हर शनिवार की तरह आज भी तान्या जब दिन में 12 बजे सो कर उठी तो लावण्या के चेहरे पर नाराजगी देख फौरन प्यार से बोली, ‘‘मम्मी, बहुत भूख लगी है, खाना तैयार है न? जल्दी लगा दो, मैं फ्रैश हो कर आई.’’

वहीं बैठे तुषार ने पत्नी का खराब मूड भांप कर समझाते हुए कहा, ‘‘लावण्या, क्यों दुखी हो रही हो? यह तो हर छुट्टी का रुटीन है उस का. चलो, हम भी उस के साथ लंच कर लेते हैं. इस बहाने उस के साथ थोड़ा समय बिता लेंगे.’’

लावण्या कुढ़ते हुए तीनों का खाना लगाने लगी. तान्या आई. डाइनिंग टेबल पर बैठते हुए बोली, ‘‘आप लोग भी खा रहे हैं मेरे साथ, लेकिन अभी तो 12 ही बजे हैं?’’

तुषार बोले, ‘‘इस बहाने ही तुम्हारी कंपनी मिल जाएगी.’’

‘‘यह बात तो ठीक है पापा, मैं खा कर अभी फिर सो जाऊंगी, आज पूरा दिन आराम करना है.’’

लावण्या कुछ नहीं बोली. तीनों खाना खाते रहे. तान्या ने खाना खत्म कर प्लेट उठाई, रसोई में रखी और बोली, ‘‘अच्छा पापा, थोड़ा और आराम करूंगी. और हां मम्मी, मुझे उठाना मत.’’

तान्या ने अपने रूम का दरवाजा बंद किया और फिर सोने चली गई. पतिपत्नी ने बस चुपचाप एकदूसरे को देखा, कहा कुछ नहीं. कहने लायक कुछ था भी नहीं. दोनों मन ही मन इकलौती, आलसी और लापरवाह बेटी के तौरतरीकों पर दुखी थे.

लंच खत्म कर तुषार टेबल साफ करने में लावण्या का हाथ बंटाने लगे. फिर बोले, ‘‘मेरी जरूरी मीटिंग है, कुछ तैयारी करनी है. तुम थोड़ा आराम कर लो.’’

लावण्या ‘हां’ में सिर हिला कर दुखी मन से अपने बैडरूम में जा कर लेट गई. वह सचमुच बहुत दुखी हो चुकी थी. बेटी के रंगढंग उसे बहुत चिंतित कर रहे थे.

 

तान्या का बीकौम हो चुका था. वह सीए कर रही थी. अब, उस की आर्टिकलशिप चल रही थी. तान्या सुबह साढ़े 9 बजे के आसपास निकलती थी, रात को 9 बजे तक ही आती थी. वह लोकल टे्रन से ही आतीजाती थी.

तान्या काफी थक जाती है, यह जानती है लावण्या. उसे तान्या की इस भागदौड़ से सहानुभूति भी है लेकिन वह हमेशा यही सोचती है कि यह मेहनत ही उस की बेटी का भविष्य बनाएगी.

लावण्या और तुषार ने मन ही मन अपनी बेटी को उच्च शिक्षित, आत्मनिर्भर बनते देखने का सपना संजोया है. वह उस से घर के किसी काम में हाथ बंटाने की उम्मीद भी नहीं करती. वह बस यही चाहती है कि वह पढ़ेलिखे. लेकिन तान्या को पता नहीं क्या हो गया है, वह झुंझलाते हुए बिना कोई बात किए औफिस निकल जाती है. आते ही बैग ड्राइंगरूम में ही पटकती है और टीवी देखने को बैठ जाती है, डिनर करती है और फिर सोने चली जाती है.

कई बार लावण्या ने सोचा कि कहीं उस की बेटी को औफिस में कोई परेशान तो नहीं कर रहा है, पता नहीं कितने अच्छेबुरे खयाल उस के दिल को परेशान करने लगे थे.

एक दिन रात को उस ने बड़े स्नेह से उसे दुलारते हुए पूछा था, ‘‘क्या बात है, बेटी? इतना चिढ़ते हुए औफिस क्यों जाती हो? अब तो 8 महीने ही बचे हैं सीए फाइनल की परीक्षा में, 4 महीने पहले से तुम्हें छुट्टियां भी मिल जाएंगी, बात क्या है?’’

तान्या ने चिढ़ते हुए कहा, ‘‘मम्मी, मुझे सोने दो, मैं थक गई हूं.’’

लावण्या ने फिर थोड़ी गंभीरता से पूछा, ‘‘सो जाना, पहले बताओ, इतने खराब मूड में क्यों रहती हो?’’

‘‘आप को पता नहीं मेरी बात समझ आएगी या नहीं.’’

‘‘मतलब? ऐसी क्या बात है?’’

तान्या उठ कर बैठ गई थी, ‘‘मम्मी, मेरा मन नहीं करता कुछ करने का.’’

‘‘क्या मतलब?’’

‘‘मेरा मन करता है, घर में रहूं, आराम करूं, टीवी देखूं, बस.’’

लावण्या अवाक् सी बेटी का मुंह देखती रह गई थी, कहा, ‘‘यह क्या बात हुई, तान्या?’’

‘‘हां मम्मी, कोई शौक नहीं है मुझे पढ़ने का, औफिस जाने का.’’

‘‘क्या कह रही हो, तान्या? तुम पढ़ाई में तो अच्छी रही हो, तुम्हारा दिमाग भी तेज है और अब तो कम समय ही बचा है फाइनल का.’’

‘‘हां, पता है, पर मेरा मन नहीं करता कुछ करने का. बस, आराम करना अच्छा लगता है मुझे घर में.’’

लावण्या बेटी का आलसी, आरामपसंद स्वभाव जानती तो थी ही, कहने लगी, ‘‘तुम्हें तुम्हारे ही अच्छे भविष्य के लिए पढ़ायालिखाया जा रहा है और तुम ऐसी बातें कर रही हो, बहुत दुख हो रहा है मुझे.’’

‘‘आप को भी तो शौक नहीं रहा जौब करने का, मुझे भी नहीं है तो कौन सी बड़ी बात हो गई.’’

‘‘पर मेरा टाइम और था, तान्या. अब अपने पैरों पर खड़े होना बहुत जरूरी है, लड़कियां हर क्षेत्र में कितना आगे हैं, तुम्हारे पापा तुम्हें हर तरह से आत्मनिर्भर व सफल होते देखना चाहते हैं. हर सुखसुविधा है घर में तुम्हारे लिए, कुछ करोगी नहीं तो क्या करोगी?’’

‘‘वही जो आप कर रही हैं, आप को अपनी लाइफ में कोई कमी लगती है क्या? मैं भी हाउसवाइफ बन जाऊंगी, मुझे क्यों घर के बाहर धक्के खाने भेजना चाहते हो आप लोग?’’

लावण्या ने अपना सिर पकड़ लिया, बेटी की चलती जबान पर गुस्सा भी आया. फिर भी शांत, संयत स्वर में कहा, ‘‘तुम ने अब तक क्यों नहीं बताया कि तुम्हें पढ़ने का शौक नहीं है, कुछ करना नहीं है तुम्हें?’’

‘‘बता कर क्या होता? पापा मुझे ले कर इतने ऊंचे सपने देखते हैं, उन का मूड खराब हो जाता, आप ने आज पूछा तो मैं ने बता दिया.’’

इतने में तुषार ने आवाज दी थी और लावण्या तान्या के रूम से चली गई. तुषार ने लावण्या का उतरा चेहरा देखा, कारण पूछा. पहले तो लावण्या ने छिपाने की कोशिश की लेकिन फिर तान्या की सारी सोच तुषार के सामने स्पष्ट कर दी. दोनों सिर पकड़ कर बैठ गए थे. वे दोनों तो पता नहीं क्याक्या सपने देख रहे हैं और बेटी तो कुछ करना ही नहीं चाहती. तुषार ने इतना ही कहा, ‘‘बाद में प्यार से समझाएंगे, ऐसे ही औफिस के कामों से घबरा गई होगी.’’

फिर वह बाद आज तक नहीं आ पाया था. सोमवार से शुक्रवार तान्या बात के मूड में नहीं होती थी. शनिवार और रविवार पूरा दिन सोती थी. शाम को टीवी देखती थी. रविवार की शाम से ही उस का मूड अगले दिन औफिस जाने के नाम से खराब होना शुरू हो जाता था.

लावण्या मन ही मन आहत थी. मन तो होता था कि बेटी छुट्टियों में मांबाप के साथ हंसेबोले, बातें करे पर बेटी तो अपने आराम की दुनिया से बाहर निकलना ही नहीं चाहती थी. कई बार लावण्या ने फिर समझाया था, ‘‘और भी लड़कियां पूरा दिन काम करती हैं औफिस में, किसी का रुटीन यह नहीं रहता, घर वालों से बात तो ठीक से करती होंगी सब, कुछ घूमतीफिरती भी होंगी, बाहर जाती होंगी फैमिली के साथ, दोस्तों के साथ, तुम्हें तो दोस्तों से मिलने में भी आलस आता है.’’

‘‘मुझे बस आराम करने दिया करो, मम्मी. मुझे कुछ नहीं करना है.’’

‘‘22 साल की तो हो ही गई हो, शादी के बाद कैसे ऐडजस्ट करोगी?’’

‘‘मैं तो कुछ नहीं करूंगी, जल्दी ही जौब भी छोड़ दूंगी.’’

‘‘कैसे बीतेगी तुम्हारी लाइफ? इतना आराम, इतना आलस अच्छा नहीं है.’’

तान्या हंसते हुए बोली, ‘‘एक अच्छी पोस्ट वाला अमीर लड़का ढूंढ़ देना. बस, कट जाएगी लाइफ.’’

लावण्या उस का मुंह देखती रह गई थी. फिर वह परेशान रहने लगी थी बेटी की सोच से.

तुषार बैडरूम में आए. लावण्या को करवटें बदलते देख बोले, ‘‘अरे, तुम सोईं नहीं?’’

‘‘जब भी तान्या के बारे में सोचती हूं परेशान हो जाती हूं. क्यों इतना आराम चाहिए उसे लाइफ में?’’

‘‘अपना मूड मत खराब करो, समझ जाएगी धीरेधीरे.’’

ऐसे ही कुछ दिन और बीते, फिर महीने. मार्च का महीना चल रहा था, जुलाई से तान्या फाइनल के लिए छुट्टी पर रहने वाली थी. फाइनल की क्लास के लिए 60 हजार रुपए फीस भरी गई थी. लेकिन वह एक दिन भी नहीं गई थी.

एक दिन तुषार भी परेशान हो कर बोले, ‘‘तान्या, कैसे पास करोगी फाइनल? इतना टफ होता है, पैसे तो सब डूब ही गए?’’

‘‘अरे पापा, पहली बार फेल हो गई तो दूसरी बार दे दूंगी परीक्षाएं, क्या फर्क पड़ता है, कितनी बार भी दे सकते हैं परीक्षाएं, कोई चिंता नहीं है इस बात की.’’

तुषार को गुस्सा आ गया, ‘‘दिमाग खराब हो गया है? तुम्हें न समय की वैल्यू है न पैसे की, परेशान हो गए हैं हम.’’

तान्या पैर पटकते हुए अपने रूम में गई और लेट कर सो गई.

लावण्या की तो अब नींद ही उड़ने लगी थी. यही चिंता रहती कि आत्मनिर्भर नहीं भी हुई तो कम से कम आराम और आलस तो छोड़े. क्या होगा इस का.

1 महीना और बीता, एक रविवार को दिन में 12 बजे तान्या की आंख किसी के रोने की आवाजों से खुली. कोई जोरजोर से सिसकियां ले रहा था.

 

तान्या ने बिस्तर छोड़ा, ड्राइंगरूम में आई, वहां पूना में रहने वाली तुषार की चचेरी बहन नीता अपने पति विपिन और 25 वर्षीया बेटी रेनू के साथ बैठी थी. माहौल बहुत गंभीर था. तान्या सब को नमस्ते करते हुए एक कोने में बाल बांधती हुई बैठ गई. रेनू रोए जा रही थी.

नीता सिसकियां भरते हुए कह रही थी, ‘‘तुषार, तू ने मुझे कितना समझाया था. रेनू को अच्छी तरह पढ़ाऊंलिखाऊं, फिर इस का विवाह करूं लेकिन हम ने बेटी को बोझ समझते हुए इस की पढ़ाई छुड़वा कर जल्दी से जल्दी इस का विवाह करना ठीक समझा. अब इस का पति मनोज इसे कम पढ़ेलिखे होने का ताना मारता है. जरूरत के पैसे भी अपमान कर के देता है. अपने दोस्तों की पढ़ीलिखी पत्नियों के सामने इसे नीचा दिखाता है. कभीकभी हाथ भी उठा देता है. इस के ऊपर ही घर का सारा काम है. तू ने कितना समझाया था. मैं ने तेरी बात नहीं सुनी. मैं इसे वहां नहीं जाने दूंगी अब.’’

रेनू रोते हुए बोली, ‘‘मामाजी, मैं क्या करूं? मेरी मदद करो. मेरी वहां कोई इज्जत नहीं है. एकएक पैसे के लिए हाथ फैलाना पड़ता है. घर के बहुत सारे काम मुझे ही करने पड़ते हैं. मेरी जेठानी औफिस जाती हैं. सास भी टीचर हैं. सब कहते हैं तुम्हें घर में ही तो रहना है. घर के सब काम तो करने ही पड़ेंगे. पता नहीं क्या सोच कर उन्होंने मुझे अपनी बहू बनाया. मैं तो उन के जितनी पढ़ीलिखी नहीं, थक जाती हूं, मामाजी, क्या करूं अब?’’

तुषार ने कहा, ‘‘पहले आप लोग फ्रैश हो कर कुछ खाओ, फिर सोचते हैं क्या करना है.’’

लावण्या ने तान्या के भोले चेहरे पर पहली बार चिंता की लकीरें देखीं. फिर उसे बाथरूम में जाते देखा. लावण्या रसोई में व्यस्त हो गई. जब तक उस ने सब का खाना टेबल पर लगाया, नहाधो कर एकदम तैयार हाथ में बैग लिए तान्या को देख कर चौंकी. सब डाइनिंग टेबल पर बैठे थे. तुषार ने कहा, ‘‘बेटा, तैयार क्यों हो गई? कहीं जाना है क्या?’’

‘‘हां पापा, क्लास है मेरी, घाटकोपर जाना है.’’

लावण्या और तुषार चौंके, ‘‘क्या?’’

तान्या ने अपनी प्लेट में खाना रखते हुए कहा, ‘‘हां पापा, क्लास जा रही हूं, फाइनल में कम ही दिन बचे हैं,’’ बाकी मेहमानों की उपस्थिति का ध्यान रखते हुए उन पर नजर डालते हुए तान्या ने आगे कहा, ‘‘मम्मी, जल्दी निकलूंगी. स्नेहा से बाकी नोट्स भी लेने हैं. पहले ही बहुत देर हो गई है.’’

बाकी मेहमान तो नहीं समझे, लावण्या और तुषार बेटी का आशय समझ गए. तुषार मुसकराते हुए बस इतना ही बोले, ‘‘हां, देर तो हो गई है पर इतनी भी नहीं. अब भी समय है.’’

तुषार और लावण्या ने एकदूसरे को चमकती आंखों से देखा. उन की न सही, किसी और की ही सही, एक सीख से उन की बेटी ने कुछ करने की दिशा में आज एक कदम तो उठा ही लिया था.

COMMENT