करीब 4 दशकों पहले बिहार के दरभंगा से अमेरिका के न्यूजर्सी शहर में आए श्रीकांत के परिवार में सभी कुछ अच्छा ही चल रहा था कि अचानक दक्षिण अफ्रीका के एक मजदूर की बेटी ने उन के बेटे सुनील के जीवन में प्रवेश कर के उन के शांत परिवार में हलचल मचा दी.

श्रीकांत भले ही अमेरिकी संस्कृति में पूरी तरह से रचबस गए थे लेकिन उन की मानसिकता अभी भी भारतीय थी. सदियों से चली आ रही परंपराओं के जाल में उलझे ही रह गए थे. वही अंधविश्वास, वही पाखंड, वही रूढि़वादिता और वही आडंबरों की अमरबेल जो भारत से लाए थे उस से आज तक खुद को मुक्त नहीं कर पाए थे.

दूसरे को जीवनमुक्ति का संदेश देने वाले पंडित श्रीकांत इसे अपने दिल में कहां उतार पाए थे. यह बात और है कि उन्होंने न्यूजर्सी दुर्गा मंदिर में पूजाअर्चना करवा कर करोड़ों की संपत्ति अर्जित कर ली थी. पलक झपकते ही वे ग्रीनकार्ड हासिल कर के सालभर के बाद ही लंबी छलांग लगा कर अमेरिका के सम्मानित नागरिक भी बन गए थे. ज्यादातर लोग उन्हें पंडितजी कह कर ही बुलाते.

सभी धर्मों का यह लचीलापन ही है कि इन अकर्मण्यों का एक बड़ा समूह देशदुनिया के सभी वर्गों को अंगूठा दिखाते हुए घंटी, घंटा, बजा कर राज कर रहा है तो कहीं मीनारों से आवाज लगा कर कहर बरसाया जाता है. अंधविश्वासियों को ग्रहनक्षत्रों की तिलिस्मी दुनिया के चक्रव्यूहों में फंसा कर देखतेदेखते ही, बिना तिनका तोड़े, ये करोड़पति बन जाते हैं.

धर्मरूपी गलियारों को पार कर के कहीं सुदूर मिट्टी से जुड़े श्रीकांत आज अमेरिका के न्यूजर्सी में पैलेस औन व्हील में रह रहे हैं. सूर्योदय से रात के अंतिम पहर तक संस्कृत के कुछ गलतसलत मंत्र पढ़ कर घंटीशंख बजा कर डौलरों बटोर रहे हैं.

यही नहीं, पाश्चात्य कलेवरों में सजी, फर्राटेदार अंगरेजी बोलते युवकयुवतियां जब इन के चरणस्पर्श करते हैं तो श्रीकांतजी की आंखों की चमक देखते ही बनती है. कैमरे की आंखों से छिपा कर भक्तजन जब इन की मुट्ठी गरम करते हैं तो इन की प्रसन्नता मंदिर में चारों ओर प्रतिष्ठित देवीदेवताओं की मूर्तियों की मुसकान में प्रतिबिंबित होने लगती है.

ऊंची आवाज में बात करने की मनाही होने पर भी जोरों का जयकारा लग ही जाता है. मेवे, मिष्ठान, फलों व उपहारों के ढेर से अगर कुछ उठा कर किसी भक्त को दे देते हैं तो वह अपनी सारी काबिलीयत भूल कर इन के चरणों में बिछ जाता है.

सूतकनातक के संस्कारों को विधिवत कराने वाले, लयबद्ध मंत्रों से ब्याह की रस्मों को संपन्न कराने वाले, ग्रह, नक्षत्रों की उलटी गति को मूंगा, मोती, हीरा, पन्ना, गोमेद आदि कीमती रत्नों को पहना कर चुटकियों में सीधा करने का दावा करने वाले, प्रसिद्धि के शीर्ष पर विराजमान पंडितजी की ऐसी नियति हो गई थी कि न मक्खी निगलते बन रही थी न उगलते. काली घटा, सारा, ही बदली बन कर पंडितजी के आंगन में बरसेगी, उन का सुपुत्र सुनील अड़ा हुआ था.

यह तो चर्चा थी पंडितजी की अद्भुत महिमा की जो बिना किसी डिगरी या शैक्षणिक योग्यता के दुनिया के सब से प्रभुत्वशाली देश अमेरिका में अपनी अल्पबुद्धि से विजयश्री का नगाड़ा बजा कर वारेन्यारे कर रहे थे. ऐसे सुख के एक छोटे तिनके के लिए भी बड़ेबड़े बुद्धिजीवी तरस कर रह जाते हैं.

4 साल पहले ही अपने बड़े बेटे सुशील का रिश्ता एक गोरी अमेरिकी किशोरी से कर के यही पंडितजी बिछेबिछे जा रहे थे तो आज जब उन का दूसरा बेटा किसी दक्षिण अफ्रीकी अश्वेत लड़की के प्रति अनुरक्त था तो उस का इतना विरोध क्यों? अब प्रेमप्रीत की कोई जातिपांति तो होती नहीं है, वह तो अचानक ही दिल में होने वाली एक अति सुंदर प्रक्रिया है, जिस में भीगने वालों को किसी तरह का होश नहीं रहता है, अब श्रीकांतजी को कौन समझाए.

रोजाना विभिन्न देवीदेवताओं के अनुरक्त होने की, कमल नयनों के टकराने की रोचक गाथा, रस ले कर सुनाने वाले पंडितजी अपने सुपुत्र की चाहत क्यों नहीं समझ पा रहे हैं.

अति गोरे पंडितजी क्या उस दक्षिण अफ्रीकी के काले रंग पर तो नहीं अटक गए हैं? अब उन्हें कौन समझाए कि वह काली ही उन के बेटे के हृदय की मल्लिका बन बैठी है. अगर वे शादी की अनुमति नहीं भी देंगे तो इस की परवा ही कौन करता है. कानून उन्हें बांध कर एक कर ही देगा. ऐसे दिनरात काले राम, कृष्ण, काली, शनि आदि अति काले देवीदेवताओं का शृंगार कर के, उन के काले रंग पर प्रकाश डाल कर महिमा गान करने वाले पंडितजी की इस दोहरी मानसिकता पर कौन उंगली उठाए?

कथनीकरनी में फर्क करने वाले श्रीकांतजी को काली रंगत वाली सारा गले से नहीं उतर रही थी. सुनील को साम, दाम, दंड, व भेद सारी नीतियों से समझा चुके थे कि उस काली सारा का भूत अपने दिमाग से उतार दे जिस की मां मुसलिम है और बाप का पता तक नहीं है. पर सुनील इन की सुनने क्यों लगा. वह तो सिर से पांव तक उस काली बदली के प्यार की बौछार में भीग गया था. भारत होता तो यही पंडितजी 2-4 खड़ाऊं उसे लगा कर मन में भड़क रहे ज्वालामुखी को शांत कर लेते, पर इस परदेस की रीत ही निराली है. जहां आपा खोया नहीं कि पुलिस पकड़ कर सीधे जेल में डाल देती है.

अंधविश्वास, रूढि़वादिता व संकीर्णता के दलदल में फंसे रहने वालों का न्यारावारा करने वाले पंडितजी के पैर स्वयं ही धरती में धंसे जा रहे थे. उन्होंने तो सुनील को घर से निकल जाने की भी बात कह दी थी लेकिन उन की पत्नी ने ऐसी हायतोबा मचाई कि वे ऐसा नहीं कर सके. उन के दोनों बेटे तो ऐसा कुछ खास कमा नहीं रहे थे कि अलग अपनी गृहस्थी बसा लेते. फिर पंडितजी ठगीगीरी से कमाए गए अकूत धन के वारिस भी तो यही थे.

यह बात और थी कि बला की बुद्धि रखने वाले पंडितजी ने अपनी बड़ी बहू एलिस को कृष्ण की राधा की उपाधि दे कर अपने रहनसहन में ढाल लिया था. हिंदुस्तानी वेशभूषा में जब वह सज कर मंदिर के लंबेचौड़े प्रांगण में डोलती तो उस के अथाह छलकते रूप पर देखने वालों की आंखें हटाए नहीं हटती थीं. अपने टूटेफूटे शब्दों में जब वह गीता का श्लोक बोलती तो अंधविश्वास की भूलभुलैए में घूमते हिंदू चढ़ावे के साथ उस की भी चरण वंदना करने से नहीं चूकते थे. जिसे देख कर पंडितजी अपने द्वारा फेंके गए पाशे पर बलिहार जाया करते थे.

सरिता विशेष

सुनील की जिद से उन की नींद का उड़ना ठीक ही था. अपने गाढ़े रंग से काली घटाओं को भी शर्माती आधी मुसलिम सारा पर पंडितजी कौन सी जादुई छड़ी घुमाते कि वह भी एलिस की तरह सफेद रोशनी सी चमचमाती. पंडितजी का वहां पर भी तो समाज था जो उन से ऊपरी सहानुभूति प्रदर्शित करते हुए मन ही मन मनो लड्डू फोड़ रहा था.

सारा जैसी लड़कियों के माथे पर अब विश्व और ब्रह्मांड सुंदरी के ताज सज रहे हैं, ऐसे उदाहरणों से सुनील ने अपने व्यथित पिता को शीतल करना चाहा, पर असफल रहा. सारा को छोड़ कर किसी को भी जीवनसंगिनी बना ले, कह कर उन्होंने सुनील को समझाना चाहा पर वे उसे उस के निश्चय से डिगा नहीं सके.

निश्चित तिथि को सुनील ने सारा के साथ कोर्टमैरिज कर ली और उसे घर ले आया. पंडिताइन ने उन की आरती उतारी. पंडितजी के लाख मना करने के बावजूद हीरे, पन्ने, मोतियों आदि रत्नों से सजा अपना सतलड़ा हार सारा के गले में डाल दिया. इस असंभावित स्वागत से मुग्ध हो कर सारा ने उन्हें अपने से लिपटा लिया तो उस की विशाल काया में पंडिताइन की दुबलीपतली क्षीण काया लुप्त ही हो गई. अल्पशिक्षित पंडिताइन ने इसे अपना अच्छा समय समझा.

मन मार कर अपने मंदिर परिसर में अनेक मेहमानों को भ्रमित करते हुए पंडितजी ने सारा पर जरसी गाय का गोबर और गंगाजल छिड़क कर अग्नि के समक्ष अनगिनत मंत्रों का पाठ कर के, जो सभी की समझ से बाहर थे, उसे हिंदू बना लिया. सारा के काले, मोटे, भीमकाय रिश्तेदार पंडितजी की एकएक अदा पर झूम कर अपना वृहत मस्तिष्क झुलाते रहे थे.

न्यूजर्सी के सब से बड़े शानदार होटल में नई बहू के आगमन के उपलक्ष्य में पंडितजी ने बहुत बड़ी पार्टी दी. पार्टी में उन के अतिशिक्षित, उच्च पदस्थ भक्तजन कीमती तोहफों और बड़ेबड़े मौल के उपहारकार्डों के साथ सम्मिलित हुए. अमेरिकी भी बड़ी संख्या में उपस्थित थे जो हमेशा की तरह उन की धार्मिक व सामाजिक उदारता को दर्शा रहा था. इस आयोजन में कौन, किस को अनुगृहित कर रहा था, समझ से परे था.

भारतीय दुलहन के लिबास में सारा जंच रही थी. यहां पर ही भारतीय सभ्यता और संस्कृति की बेमिसालता अवर्णनीय हो जाती है जो बदसूरतों को भी कमनीय और खूबसूरत बना जाती है. सारा की रूपछटा पर जहां पंडितजी का सुपुत्र मुग्ध हुआ जा रहा था वहीं पर उस की हंसी काले बादल के बीच बिजली की तरह चमक कर पंडितजी की छाती को बेध, उन्हें भस्म किए जा रही थी.

सामूहिक पारिवारिक फोटो के लिए जब उन की दोनों बहुएं स्टेज पर एकसाथ खड़ी हुईं तो ऐसा प्रतीत हो रहा था कि मानो दिनरात एकदूसरे से गले मिल रहे हों. दिखावे के लिए ही हो, पर पंडित अपनी पंडिताइन के साथ लोगों की बधाइयों के भार से दुहरे हुए जा रहे थे. मौमडैड कह कर सारा का उन दोनों से लिपटना पंडितजी के लिए असहनीय हो रहा था. रिश्तेदारों की कुटिल हंसी और चुभती नजर से आहत हो कर, विश्व बंधुत्व का राग हमेशा अलापने वाले पंडितजी उतनी ठंड में भी पसीने से भीग गए थे.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं