मेरा बचपन और युवावस्था का आरंभ लखनऊ में बीता, नवाबों के शहर की गंगाजमुनी तहजीब में. स्कूलकालेज में बिताए चुलबुले दिन, प्यारी सहेलियां अलका, मुकुल, लता, यास्मीन और तबस्सुम. हम सब मिल कर खूब मस्ती करते. साथसाथ हंसना, खेलना, खानापीना. कोई भेदभाव नहीं, हिंदूमुसलिम का भेदभाव कभी जाना ही नहीं.

18 वर्ष की होते ही मेरी शादी हो गई. मेरे पति टाटा नगर में इंजीनियर थे. सो, उन के साथ जमशेदपुर आ गई. जमशेदपुर साफसुथरा, हराभरा, चमकती सड़कों, कारखानों, मजदूरों, हर धर्म हर भाषा के लोगों और कालोनियों का शहर है. 24 घंटे बिजली, साफ पानी और यहां का साफ वातावरण मुझे भा गया. यहां का रहनसहन लखनऊ से भिन्न था. लोगों में फैशन की चमक नहीं थी, सादगी थी. कुछकुछ बंगाली संस्कृति की झलक थी.

एक बात बड़ी अजीब लगी यहां, मुसलिम और हिंदू बस्तियां अलगअलग थीं. इस का कारण था 1964 का दंगा, जिस के बाद डर के कारण मुसलमानों ने अपनी बस्तियां बनाईं. आजाद नगर एक बड़ी मुसलिम बस्ती है. हिंदू बस्तियां बनीं. शहर टाटा कंपनी के लिए बसाया गया. यहां काम करने वालों के लिए कालोनियां बनाई गई हैं. परंतु मुसलिम दंगों के डर से कालोनियों में कम रहते हैं.

सिनियोरिटी पौइंट्स पर मकान मिलता है. मुसलिम, कुछ इलाके हैं जहां रहना चाहते हैं. सो, वहां मकान के पौइंट्स बहुत हाई हो जाते हैं. अधिकतर लोगों को बस्तियों में ही रहना पड़ता है. आजाद बस्ती मुझे पसंद नहीं आई, पतली गलियां, खुली नालियां, कूड़े के ढेर, मच्छर, कुछ गांव का सा माहौल, कुछ खपरैल के और कुछ पक्की छत वाले घर. हम लोगों ने शहर के साक्ची इलाके में किराए का घर ले लिया. यह अच्छी कालोनी थी. अड़ोसपड़ोस अच्छा था. दाएं दक्षिण भारतीय, बांए पंजाबी, सामने बंगाली यानी पूरा भारत था.

सभी से दोस्ती हो गई. पंजाबी परिवार से कुछ ज्यादा. उन के घर में चाचाचाची और उन के बेटीबेटे रहते थे. शाम को हम लोग लौन में उन के लड़केलड़की और महल्ले के लोगों के साथ बैडमिंटन खेलते. मेरे पति के औफिस के दोस्तों के घर मेरा जानाआना रहता. होलीदीवाली और ईद साथ ही मानते. बहुत अच्छा समय बीतता.

डिलीवरी के समय मैं लखनऊ गई. मेरे यहां जुड़वां बेटियां हुईं. लखनऊ में सब ने कहा कि एक बच्ची यहीं रहने दो. 2 बच्चे कैसे पालोगी? सब जानते थे कि मैं घरगृहस्थी के मामले में कमजोर हूं. पर मैं दोनों को ले कर जमशेदपुर आ गई. यहां एक 70 साल की बूढ़ी आया मिल गईं जिन्हें हम बूआ कहते थे. वे और मैं बच्चे संभालते और काम वाली घर का काम कर देती.

बच्चियां अब बैठने लगी थीं. यह बात 1979 की है. अचानक शहर का माहौल बिगड़ने लगा. रामनवमी आने वाली थी. कट्टरपंथियों ने सभा की, भड़काऊ भाषण दिए. उसी के बाद से शहर में अनकही सी घुटन शुरू हो गई. हर वर्ष जिस रास्ते से रामनवमी का जुलूस निकलता था उस से न निकल कर एक मसजिद के सामने से जुलूस निकालने की मांग की गई. प्रशासन राजी नहीं था. सद्भावना कमेटियां बनीं. कई मुसलिम आगे आए कि जिस रास्ते से चाहें, ले जाएं ताकि शांति बनी रहे. एक थे प्रोफैसर जकी अनवर. वे धरने पर बैठ गए कि जुलूस मसजिद के सामने से ले जाएं, हम साथ हैं. प्रशासन और हिंदुओं के बीच खींचातानी चलती रही. उस में दोनों ओर से भड़काने वाले प्रचार शुरू हो गए और दंगा होने की आशंका बढ़ गई.

हमारी पड़ोस वाली चाचीजी ने हम लोगों को समझाया, समय बड़ा खराब चल रहा है, जाने क्या हो? तुम लोग बच्चों के साथ आजाद नगर चले जाओ.

उन की बात सुन कर लगा, सच में कुछ गड़बड़ है. वे अनुभवी थीं, 1964 का दंगा देखे हुए थीं. अकसर दंगे के किस्से सुनाती थीं. हर नुक्कड़ पर रामनवमी के जुलूस को ले कर चर्चा होने लगी. शहर में तनाव बहुत बढ़ गया. दोनों ओर के दागी व संदिग्ध लोग पकड़े जाने लगे. सुबह होतेहोते कालोनी में जो 2-4 मुसलिम थे, सब अपने मित्रोंरिश्तेदारों के घर सुरक्षित जगह जा चुके थे. हम कहां जाएं? हमारा तो कोई रिश्तेदार नहीं, न किसी बस्ती में कोई दोस्त.

लखनऊ के एक फर्नीचर वाले हमारे परिचित थे. एक बार उन के घर भी गए थे हम लोग. उन्हीं के घर चले गए. वहां हमारे जैसे कई परिवार थे. मुझे अब तक डर नहीं लगा था क्योंकि मैं ने कभी दंगा देखा नहीं था. सो, कल्पना भी नहीं कर पाई. यहां आ कर डर लगने लगा. सहमेसहमे चेहरे, रोते बच्चे. औरतेंबच्चे अंदर, मर्द बाहर.

बड़े आंगन वाला मकान, कई कमरे जिन में सब भाई रहते थे. उन सब भाइयों के रिश्तेदार और दोस्त यहां शरणार्थी थे. केवल इसी घर में नहीं, हर घर में यही हाल था. हम लोग जल्दी में कोई सामान नहीं लाए. बस, बच्चों के नैपी, कपड़े, टौवेल आदि एक झबिया में रख लिए थे. बच्चों के दूध बनाने का सामान रख लिया था. पर दूध का पाउडर खत्म हो गया था, यह ध्यान नहीं दिया. सोचा था, रामनवमी का झंडा निकल जाएगा तो शाम तक घर आ ही जाएंगे.

जिस मसजिद से जुलूस निकलना था, वह पास ही थी. सड़क के दूसरी ओर झुंड के झुंड सड़क तक जाते, हालात का जायजा लेने. बस्ती के अंदर आने वाले सभी रास्तों पर लोगों की भीड़. सड़क पर पुलिस का पहरा था.

झोपड़ा मसजिद के सामने से जुलूस निकल गया, यह खबर आई तो जान में जान आई. तभी खबर आई कि जुलूस मेन रोड पर मसजिद के सामने रुक गया है और पकड़े गए लोगों को छोड़ने की मांग की जा रही है. तभी हल्ला हुआ कि जुलूस पर किसी ने पत्थर फेंका है और दोनों ओर से मारपीट, पत्थर, गोली चल पड़ीं, पुलिस ने गोली चलाई.

लोग घायल हो कर आने लगे. डाक्टर के यहां जगह भर गई तो लोगों के बरामदों में मरहमपट्टी होने लगी.

हरहर महादेव और अल्लाहो अकबर के नारे गूंजने लगे. डर के मारे मेरे पैर कांपने लगे. मैं दोनों बच्चियों को अपने सीने से चिपकाए रोने लगी. लगता था भीड़ घर में घुस आएगी, बच्चे छीन लेगी, मेरे साथ क्या करेगी? मेरे पति को मार डालेगी, जाने क्याक्या बुरेबुरे खयाल आने लगे.

पुलिस फायरिंग और धरपकड़ पर जुलूस वापस हुआ. पूरे शहर में दंगे भड़क गए. जो लोग छिटपुट थे, वे मारे गए. घर लूटे और जलाए गए. लोगों को कैंपों में ले जाया गया. करीब के सिटी कालेज में कैंप लगा. जिन को निकाला जा सका, निकाल लिया गया, वरना मारे गए. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 108 लोग मारे गए. शायद इस से अधिक मरे हों. दुकाने लूटी गईं.

जकी अनवर, जो धरने पर बैठे थे कि जुलूस जिस रास्ते से चाहे जाए, हम साथ हैं, वे भी मारे गए. उन के घर में उन्हें काट कर उन के घर के कुएं में डाल दिया गया. एक एंबुलैंस में औरतोंबच्चों को भर कर कैंप ले जाया जा रहा था, रास्ते में हिंदू बस्ती में रोक कर जला दिया गया, कोई नहीं बचा. भारी त्रासदी. घरों में घुस कर मारा गया. धर्म के नाम पर लोगों को धर्म के रखवाले ऐसा भड़काते हैं कि अल्लाहभगवान का नाम ले कर एकदूसरे को मार देते हैं. इंसानियत कहां चली जाती है? जिसे देखा नहीं, उस के नाम पर जीतेजागते लोगों को मारा जाने लगता है.

जिन बच्चों ने वह दंगा देखा, उन के विकास में एक काला साया सदा उन के साथ रहेगा. कैसे किसी पर भरोसा करेंगे? जिन्होंने भुगता, वे कैसे भुलाएंगे? फिर और अलगअलग बस्तियां बनेंगी, खाई और गहरी होगी.

कर्फ्यू लग गया, घरघर तलाशी ली जाने लगी और जवान लड़के पकड़े जाने लगे. घरों में यदि कोयला तोड़ने का चापड़ भी मिला तो वह हथियार समझा गया.

दूसरे दिन यह हुआ कि यह घर, जिस में हम लोग थे, बहुत आगे था. अगर भीड़ आएगी तो पहले यहीं हमला हो सकता है. इसलिए औरतों और बच्चों को बस्ती में अंदर के घरों में भेज दिया जाए. हम लोग भी उस घरवालों के साथ उन के मिलने वालों के घर शरण लेने चल पड़े. वहां काफी लोग पहले से ही थे. बड़ा सा आंगन था. गाय, बकरी, मुरगी कुआं पूरा गांव का माहौल था. कमरे तो पहले ही भर गए थे, हम लोग बरामदे में चटाई डाल कर बैठ गए. पति हमें छोड़ कर जाने लगे तो मैं रो पड़ी. वे समझाने लगे, बस रात की बात है, कल तक सब ठीक हो जाएगा, फिर चलेंगे.

उस जमाने में मोबाइल तो था नहीं. उस घर में फोन भी नहीं था. अब हम दोनों अलग थे. रातभर हरहर महादेव और अल्लाहो अकबर के नारे लगते रहे. मैं डर के मारे कांपती रही. बच्चों का दूध समाप्त हो गया था. घर वालों ने एकएक रोटी सब को दी. बच्चों को पानी में डुबो कर रोटी खिलाई. इतने लोग कई दिनों से थे, सो राशन भी समाप्त हो रहा था. दंगे में धर्म के प्रति आस्था बढ़ जाती है, जिसे देखो नमाज पढ़ रहा या तस्बीह पढ़ रहा. मैं डर के मारे सब भूल गई, क्या पढ़ूं? अपने को इतना असहाय कभी नहीं पाया था. मन करता कैसे इस शहर से भाग कर लखनऊ चली जाऊं.

सुबह हुई, सारा दिन बीत गया, मेरे पति नहीं आए. मेरा रोरो कर बुरा हाल था. शहर से लुटेपिटे लोग आजाद नगर आने लगे और जो आता, दुखभरी कहानी सुनाता.

खाना बनना बंद हो गया. राशन खत्म हो गया. शहर से लाने का सवाल नहीं था. बस्ती में डिमांड इतनी थी कि राशन खत्म हो गया. कर्फ्यू लगा रहा, नारे लगते रहे. फिर दिन का कर्फ्यू कुछ देर के लिए खुलने लगा.

2 दिन हो गए, मेरे पति का कोई पता नहीं था. मैं ने रोरो कर अपना बुरा हाल कर लिया था. अस्पताल और थाने में कोई खबर नहीं थी. औरतें मुझे तसल्ली देने लगीं, जाने दो, अगर नहीं आए तो शहीद हुए, जन्नत में जाएंगे. यहां कितनों के शौहरबेटे मारे गए हैं, सब को देखो. मेरे आंसू सूख गए थे, निढाल हो गई थी.

क्या होगा मेरा? मेरे बच्चों का? कैसे लखनऊ जाऊंगी? लखनऊ से संपर्क नहीं हो पा रहा था. आज कर्फ्यू में 2 घंटे की ढील दी गई. मेरे पति आ गए. उन को देख कर इतनी खुशी, इतना हौसला आ गया जैसे कुछ हुआ ही नहीं. ये हमारे घर गए थे कुछ सामान लाने, स्थिति देखने, पर कर्फ्यू में फंस गए. चाची ने छिपा कर रखा था. फिर मौका देख कर जब कर्फ्यू हटा तब आ पाए.

एक लड़का 15 साल का होगा, कर्फ्यू खुलने पर अपनी मां से जिद कर के अपना घर देखने, नहाने चला गया, फिर नहीं आया. जिन पड़ोसियों को वह चाचा, अंकल कहता था, उन्होंने दौड़ादौड़ा कर मार डाला. लाश भी नहीं मिली. धर्म ने इतना अंधा बना दिया?

एक थे अहमद साहब. हमारे पीछे वाली लाइन में रहते थे. उन के बीवीबच्चे सुरक्षित बस्ती में चले गए. वे जिद कर के रह गए कि हमारे पड़ोसी बहुत अच्छे हैं, कुछ नहीं होगा. भीड़ ने मार दिया. पड़ोसी चाह कर भी कुछ न कर सके. हर दिन ऐसे ही समाचार आते. कुछ अफवाहें भी माहौल गरम रखतीं.

भारी जानमाल के नुकसान के बाद रैपिड ऐक्शन फोर्स आई और फ्लैगमार्च किया. लोगों में आत्मविश्वास आने लगा. कैंपों में सुविधाएं पहुंचाई गईं. पर हर जगह हाल बहुत बुरा था. टौयलेट एक, और लोग सौ. उलटी आ जाती थी. खाने की कमी. बच्चों को पानी में बिसकुट डुबो कर खिलाती. अगर किसी के पास कुछ खाने को आ जाता तो वे आसपास बैठी महिलाओं को देतीं. सब एकदूसरे के दुख में साझी थे. न कोई छोटा न बड़ा. कैंपों से लोग अपने गांवशहर जाने लगे. ट्रेनों में भीड़ बहुत हो गई. माहौल धीरेधीरे शांत होने लगा.

पता चला, साक्ची में, जिस घर में हम लोग रहते थे, वह भी जला दिया गया. मेरे पति देख कर आ गए. हम लोग बच गए. अगर चाची न होतीं तो हम लोग भी न बचते. आग शांत होने लगी, कब्रें सूखने लगीं. घर जल गए, लोग मर गए. किसी ने बेटा खोया, किसी ने बाप, कोई परिवार समाप्त हो गया.

जिन की दुकानें जलीं, रोजीरोटी गई. नौकरी वाले डर के मारे ड्यूटी नहीं जाते. रात की ड्यूटी वाले तो महीनों नहीं गए. उन का वेतन कटता. आर्थिक तंगी. बच्चों की किताबें जल गईं. बिना किताबों के बोर्ड परीक्षा दी. पढ़ाई का नुकसान. रोज कमानेखाने वालों की दिहाड़ी का नुकसान. सब से बड़ा नुकसान इंसानियत का हुआ. हिंदूमुसलिम दोनों का एकदूसरे से भरोसा उठ गया. आजाद नगर जैसी बस्तियां और बन गईं.

मेरी सुखद यादों पर एक काला साया पड़ गया. हम लोग किसी तरह लखनऊ आ गए. मगर कब तक लखनऊ में रहते, रोजीरोटी के कारण फिर वापस जमशेदपुर जाना पड़ा. इस बार शहर में नहीं, आजाद नगर बस्ती में किराए पर रहने लगे. गंदगी, मच्छर, लाइट का जाना, पानी का न आना, कुएं से पानी खींचना, सब के साथ ऐडजस्ट करना पड़ा. काश, यह धर्म न होता, सब इंसान होते, न हिंदू न मुसलमान.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं