, वही बुढ़ापे की बीमारियां, ब्लडप्रैशर, शुगर वगैरा.’’

‘‘पर तुस्सी कौन?’’ इतनी देर बातें करने के बाद उस ने मेरे बारे में पूछा था कि मैं कौन हूं.

‘‘मेरी गुरनाम से पुरानी दोस्ती है, 50 वर्षों पहले की.’’

कुछ देर देख कर वह हक्काबक्का रह गया, फिर अपने काम में व्यस्त हो गया. मैं ने गुरनाम के बेटे को आगे प्रश्न करने का मौका नहीं दिया. मेरा ध्यान राजिंद्रा अस्पताल के पीछे बने क्वार्टरों की ओर चला जाता है. यहां की एक लड़की शकुन, यहीं इन्हीं क्वार्टरों में कहीं रहती थी.

कालेज से आते समय हमें रात के साढ़े नौ, पौने दस बज जाते थे. वह केवल अपनी सुरक्षा के कारण मेरे साथ अपनी साइकिल पर चल रही होती थी. वह सैनिकों को पसंद नहीं करती थी. वह सैनिक यूनिफौर्म से ही नफरत करती थी. कारण, उस के अपने थे. उस की सखी ने मुझे बताया था. मेरी इस पर कभी कोई बात नहीं हुई थी. जबकि यूनिफौर्म हम सैनिकों की आन, बान और शान थी. हम थे, तो देश था. हम नहीं थे तो देश भी नहीं था.

हमें अपनेआप पर अभिमान था और हमेशा रहेगा. मेरा ध्यान अपनी पढ़ाई पर चला गया था. मन के भीतर यह बात दृढ़ हो गईर् थी कि कुछ भी हो, मुझे उस से अधिक नंबर हासिल करने हैं. और हुआ भी वही. जब परिणाम आया तो मेरे हर विषय में उस से अधिक नंबर थे. मैं ने प्रैप, फर्स्ट ईयर, दोनों में उसे आगे नहीं बढ़ने दिया. फिर मेरी पोस्ंिटग लद्दाख में हो गई और वह कहां चली गई, मुझे कभी पता नहीं चला. इतने वर्षों बाद यहां आया तो उस की याद आई.

अस्पताल से निकलते ही बायीं ओर सड़क मुड़ती है. वहां से शुरू होती हैं अंगरेजों के समय की बनी पुरानी फौजी बैरकें. मैं उस ओर मुड़ा तो वहां बैरियर लगा मिला और

2 संतरी खड़े थे. कार को देख कर उन में से एक संतरी मेरी ओर बढ़ा. मैं ने उस को अपना परिचय दिया, कहा, ‘‘मैं पुरानी बैरकें देखना चाहता हूं.’’

संतरी ने कहा, ‘‘सर, अब यहां पुरानी बैरकें नहीं हैं. उन को तोड़ कर फैमिली क्वार्टर बना दिए गए हैं. उन का कहीं नामोनिशान नहीं है.’’

मैं ने कुछ देर सोचा, फिर कहा, ‘‘मैं अंदर जा कर देखना चाहता हूं. कुछ न कुछ जरूर मिलेगा. मैं ने अपनी पढ़ाई यहीं से शुरू की थी. उस ने दूसरे संतरी से बात की. उन्होंने मुझ से आईकार्ड मांगा. मुझे खुशी हुई. किसी मिलीटरी संस्थान में घुसना आसान नहीं है. अपनी ड्यूटी के प्रति उन के समर्पण को देख कर मन गदगद हुआ.

मैं ने उन को अपना आईकार्ड दिखाया और मेरा रैंक देख कर उन्होंने मुझे सैनिक सम्मान दिया. एक संतरी कार में ड्राइवर के साथ बैठ गया. दूसरे संतरी ने बैरियर खोल दिया. कार अंदर की ओर मुड़ गई. बायीं ओर जवानों के लिए सुंदर और भव्य क्वार्टर और दूसरी ओर एक लाइन में बने लैंप पोस्ट थे. उस के साथ कोई 6 फुट ऊंची दीवार चल रही थी. क्वार्टरों को इस प्रकार सुरक्षित किया गया था कि बैरियर के अतिरिक्त और कहीं से कोई घुस न पाए.

कार बहुत धीरेधीरे चल रही थी. ‘‘रुक रुक’’, एक लैंप पोस्ट के पास मैं ने कार रुकवाई. मैं कार से नीचे उतरा. संतरी भी मेरे साथ उतरा. लैंप पोस्ट के पास एक बड़े पत्थर को देख कर मेरी आंखें नम हो गईं. मैं इस पत्थर पर बैठ कर पढ़ा करता था.

मैं इतना भावुक हो गया कि बढ़ कर मैं ने संतरी को गले लगा लिया. उस के कारण मैं यहां तक पहुंचा था. मेरे रैंक का आदमी इस प्रकार का व्यवहार नहीं करता है. तुम्हारे कारण आज मैं यहां हूं. 1966 में यह पत्थर मेरे लिए कुरसी का कार्य करता था. 50 साल बीत गए, यह आज भी यहां डटा हुआ है. सामने एक यूनिट थी जिस के संतरी मुझे चाय पिलाया करते थे.

मुझे आज भी सर्दी की भयानक रात याद है. जनवरी का महीना था. परीक्षा समीप थी. दूसरी यूनिट की सिक्योरिटी लाइट में पढ़ना मेरी मजबूरी थी. हालांकि कमांडिंग अफसर मेजर मेनन ने रातभर लाइट जलाने की इजाजत दी हुई थी, परंतु कोई हमारे ब्लौक का फ्यूज निकाल कर ले जाता था. मैं ने बाहर की सिक्योरिटी लाइट में पढ़ना शुरू किया तो किसी ने पत्थर मार कर बल्ब तोड़ दिए थे. फिर मैं यहां पत्थर पर बैठ कर पढ़ने लगा.

शाम को ही धुंध पड़नी शुरू हो जाती थी. मैं रात में 10 बजे के बाद गरम कपड़े पहन कर, कैप पहन कर यहां आ जाता था. उस रोज भी धुंध बहुत थी.

मैं कौपी के अक्षरों को पढ़ने का प्रयत्न कर रहा था कि एक जानीपहचानी आवाज ने मुझे आकर्षित किया. यह आवाज मेजर मेनन की थी, मेरे औफिसर कमांडिंग. मेमसाहब के साथ, बच्चे को प्रैम में डाले, कहीं से आ रहे थे.

‘तुम यहां क्यों पढ़ रहे हो? मैं ने तो तुम्हें सारी रात लाइट जलाने की इजाजत दी हुई है.’ मैं जल्दी से जवाब नहीं दे पाया था. जवाब देने का मतलब था, सब से बैर मोल लेना. जब दोबारा पूछा तो मुझे सब बताना पड़ा. मेजर साहब तो कुछ नहीं बोले परंतु मेमसाहब एकदम भड़क उठीं, ‘कैसे तुम यूनिट कमांड करते हो, एक बच्चा पढ़ना चाहता है, उसे पढ़ने नहीं दिया जा रहा है?’

‘डार्लिंग, इस ने कभी मुझे बताया ही नहीं.’

‘एक जवान तुम्हें क्या बताएगा, तुम्हें पता होना चािहए कि तुम्हारी यूनिट में क्या हो रहा है? इतनी सर्दी है, अगर बीमार हो गया तो कौन जिम्मेदार होगा?’

मेजर साहब कुछ नहीं बोले. मुझ से केवल इतना कहा कि मैं लाइन में जा कर सो जाऊं. कल वे इस का प्रबंध कर देंगे. कल उन्होंने मुझे मास्टर जी, सेना शिक्षा कोर का वह हवलदार जो जवानों की शिक्षा के लिए हर यूनिट में पोस्टेड होते हैं, के कमरे में ऐडजस्ट कर दिया.

मेजर साहब, 2 वर्षों तक मेरे कमांडिंग अफसर रहे और दोनों वर्ष मैं ने उन को सर्टीफिकेट ला कर दिखाए. वे और मेमसाहब बहुत खुश हुए, कहा, कितनी कठिनाइयां आएं, अपनी पढ़ाई को मत छोड़ना. उसे पूरा करना. फिर मैं लद्दाख में पोस्ट हो गया परंतु मुझे उन की बात हमेशा याद रही.

मैं ने कुछ जवानों को वरदी में देखा. उन के बाजू पर वही फौरमेशन साइन लगा हुआ था जो उस समय मैं लगाया करता था. इतने वर्षों बाद भी यह डिवीजन यहीं था. मैं ने सोचा कि फिर तो मेरी पहली यूनिट भी यहीं होगी. मैं ने साथ आए संतरी से वर्कशौप के बारे में पूछा. ‘‘हां, सर, वह यहीं है, थोड़ा आगे जा कर संगरूर रोड पर है. अब वह ब्रिगेड वर्कशौप कहलाती है.’’ मैं ने ड्राइवर से कार पीछे मोड़ कर मेन सड़क पर ले जाने के लिए कहा. वही संगरूर रोड है. संतरी को धन्यवाद के साथ बैरियर पर छोड़ दिया.

कार धीरेधीरे चल रही थी. थोड़ी दूर जाने पर मुझे वर्कशौप का टैक्टीकल नंबर और फौरमेशन साइन दोनों दिखाई दे गए. जिस ओर ऐरो मार्क लगा था, मैं ने कार को उस ओर ले जाने के लिए कहा. गेट से पहले ही मैं ने कार रुकवा दी. नीचे उतरा. कार को एक ओर पार्क करने के लिए कह कर मैं पैदल ही गेट की ओर बढ़ा. संतरी बड़ी मुस्तैदी से खड़ा था. मेरे पांव जमीन पर नहीं लग रहे थे. रोमांचित था कि जिस यूनिट से मैं ने अपना सैनिक जीवन शुरू किया, 65 की लड़ाई देखी, अपनी पढ़ाई की शुरुआत की, उसी गेट पर खड़ा हूं.

संतरी मेरी ओर आकर्षित हुआ, ‘‘जी, सर?’’ गेट पर खड़े संतरी की यही ड्यूटी होती है कि यूनिट के अंदरबाहर जाने वाले हर एक से पूछे कि वह कहां जा रहा है, उसे क्या चाहिए. मैं ने उसे अपना आईकार्ड दिखाया और कहा कि मैं टीएसएस, टैक्नीकल स्टोर सैक्शन के अफसर से मिलना चाहता है. संतरी ने मुझे सैल्यूट किया और कहा, ‘‘सर,

1 मिनट रुकिए, मैं पूछता हूं.’’

‘‘वैसे कौन हैं, ओआईसी, टीएसएस?’’

‘‘सर, कैप्टन धवन साहब हैं.’’

‘‘मेरी बात करवा देना.’’

संतरी ने बात की और फोन मेरी ओर बढ़ा दिया, ‘‘मैं कैप्टन धवन, कहिए?’’

‘‘जयहिंद कैप्टन साहब. मैं एक्स ले. कर्नल साहनी बोल रहा हूं. यह मेरी पहली यूनिट है. मैं ने 1963 में ट्रेनिंग के बाद इसे जौइन किया था, जब यह यूनिट बबीना में थी. 65 की लड़ाई के बाद हम यहीं आ गए थे.’’

‘‘सर, आप संतरी को फोन दें.’’ मैं ने उसे फोन दिया और थोड़ी देर बाद मैं कैप्टन धवन साहब के सामने बैठा था. ‘‘सर, आप कहते हैं, यह आप की पहली यूनिट है. आप उन अफसरों के नाम भी सही बता रहे हैं जिन की कमांड में आप ने काम किया था. आप अफसर कब बने?’’

मैं ने धवन साहब को भी आईकार्ड दिखाया, मैं रैंक से अफसर बना था. जब विभाग ने इंवैंटरी कंट्रोल अफसरों की वैकेंसी निकाली थी. मैं मैट्रिक पास कर के सेना में आया था. मेरा ट्रेड स्टोरकीपर सिगनल था. मैं ने अपनी पढ़ाई भी यहीं से शुरू की. तब मेजर पी एम मेनन कमांडिंग अफसर थे. मैं ने प्रैप और फर्स्ट ईयर यहीं से की. सैकंड और फाइनल ईयर दिल्ली रहते हुए किया. एमए हिंदी से तब किया जब अंबाला की एक वर्कशौप में पोस्ट हुआ.

मेरी सारी पढ़ाई ईएमई वर्कशौपों पर रही. इंवैंटरी कंट्रोल अफसरों की वैकेंसी निकली तो मैं अंबाला की आर्ड वर्कशौप में था. मेजर लक्ष्मी नारायण पांडे मेरे औफिसर कमांडिंग थे. वे मेरी पढ़ाई के बारे में जानते थे. एक वर्कशौप में मैं उन के साथ था. उन्होंने मुझे बुलाया और इस के लिए एप्लाई करवाया. कमांड हैडक्वार्टर से उसे क्लियर भी करवाया.

मेरा एसएसबी तक का रास्ता साफ हो गया. पर मेरी एक मुश्किल थी. मैं अच्छी अंगरेजी लिख तो सकता था परंतु बोलने का प्रवाह अच्छा न था. मेजर साहब ने कहा, इस का प्रबंध भी हो जाएगा. मेजर साहब ने जाने कहांकहां बात की. एसएसबी परीक्षा से 3 महीने पहले मुझे स्टेशन वर्कशौप, दिल्ली में टैंपरेरी ड्यूटी पर भेजा और एस एन दासगुप्ता कालेज में अंगरेजी का प्रवाह बनाने की कोचिंग दिलाई. मजे की बात यह थी कि मैं पहली बार में सैलेक्ट हो गया और अफसर बना.

मेरी पढ़ाई और अफसर बनना सब ईएमई पर निर्भर रहा. मैं आज भी मेजर पी एम मेनन और मेजर लक्ष्मी नारायण पांडे को याद करता हूं. मैं उन को कभी भूल ही नहीं पाया.’’

‘‘हां, सर, आगे बढ़ने वालों की हर कोई मदद करता है. यहां अब भी कईर् जवान अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे हैं और उन्हें पूरी सुविधाएं दी जा रही हैं.’’

इतने में एक सूबेदार साहब आए और कैप्टन साहब से बोले, ‘‘सर, लीव पार्टी चली गई है. सब को रात का डिनर और सुबह का नाश्ता साथ में दे दिया गया.’’

‘‘तो यह परंपरा आज भी कायम है. मेजर पी एम मेनन ने इसे शुरू किया था. उन को कहीं से पता चला था कि ट्रेन में जवानों को बेहोश कर के लूट लिया गया है. तब से आदेश दे दिया गया कि छुट्टी जाने वाले जवानों को रास्ते के लिए इतना खाना दे दिया जाए कि उन के घर पहुंचने तक समाप्त न हो,’’ मैं ने खुश हो कर बताया.

सचमुच इतने समय से चली आ रही यह परंपरा आश्चर्य उत्पन्न करती है. मेरा यहां आना ही एक आश्चर्य था. यदि भाषा विभाग, पंजाब मुझे पुरस्कृत न करता तो मैं 50 वर्षों बाद भी इस शहर में न आ पाता. उस से भी आश्चर्य की बात यह थी कि इतने लंबे अंतराल के बाद भी इस यूनिट का यहां मिलना.

‘‘सर, आप जानते हैं, आज कौन सा दिन है?’’ कैप्टन धवन साहब ने पूछा.

‘‘जी, हां, आज हमारा रेजिंग डे है.’’

‘‘हां, सर, इसी उपलक्ष्य में आज रात को बड़ा खाना है. आप हमारे मुख्य अतिथि होंगे. आप देखेंगे, इतने वर्षों बाद भी भारतीय सेना में वही सद्भावनाएं हैं, वही परंपराएं हैं, वही अनुशासन है, वही बड़े खाने हैं, वही देश के प्रति समर्पण है, एक शाश्वत निर्झर बहने वाले झरने की तरह.’’ रात को बड़े खाने के बाद जब होटल पहुंचा तो मन के भीतर यह बात दृढ़ थी कि आज भी भारतीय सेना हर तरह से विश्व की सर्वश्रेष्ठ सेना है.