पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शहर के एक पार्क में बिजली गिरने से युवा क्रिकेटर की मौत पर शोक व्यक्त किया. सीएम ममता बनर्जी ने नेताजी इंडोर स्टेडियम में मेधावी छात्रों को सम्मानित करने के एक कार्यक्रम के दौरान कहा, ‘‘बिजली गिरने से हमारे युवा क्रिकेटर की मौत हो गई. मैं बहुत दुखी हूं. प्रकृति बहुत खतरनाक है. प्राकृतिक आपदा को नियंत्रित नहीं किया जा सकता है.’’ बता दें कि उभरते हुए 21 साल के हरफनमौला क्रिकेटर देवब्रत पाल की अभ्यास के दौरान कोलकाता के विवेकानंद पार्क में बिजली गिरने से मौत हो गई थी.

क्लब के सचिव अब्दुल मसूद ने बताया कि हुगली जिले के श्रीरामपुर के हरफनमौला खिलाड़ी देवब्रत पौल पिछले महीने दक्षिण कोलकाता स्थित विवेकानंद पार्क के कलकत्ता क्रिकेट अकादमी से जुड़ा था. आकाशीय बिजली गिरने से उसकी मृत्यु हो गई.

उन्होंने कहा, ‘‘हम दोपहर में अभ्यास सत्र की शुरुआत करने वाले थे. देवव्रत वार्मअप के लिए मैदान पर उतरा ही था कि तभी आकाशीय बिजली गिरी और वह अचानक बेहोश हो गया. इसके बाद हम उनके पास पहुंचे और उन्हें होश में लाने की कोशिश की. लेकिन उनके होश में न आने के बाद उन्हें रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान ले जाया गया, जहां चिकित्कों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया.’’

sports

बता दें कि देवव्रत एक बल्लेबाज के साथ-साथ एक बेहतरीन गेंदबाज भी थे. वह एक शानदार औलराउंडर खिलाड़ी थे. देवव्रत पूरी तरह से अपने क्रिकेट पर फोकस कर रहे थे और इसके लिए काफी मेहनत भी कर रहे थे. वह अपने प्रदर्शन के दम पर टीम इंडिया में जगह बनाना चाहते थे. देवव्रत का सपना टीम इंडिया की जर्सी पहनकर अपने देश के लिए खेलना था.

देवव्रत क्रिकेट को लेकर काफी गंभीर थे. वह रोजाना मैदान पर प्रैक्टिस करने आते थे. देवव्रत की इस तरह अचनाक मृत्यु से कोच, साथी खिलाड़ी, दोस्त और अकादमी का सारा स्टाफ बेहद दुखी है.

देवव्रत की मौत की सूचना जब उनके परिवारवालों को दी गई तो वह बुरी तरह से टूट गए. परिवार वालों को सिर्फ देवव्रत का पार्थिव शरीर देखने को मिला. देवव्रत के पिता दीपक पौल को फोन के जरिए उसकी मृत्यु की खबर मिली. इस हादसे में देवव्रत के साथी खिलाड़ी भी बाल-बाल बचे, क्योंकि सभी वहीं मैदान पर आसपास मौजूद थे.