आभास पटना घूमने आया था. वह पटना से 20 किलोमीटर दूर फतुहा का रहने वाला था.

फतुहा पटना का सैटेलाइट टाउन है. वहीं के हाईस्कूल से उस ने मैट्रिक पास की थी, पर 12वीं जमात में फेल हो जाने के बाद उस के पिता ने उस की पढ़ाई छुड़वा कर अपने कारोबार में लगा दिया.

आभास के पिता नंदू का मछली का थोक कारोबार था. वह पिता के साथ पटना आया था. वहां गंगा किनारे बने गोलघर के ऊपर चढ़ कर दूर तक फैली हुई गंगा नदी और शहर को आंखें फाड़ कर देख रहा था.

उसी दिन आभास से थोड़ी ही दूर पर खड़ी आभा भी गोलघर की ऊंचाई से शहर का नजारा देख रही थी. उस के पिता पूरी सीढि़यां चढ़ नहीं सके, तो आभा को ऊपर भेज कर वे खुद बीच में ही थक कर बैठ गए. आभा आभास से एक क्लास जूनियर थी.

अचानक आभास की नजर आभा पर पड़ी, तो वह बोला, ‘‘क्यों री छबीली, तू यहां भी?’’

आभा बोली, ‘‘यह तेरे फतुहा का नुक्कड़ नहीं है. यहां पर तेरी दादागीरी नहीं चलेगी.’’

आभास के पिता नंदू बिहार सरकार की डेरी का फ्रैंचाइज लेने आए थे, जो उन्हें मिल गई थी. आभास उम्र में आभा से 5 साल बड़ा था. आभा के पिता स्कूल मास्टर थे. उन की 2 बेटियां थीं, आभा और विभा. दोनों ही बहुत खूबसूरत थीं, पर आभा जरा ज्यादा खूबसूरत थी.

आभा के पिता अपनी पत्नी से कहा करते, ‘मेरी बेटियां बिलकुल राजकुमारी जैसी हैं. मैं उन के लिए राजकुमार जैसे लड़के ढूंढूंगा.’

नंदू ने आभास को अपने मछली के कारोबार में लगा रखा था. मछली और डेरी दोनों से अच्छी कमाई हो जाती थी.

आभा जब स्कूल जाती, तो नुक्कड़ पर आभास अकसर उसे छेड़ता. कभी आंख मारता, कभी सीटी बजाता, तो कभी फिल्मी गाने गाता.

एक दिन जब आभा स्कूल जा रही थी, तो आभास गाने लगा, ‘‘हर दिल जो प्यार करेगा, वो गाना गाएगा…’’

आभा ने भी तपाक से कहा, ‘‘हर दिल जो प्यार करेगा, वो जूते खाएगा…’’ और अपनी सैंडल उतार कर उस की ओर हवा में लहराई.

आभास भी कम नहीं था. वह बोला, ‘‘देखना, एक दिन तू मेरे जूते चाटेगी.’’

आभा घर में अपने मातापिता को यह सब बताती, तो वे कहते कि बस तू आंखें झुका कर उस की बातों को अनसुना समझ कर आगे बढ़ जाना. उस के मुंह मत लगना. आभा 12वीं में पढ़ रही थी. उस की मां ने पति से कहा भी, ‘‘अब इस के हाथ पीले कर दो.’’ पर आभा का मन आगे पढ़ने को था. उस के पिता भी यही चाहते थे. 12वीं के बाद आभा का दाखिला फतुहा के संत कबीर विद्यानंद कालेज में हुआ. कालेज जाने के रास्ते में भी आभास अकसर उसे छेड़ता, लेकिन वह उसे अनदेखा कर देती.

अभी आभा ने कालेज में पहला साल भी पूरा नहीं किया था कि उस के पिता की मौत हो गई. मां ने आभा की पढ़ाई छुड़ा दी. मां और मामा दोनों मिल कर उस के लिए लड़का खोजने लगे, पर जहां जाते दहेज मुंह फाड़े उन का काम बिगाड़ देता.

इसी बीच आभास की मां ने उस के लिए रिश्ते की बात की. उस ने कहा कि शादी का पूरा खर्च वे उठाएंगी. कोई दहेज नहीं चाहिए. उन्होंने तो अपनी ओर से 10 हजार रुपए भी शादी में खर्च के लिए दिए.

आभा की मां ने झटपट हां कर दी. आभा ने मना भी किया, पर मां ने कहा, ‘‘तू विदा होगी, तभी तो तेरी छोटी बहन विभा की शादी भी जल्दी कर के मुझे चैन मिलेगा.’’

आभा की शादी आभास से हो गई. मां ने उसे समझाया कि बीती बातों को भूल कर आभास को इज्जत देना.

मां ने विदाई के पहले कहा, ‘‘मेरी बेटी की खूबसूरती पर आभास फिदा हो जाएगा. घूंघट उठाते ही वह तुम से बेशुमार प्यार करने लगेगा. तलवे चाटेगा, देखना.’’

आभा ससुराल आ गई. सुहागरात थी. वह घूंघट में लाल सितारों वाली साड़ी में फूलों से सजे पलंग पर बैठी आभास का इंतजार कर रही थी.

देर रात ‘धड़ाम’ की आवाज से दरवाजा खुला और आभास ने अंदर आ कर जोर से सिटकिनी लगा दी.

आभास के आते ही देशी शराब की बदबू कमरे में फैल गई. वह पलंग पर कूदते हुए जा बैठा और बिना कुछ बात किए आभा के कपड़े उतारने लगा.

आभा बोली, ‘‘अरेअरे, यह क्या कर रहे हो?’’

आभास बोला, ‘‘वही जो मर्द को सुहागरात में करना चाहिए.’’

‘‘अरे, तो एकदम से ऐसे तो नहीं…’’ आभा बोली.

‘‘चुप, मुझे सब पता है कि क्या करना है,’’ आभास ने कहा.

आभास ने आभा को बिस्तर पर लिटा दिया. आभा के मुंह से एक चीख निकली ही थी कि आभास ने अपने हाथ से उस का मुंह बंद कर दिया और अपनी मर्दानगी दिखाने लगा.

शराब की बदबू से आभा को घिन आ रही थी. वह चाह कर भी उस की कैद से नहीं निकल सकी. थोड़ी ही देर में आभास की मर्दानगी खत्म हो गई और उस की पकड़ ढीली पड़ी, तो आभा को चैन मिला.

आभास अपनी प्यास बुझा कर एक ओर लुढ़क गया और जल्द ही खर्राटे लेने लगा. आभा ने भी दूसरी ओर करवट बदल ली. वह सोचने लगी कि क्या मर्दों के लिए सुहागरात का यही मतलब होता है?

आभास रोज सुबह गंगा किनारे से मछलियों की टोकरियां थोक भाव में खरीदता और अपने पुराने स्कूटर में बांध कर शहर के बाजार में बेचता. वह खुद खुदरा मछलियां नहीं बेचता था और न ही काटता था, फिर भी मछली की बदबू उस की देह से आती थी. कभी रात को घर लौटते समय रास्ते में वह अकसर शराब भी पी लेता.

इसी तरह रोज रात में वह आभा के पास आता और अपनी हवस पूरी कर लेता. आभा प्यार के दो शब्द सुनने के लिए तरस जाती.

इसी तरह 2 साल बीत गए. आभा बीचबीच में अकसर सासससुर से बोलती थी कि उसे आगे पढ़ना है, पर कोई उस की बात से सहमत नहीं था.

आखिर एक दिन आभा भूख हड़ताल पर बैठ गई. उस ने कहा कि उसे कम से कम प्राइवेट बीए करने दिया जाए, तब उसे पढ़ने की इजाजत मिली.

वह घर से ही पढ़ने लगी. लेकिन आभास के बरताव में कोई बदलाव नहीं आया था.

2 साल और बीततेबीतते आभा ने आभास में थोड़ा सा बदलाव महसूस किया. वह अब भी दारू पीता था, पर पहले से कम. अब वह उस के पास आने के पहले अकसर नहा लिया करता.

आभा को लगा कि शायद वह जल्द ही बीए करने वाली है, इसलिए आभास थोड़ा बदलने की कोशिश कर रहा है. आभा ने बीए पास कर लिया. उस को एक सरकारी स्कूल में लेडीज कोटे में क्लर्क की नौकरी मिल गई थी. पर समस्या थी कि यह स्कूल फतुहा से 45 किलोमीटर दूर इसलामपुर शहर में था. ट्रेनें तो थीं, पर आनेजाने के समय के मुताबिक नहीं थीं. आभा तो नौकरी करना ही चाहती थी. उस के सासससुर दोनों भी यही चाहते थे. सरकारी नौकरी में तनख्वाह के अलावा पैंशन वगैरह भी मिलती थी.

शुरू में तो आभास इस के खिलाफ था, पर बाद में मातापिता के समझाने पर वह भी मान गया.

आभा ने इसलामपुर आ कर नौकरी जौइन कर ली. उसे छोड़ने आभास और ससुर नंदू दोनों आए थे. उन्होंने आभा के लिए एक कमरे का मकान किराए पर ले लिया था. साथ में एक मोबाइल फोन, एक खाट, बिछावन, स्टोव, कुछ बरतन वगैरह भी खरीद कर दे दिए थे.

अगले दिन आभास और उस के पिता नंदू जब घर लौट रहे थे, तब उन्होंने बहू से कहा, ‘‘सरकारी नौकरी है, काम तो नाममात्र ही होगा. जब जी चाहे हाजिरी लगा कर आ जाना.

‘‘सरकारी स्कूलों में तो साल में 3-4 महीने छुट्टी ही रहती है. सासससुर और पति का भी खयाल तुम्हें ही रखना है न.’’

रास्ते में आभास ने कहा, ‘‘आप ने उस पर काफी पैसा खर्च कर दिया?’’ नंदू बोले, ‘‘बेटा, इसे सोने का अंडा देने वाली मुरगी समझ. अगले महीने से इसे तनख्वाह मिलने लगेगी.’’

उन के लौट आने पर आभास की मां ने बेटे से कहा, ‘‘छोड़ आया बहू को… अब तुम लोग और कितने दिन इंतजार कराओगे? मैं पोतेपोती का मुंह देखने के लिए तरस रही हूं.’’

आभास चुप रहा. इधर आभा ने स्कूल जाना शुरू कर दिया. विनय भी उसी स्कूल में टीचर था. वह स्मार्ट और हंसमुख था. वह इसलामपुर से तकरीबन 25 किलोमीटर दूर नालंदा के पास एक गांव से रोज अपनी मोटरसाइकिल से आताजाता था. धीरेधीरे आभा से उस की दोस्ती हो गई.

एक दिन बरसात में भीगते हुए विनय शाम को आभा के घर पहुंचा. आभा ने दरवाजा खोला, तो उसे देख कर कहा, ‘‘तुम इस समय यहां… अंदर आओ.’’

विनय बोला, ‘‘हैडमास्टर साहब ने कहा है कि आज से दफ्तर की चाबी तुम रखोगी. मैं तो दूर से आता हूं, आने में मुझे देर हो जाती है.’’

‘‘वह तो ठीक है, पर तुम तो बिलकुल भीग गए हो. मैं तौलिया देती हूं, बदन पोंछ लो, तब तक मैं चाय बना देती हूं.’’

‘‘हां, तुम्हारे हाथों की चाय पीए बिना जाऊंगा भी नहीं.’’

थोड़ी देर में आभा चाय बना लाई. चाय की चुसकी लेते हुए विनय बोला, ‘‘चाय कड़क बनी है, बिलकुल तुम्हारे जैसी.’’

‘‘मजाक अच्छा कर लेते हो.’’

‘‘मैं एकदम सही बोल रहा हूं. तुम जितनी खूबसूरत हो, चाय भी उतनी ही अच्छी बनाती हो.’’

‘‘अच्छा, बारिश तो थमने का नाम ही नहीं ले रही है. इतनी दूर जाओगे कैसे?’’

‘‘नहीं जाऊंगा. यहीं ठहर जाता हूं.

2 रोटियां आज ज्यादा बना देना.’’

‘‘रोटियां तो 2 की जगह 4 बना दूंगी, मगर तुम यहां रुकोगे कैसे?’’ आभा बोली.

विनय बोला, ‘‘तुम डर गईं. मैं ने तो यों ही कहा था. रोज सुबह गांव में गायबैलों को चारा खिलाना मेरा ही काम है.’’

एक घंटे बाद बारिश थमी, तो विनय चला गया. पर न जाने क्यों आभा सोच रही थी कि काश, बारिश न थमी होती और वह रुक ही जाता, तो कम से कम अकेलेपन का गम तो नहीं सताता.

उस दिन आभा को तनख्वाह मिली थी. शाम को विनय उस के घर आया और बोला, ‘‘तुम्हारी पहली तनख्वाह मिली है. पार्टी तो होनी ही चाहिए,’’ बोल कर विनय ने मिठाई का पैकेट उसे पकड़ा दिया.

आभा बोली, ‘‘बोलो, क्या चाहिए?’’

‘‘मेरे बोलने से क्या मिल जाएगा?’’ इतना कह कर विनय हसरत भरी निगाहों से उसे देखने लगा.

‘‘तुम कभी सीरियस नहीं होते क्या? हमेशा हंसीमजाक के मूड में रहते हो. बैठो, मैं ने आलू के परांठे और मटरपनीर की सब्जी बनाई है. खाने के बाद कौफी बनाती हूं.’’

‘‘तब तो मजा आ जाएगा,’’ विनय ने कहा.

दोनों ने डिनर किया और कौफी पी. रात के 8 बज चुके थे. आभा विनय को छोड़ने बाहर तक आई.

विनय ने मोटरसाइकिल स्टार्ट करनी चाही, पर नहीं हुई. फिर उसे याद आया, तो बोला, ‘‘मैं तो भूल ही गया था कि मोटरसाइकिल रिजर्व में थी और तेल लेना भूल गया था. अब तो यहां पैट्रोल पंप भी बंद हो जाता है. मैं तो घर नहीं जा सकता.’’

दोनों कुछ देर ऐसे ही एकदूसरे को देखते रहे. आभा कुछ बोल नहीं पा रही थी. विनय बोला, ‘‘आज की रात अपने घर में पनाह दे सकती हो क्या?’’

आभा ने न चाहते हुए भी हां में सिर हिलाया. घर में बैड तो एक ही था. उस ने विनय को बैड दे दिया. खुद रसोईघर के पास चटाई पर सो गई. नींद तो दोनों में से किसी को नहीं आ रही थी.

आधी रात में विनय पानी लेने के बहाने रसोईघर में गया, तो रास्ते में जानबूझ कर आभा से टकरा गया.

आभा बोली, ‘‘क्या हुआ?’’

‘‘कुछ नहीं, पानी लेने आया था,’’ और गिलास ले कर उसी के पास बैठ गया.

आभा भी घबरा कर बैठ गई. तब विनय ने उसे लिटा दिया और कहा, ‘‘सौरी, मैं ने तुम्हें भी जगा दिया.’’

आभा मन ही मन सोच रही थी, ‘मैं सोई ही कब थी कि जगाने की जरूरत होगी.’

विनय बोला, ‘‘रात में बंद कमरे में एक मर्द और एक औरत को बंद कर दिया जाए और चुपचाप रहने को कहा जाए, तो यह तो एक कठोर सजा है, तो तुम कुछ बोलो न?’’

‘‘क्या बोलूं?’’

‘‘कुछ अपने बारे में ही बताओ. अपने मायके और ससुराल के बारे में.’’

आभा थोड़ी भावुक हो चली और उठ कर बैठ गई. उस ने भरी आंखों से अपनी कहानी सुनाई.

विनय ने धीरेधीरे उस के कंधे सहलाए, फिर माथे पर एक चुंबन लिया. आभा चुपचाप बैठी रही.

विनय बोला, ‘‘तुम बहुत ही बहादुर हो. तुम्हारी जितनी भी तारीफ करूं, कम होगी,’’ इतना बोल कर वह आभा से सट कर जा बैठा और कुछ देर तक उस के बालों को छेड़ता रहा. फिर उस के गालों को सहलाते हुए उस के होंठों को भी चूम लिया और अपने आगोश में ले लिया.

फिर विनय बोला, ‘‘जी चाहता है कि तुम्हें भरपूर प्यार करूं.’’

आभा के पूरे बदन में तरंगें उठने लगीं. दोनों के सब्र का बांध भी टूट पड़ा. एक अजीब सा दर्द हुआ उसे, पर दर्द और मजे का मधुर मेल उसे बेहद अच्छा लगा. सुबह विनय एक डब्बे में पैट्रोल ले कर आया. मोटरसाइकिल स्टार्ट कर आभा से बोला, ‘‘दफ्तर में बोल देना कि आज मैं नहीं आ पाऊंगा.’’

2 दिन बाद आभास आभा से मिलने आया. उस दिन छुट्टी थी. उस ने आभा से अपना पत्नी धर्म निभाने को कहा, तो वह बोली, ‘‘तुम्हें अक्ल कब आएगी? दिन में इस वक्त?’’

‘‘मुझे तो बस यही वक्त मिला है,’’ बोल कर आभास ने उसे जबरन खाट पर लिटा दिया. अपना पति हक हासिल कर वह बोला, ‘‘ला, अपनी तनख्वाह दे मुझे. बापू ने मांगी है.’’

आभा बोली, ‘‘कुछ तो मैं अपनी मां को दूंगी और कुछ अपने खर्च के लिए रखूंगी. बाकी पैसे देती हूं. ससुरजी को दे देना.’’

आभास ने जबरन और पैसे छीनने चाहे, तो वह गरज उठी, ‘‘इस के आगे कोई हरकत की, तो पुलिस को बुलाऊंगी और अभी शोर मचाऊंगी.’’ जितने पैसे आभा दे रही थी, उतने लेना ही आभास ने ठीक समझा. वह जाने लगा, तो आभा बोली, ‘‘पैसे के लिए तुम्हें दोबारा यहां आने की जरूरत नहीं है. मैं ससुरजी के अकाउंट में भेज दिया करूंगी.’’

आभास चला गया. उस के बाद लौट कर वह आभा के पास नहीं आया. आभा और विनय का मिलनाजुलना चलता रहा. आभा को उस से कोई शिकायत नहीं थी. बीचबीच में वह अपनी मां के यहां जाती थी. मां जब ससुराल का हाल पूछतीं, तो बोल देती कि सब ठीक है.

आभा 2-3 बार अपनी ससुराल भी गई, तो पता चला कि आभास ज्यादातर घर से बाहर ही रहता है. घर में बोलता था कि आभा के पास जाता रहता है.

इसी तरह तकरीबन 2 साल बीत गए. विनय के साथ उस का रिश्ता उसी तरह चलता रहा.

आभा की तबीयत कुछ गड़बड़ चल रही थी. वह लेडी डाक्टर के पास गई, तो पता चला कि वह पेट से है.

आभा ने विनय से कहा, तो वह उसे ही समझाने लगा, ‘‘तुम्हें सावधानी बरतनी चाहिए थी. अब भी वक्त है, तुम अपना बच्चा गिरवा लो.’’

‘‘क्यों? तुम अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हो. इसे हम दोनों को मिल कर हल करना होगा. मैं बच्चा नहीं गिरवा रही. क्यों न हम दोनों कोर्ट मैरिज कर लें? आभास का कोई अतापता नहीं. मैं उस से तलाक ले लूंगी.’’

‘‘हमारी शादी नहीं हो सकती?’’

‘‘क्यों?’’

‘‘इसलिए कि मैं शादीशुदा हूं. मेरे बीवीबच्चे हैं.’’

‘‘पर, तुम ने तो कहा था कि घर पर सिर्फ तुम्हारे बूढ़े मातापिता हैं.’’

‘‘सच बोलने पर क्या तुम अपने पास आने देतीं?’’

‘‘तो क्या मैं तुम्हारे मनोरंजन का साधन थी?’’

‘‘तुम जो भी समझो. मैं इस बच्चे का बाप नहीं हो सकता. मैं तो तुम्हारी जिस्मानी जरूरतें पूरी कर रहा था.’’

(क्रमश:)

क्या आभा ने विनय के बच्चे को जन्म दिया? क्या आभास से उस का रिश्ता निभ पाया? पढि़ए अगले अंक में.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं